• search

Chandrayaan-1 से चांद पर बर्फ की मौजूदगी का पता चला : NASA

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    वाशिंगटन। अमेरिकी एजेंसी नासा ने दावा किया है कि उसे चंद्रयान-1 के जरिए जानकारी मिली है कि चांद के ध्रुवीय इलाकों पर बर्फ मौजूद है। नासा ने मंगलवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि चांद के ध्रुवीय इलाकों पर बर्फ मौजूद है। आपको बता दें कि चंद्रयान-1 में नासा का एक उपकरण मून मिनरलॉजी मैपर इंस्‍ट्रूमेंट भी लगा था, जिससे उसे बर्फ वाली जानकारी प्राप्त हुई है।

    चांद पर बर्फ की मौजूदगी का पता चला

    चांद पर बर्फ की मौजूदगी का पता चला

    नासा के मुताबिक चंद्रमा की सतह पर कुछ मिलीमीटर तक बर्फ मिलने से यह संभावना बनती है कि उस बर्फ का इस्तेमाल भविष्य की चंद्र यात्राओं में संसाधन के रूप में किया जा सकता है।

    यह भी पढ़ें:लखनऊ में मनेगी ईको-फ्रेंडली बकरीद, लोगों ने कहा-जानवर नहीं केक काटेंगे

    बर्फ की उपस्थिति

    बर्फ की उपस्थिति

    चांद के दक्षिण पोल पर जो गड्ढे मौजूद हैं उनमें बर्फ है इसके अलावा उत्तर पोल पर भी चौड़ी बर्फ की जानकारी मिली है। इसका अर्थ ये हुआ कि चांद पर बर्फ की उपस्थिति पर्याप्त मात्रा में मौजूद है।

     चंद्रयान-1

    चंद्रयान-1

    आपको बता दें कि चंद्रयान-1 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के चंद्र अन्वेषण कार्यक्रम के अंतर्गत द्वारा चंद्रमा की तरफ कूच करने वाला भारत का पहला अंतरिक्ष यान था। इस अभियान के अन्तर्गत एक मानवरहित यान को 22अक्टूबर, 2008 को चन्द्रमा पर भेजा गया और यह 30 अगस्त, 2009 तक सक्रिय रहा था।

    पोलर सेटलाईट लांच वेहिकल

    पोलर सेटलाईट लांच वेहिकल

    यह यान ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन यान (पोलर सेटलाईट लांच वेहिकल, पी एस एल वी) के एक संशोधित संस्करण वाले राकेट की सहायता से सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपित किया गया था। चंद्रयान का उद्देश्य चंद्रमा की सतह के विस्तृत नक्शे और पानी के अंश और हीलियम की तलाश करना था।

    यह भी पढ़ें: ब्राइडल लुक में सपना चौधरी को देख फैंस हुए क्रेजी, तारीफों के बांधे पुल, देखें तस्वीरें

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Scientists have found frozen water deposits in the darkest and coldest parts of the Moon’s polar regions using data from the Chandrayaan-1 spacecraft that was launched by India 10 years ago, NASA said on Tuesday.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more