• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कनाडा चुनाव में बाजीगर नहीं बन पाए प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो, जीतकर भी 'हार' गई लिबरल पार्टी

|
Google Oneindia News

ओटावा, सितंबर 21: कनाडा में दो साल पहले चुनाव कराने का दांव प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो पर करीब करीब उल्टा पड़ गया और वो भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बनते बनते बच गये। आपको याद होगा कि अटल बिहारी बाजपेयी ने अपने शासन के पांच साल पूरे होने से पहले ही चुनाव कराने का ऐलान करते हुए सरकार को भंग कर दिया था और फिर चुनाव में बीजेपी हार गई थी। कुछ कुछ ऐसा ही कनाडा चुनाव में भी हुआ है। हालांकि, जस्टिन ट्रूडो बाजपेयी की तरह हारे तो नहीं है, लेकिन वो बाजीगर भी नहीं बन पाए।

बाजीगर नहीं बन पाए जस्टिन ट्रूडो

बाजीगर नहीं बन पाए जस्टिन ट्रूडो

कनाडा की कंजर्वेटिव पार्टी के नेता एरिन ओ'टोल ने चुनाव में हार मान ली है, लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी अपील के बावजूद, कनाडाई लोगों ने उन्हें वह बहुमत नहीं दिया जो वह चाहते थे। कनाडा चुनाव में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को बड़ा झटका लगा है और ट्रूडो की लिबरल पार्टी बहुमत से कम सीटें ही हासिल कर पाई। ट्रूडो की पार्टी ने हालांकि, संसद में सबसे ज्यादा सीटें तो हासिल कर ली है, लेकिन बहुमत का आंकड़ा छूने में उनकी पार्टी नाकाम रही। जस्टिन ट्रूडो, जो 2015 से कनाडा के प्रधानमंत्री हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए चुनाव लड़ रहे थे, उन्हेंने कोविड-19 महामारी से निपटने को अपने अभियान को चुनाव में केंद्र बिंदु बनाया था। दूसरी तरफ विपक्ष, विशेष रूप से ओ'टोल ने बढ़ते कोविड -19 मामलों के बीच चुनाव के लिए ट्रूडो के "स्वार्थी" आह्वान पर एक जनमत संग्रह के रूप में चुनाव लड़ा था।

कनाडा चुनाव में अब तक के परिमाण

कनाडा चुनाव में अब तक के परिमाण

कनाडा में चुनावी परिणामों की बात करें तो जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी 148 सीटों पर आगे है, जबकि कंजरवेटिव पार्टी ने उन्हें तगड़ी चुनौती देते हुए 103 सीटें जीत ली हैं। कनाडा में लोकसभा की 338 सीटें हैं और बहुमत के लिए किसी पार्टी को 170 सीटें चाहिए। वहीं, ब्लॉक क्यूबेकोइस पार्टी 28 और वामपंथी न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी को 22 सीटों पर आगे है। अबतक के चुनावी रूझानों के आधार पर अब लग नहीं रहा है कि जस्टिन ट्रूडो बहुमत के जादुई आंकड़े को छू पाएंगे और इसके साथ ही ये भी साबित हो गया है कि पिछले शासन की तरह इस बार भी कोई बिल पास कराने के लिए जस्टिन ट्रूडो को दूसरी पार्टियों पर निर्भर रहना होगा।

कितनी पार्टियों ने लड़ा था चुनाव?

कितनी पार्टियों ने लड़ा था चुनाव?

कनाडा संसदीय चुनाव में 6 पार्टियों ने चुनावी मैदान में अपना भाग्य आजमाया था। जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी, एरिन ओ'टोल की कंजरवेटिव पार्टी, जगमीत सिंह की न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी, मैक्सिम बर्नियर की पीपुल्स पार्टी, यवेस-फ्रेंकोइस ब्लैंचेट की ब्लॉक क्यूबेकॉइस और एनामी पॉल की ग्रीन पार्टी ने चुनाव लड़ा था। कनाडा की संसद के निचले सदन हाउस ऑफ कॉमन्स में 338 सीटें (प्रत्येक जिले के लिए एक सीट) हैं। बहुमत हासिल करने के लिए एक पार्टी को 170 सीटों की जरूरत होती है। भारत की तरह ही कनाडा में लोग सीधे प्रधानमंत्री को वोट नहीं देते हैं। 338 जिलों में से प्रत्येक में मतदाता हाउस ऑफ कॉमन्स में उनका प्रतिनिधित्व करने के लिए एक स्थानीय उम्मीदवार को वोट देते हैं। यदि, यदि कोई दल बहुमत तक नहीं पहुंचता है, तो मौजूदा प्रधान मंत्री को गठबंधन बनाकर नई सरकार बनाने का पहला मौका मिलता है, जैसा कि भारत में होता है।

कब आएंगे पूर्ण नतीजे?

कब आएंगे पूर्ण नतीजे?

चुनाव किस दिशा में जाएगा इसका संकेत मंगलवार देर रात तक पता चल सकता है। अंतिम परिणाम गुरुवार तक नहीं आएंगे क्योंकि रिकॉर्ड 12 लाख कनाडाई लोगों ने मेल-इन मतपत्रों के माध्यम से मतदान किया है। ओंटारियो और क्यूबेक, सबसे अधिक आबादी वाले प्रांत हैं, लिहाजा अगली सरकार का निर्धारण करने में ये दोनों राज्य काफी महत्वपूर्ण हैं।

दो साल पहले चुनाव क्यों कराया गया?

दो साल पहले चुनाव क्यों कराया गया?

2019 के चुनाव में जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी 155 सीटों के साथ संसद में बहुमत हासिल करने में विफल रही थी। जस्टिन ट्रूडो को शासन करने और कानून पारित करने के लिए अन्य दलों पर निर्भर रहना पड़ा। अगस्त में हुए जनमत सर्वेक्षणों ने उन्हें प्रभावी महामारी प्रबंधन के दम पर अपने प्रतिद्वंद्वियों से बहुत आगे दिखाया गया। कनाडा में दुनिया की सबसे अधिक टीकाकरण दर है। जनमत सर्वेक्षण के नतीजों से उत्साहित ट्रूडो ने संसदीय बहुमत हासिल करने की उम्मीद में मध्यावधि चुनाव कराने का आह्वान किया। चुनाव प्रचार के दौरान, ट्रूडो ने जोर देकर कहा कि लिबरल पार्टी की बहुमत वाली सरकार ही कोविड -19 को हरा सकती है और रिकवरी का रास्ता तय कर सकती है। हालांकि, जब से उन्होंने 15 अगस्त को चुनाव की घोषणा की, ट्रूडो की अनुमोदन रेटिंग गिर गई है।

कनाडा चुनाव में मुख्य मुद्दे क्या थे?

कनाडा चुनाव में मुख्य मुद्दे क्या थे?

  • राष्ट्रीय ऋण

चुनाव अभियान के दौरान, ट्रूडो के प्रतिद्वंद्वियों, विशेष रूप से एरिन ओ'टोल, जो एक सैन्य दिग्गज और पूर्व वकील हैं, उन्होंने कोविड-19 से निपटने के लिए लिबरल पार्टी द्वारा लिए गए 785.7 बिलियन डॉलर के रिकॉर्ड राष्ट्रीय ऋण को बार-बार उजागर किया। रॉयटर्स ने बताया कि राष्ट्रीय ऋण ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से बजट घाटे को उच्चतम स्तर पर धकेल दिया।

  • वैक्सीन जनादेश

प्रशासन द्वारा शुरू किए गए वैक्सीन जनादेश ने ट्रूडो को अभियान के दौरान एंटी-वैक्सर्स द्वारा गाली-गलौज और परेशान होते देखा। सितंबर के पहले सप्ताह में ओंटारियो में एक रैली के दौरान उन पर पथराव भी किया गया था। ट्रूडो ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों और ट्रेनों और उड़ानों में यात्रा के लिए कोविड -19 टीके अनिवार्य होंगे। ओ'टोल ने कहा कि वह टीकों को अनिवार्य नहीं करेंगे और बार-बार परीक्षण के पक्ष में थे।

  • बढ़ता आवास बिल

ट्रूडो के विरोधियों ने बढ़ती महंगाई, पेट्रोल, आवास और किराना बिलों में बढ़ोतरी पर सत्तारूढ़ दल को घेरने की कोशिश की। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रूडो के सत्ता में आने के बाद से आवास की कीमतों में लगभग 70 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उन्होंने अगले चार वर्षों में 14 लाख घरों के निर्माण और मरम्मत का वादा किया है।

चुनाव में भारत के लिए क्या दांव पर है?

चुनाव में भारत के लिए क्या दांव पर है?

इस बार के कनाडा चुनाव में भारतीय मूल के 49 उम्मीदवार चुनाव में मैदान में थे, जिनमें कैबिनेट मंत्री हरजीत एस सज्जन, बर्दीश चागर और अनीता आनंद शामिल थे। 2019 के चुनाव में 20 भारतीय-कनाडाई सांसद चुने गए। इंडो-कनाडाई लोगों ने आम तौर पर चुनावों में लिबरल पार्टी का समर्थन किया है। उन्होंने 2015 के चुनावों में पार्टी को बहुमत हासिल करने में मदद की थी। भारत कनाडा के लिए अप्रवासियों और अंतर्राष्ट्रीय छात्रों का सबसे बड़ा स्रोत है। अपने एक्सप्रेस एंट्री कार्यक्रम के माध्यम से, ट्रूडो प्रशासन ने 2015 से कनाडा में आप्रवासन का विस्तार किया है। आप्रवासन पर 2020 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय अप्रवासियों ने 2019 में कनाडा द्वारा दिए गए कुल स्थायी निवासों का एक-चौथाई हिस्सा लिया। कनाडा 2016 में जहां 39,340 भारतीयों को कनाडा की नागरिकता दी गई थी, वहीं 2019 में ये आंकड़ा बढ़कर 85,593 हो गया।

भारत-कनाडा संबंध में खटास

भारत-कनाडा संबंध में खटास

हालांकि, पिछले कुछ सालों में भारत और कनाडा के बीच संबंधों में हाल ही में खटास आ गई है। खासकर तब जब प्रधानमंत्री ट्रूडो ने विवादास्पद तीन कृषि बिलों के खिलाफ भारत में चल रहे किसान विरोध पर चिंता व्यक्त की थी। ट्रूडो ने कहा था कि स्थिति "संबंधित" है और उनका देश "शांतिपूर्ण विरोध के अधिकारों की रक्षा के लिए वहां रहेगा"। हालांकि, भारत ने टिप्पणियों को अनुचित बताते हुए खारिज कर दिया था। फरवरी में ट्रूडो इस मुद्दे को कम करते हुए दिखाई दिए और आंदोलनकारी किसानों के साथ बातचीत करने के लिए सरकार की प्रशंसा की थी।

कनाडा चुनाव: जस्टिन ट्रूडो का फिर प्रधानमंत्री बनना करीब-करीब तय, कांटे की टक्कर में मिली बढ़तकनाडा चुनाव: जस्टिन ट्रूडो का फिर प्रधानमंत्री बनना करीब-करीब तय, कांटे की टक्कर में मिली बढ़त

English summary
Prime Minister Justin Trudeau has missed out on an absolute majority in the Canadian parliamentary election. Know why Justin Trudeau was disappointed even after holding elections 2 years ago?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X