• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

इनवेस्‍टर ने ग्राहकों को महिलाओं के प्राइवेट पार्ट जैसा बताया, कहा- उनसे डील करना लड़की के पैंट के अंदर जाने के समान

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली। एक निवेशक ने अंतरराष्‍ट्रीय कॉन्‍फ्रेंस में एक ऐसी टिप्‍पणी कर दी है जिसके बाद विवाद पैदा हो गया है। इन निवेशक ने नए ग्राहकों की तुलना महिलाओं के जननांगों से कर डाली है। इनका नाम है केन फिशर और यह अमेरिका के अरबपति निवेशक हैं। फिशर ने नए क्‍लाइंट्स के साथ डील करने को बिल्‍कुल किसी लड़की के पैंट के अंदर जाने के समान बताया है। फिशर ने मंगलवार को सैन फ्रांसिस्‍को में जारी एक कॉन्‍फ्रेंस के दौरान यह टिप्‍पणी की है। हालांकि बाद में विवाद बढ़ने पर उन्‍होंने अपनी सफाई भी पेश की है।

 क्‍या थी फिशर की टिप्‍पणी

क्‍या थी फिशर की टिप्‍पणी

फिशर ने कॉन्‍फ्रेंस में कहा था, 'मैं नहीं चाहता कि आप मुझे एपस्टिन के साथ कन्‍फ्यूज करें जो महिलाओं का पैंट उतार देता था। मगर मैं बिल्‍कुल भी बूढ़े लड़कों के क्‍लब में शामिल नहीं होना चाहता हूं।' रेचेल रोबास्किोटी जो वहां पर मौजूद थीं, उन्‍होंने फिशर की इस टिप्‍पणी को सुना था। फिशर अपनी बात के जरिए उस आरोपी की तरफ इशारा कर रहे थे जो लगातार सेक्‍स क्राइम में शामिल था। इस कार्यक्रम की मेजबानी टिब्‍यूरॉन स्‍ट्रैटेजिक एडवाइजर्स की तरफ से की गई थी। इसमें एंट्री के लिए प्रति व्‍यक्ति 25,000 डॉलर की फीस तय की गई थी और आमंत्रित ज्‍यादातर लोग इनवेस्‍टमेंट प्रोफेशनल्‍स थे। रोबास्किोटी ने बताया कि 220 में से सिर्फ 15 ही महिलाएं थीं। कुछ लोगों ने फिशर की टिप्‍पणी के खिलाफ आवाज उठाई थी।

फिशर की टिप्‍पणी से हर कोई दुखी

फिशर की टिप्‍पणी से हर कोई दुखी

फिशर की इस टिप्‍पणी के बाद उस तरफ ध्‍यान गया है कि किस तरह से निवेश के क्षेत्र में शामिल महिलाओं को अक्‍सर सेक्सिज्‍म का सामना करना पड़ता है।रोबास्किोटी ने कहा कि जब हम लोगों को बताते हैं कि उन्‍हें महिलाओं को इस नजरिए से देखना है तो फिर हम भी बाकी पुरुषों की ही तरह हो जाते हैं जिनकी सोच बहुत छोटी होती है। उन्‍होंने कहा कि फिशर इस कॉन्‍फ्रेंस के जरिए लोगों को यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि जो लोग सफल नहीं हैं, उन्‍हें दुनिया को किस तरह से देखने की कोशिश करनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि हर कोई दुखी था और किसी ने भी इस तरह की बात कभी नहीं सुनी थी।

अपनी बात से मुकरते फिशर

अपनी बात से मुकरते फिशर

फिशर ने अपनी इस टिप्‍पणी के लिए हालांकि माफी मांग ली है। उनका कहना है कि उन्‍हें इस तरह की बात नहीं कहनी चाहिए थी। फिशर के शब्‍दों में, 'मेरे कुछ शब्‍द जो मैंने अपनी बात रखने के लिए प्रयोग किए वह गलत थे और मुझे इस तरह की टिप्‍पणी नहीं करनी चाहिए थी। मुझे अहसास हुआ कि इस तरह की भाषा का हमारी कंपनी या फिर इंडस्‍ट्री में कोई स्‍थान नहीं है। मैं तहे दिल से माफी मांगता हूं।' वहीं कुछ लोगों ने दावा किया है कि फिशर ने ब्‍लूमबर्ग को दिए अपने इंटरव्‍यू में अपनी टिप्‍प्‍णी को ज्‍यादा तवज्‍जो नहीं।

फिशर की बातें परेशान करने वालीं

फिशर की बातें परेशान करने वालीं

ब्‍लूमबर्ग को दिए इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा, 'मैं बहुत सी बातें कहता रहता हूं, कई बार और कई जगहों पर और इस तरह की बातों को कोई ज्‍यादा प्रतिक्रिया नहीं देता है और न ही कभी प्रतिक्रिया दी गई।' कॉन्‍फ्रेंस में आए एलेक्‍स शेलकियन जो इनवेस्‍टमेंट फर्म लेक एवेन्‍यू फाइनेंशियल के फाउंडर हैं उनका कहना है कि फिशर ने जो कुछ भी कहा वह वाकई डराने वला है। उन्‍होंने कहा कि फिशर ने महिलाओं के जननांगों पर टिप्‍पणी की। उन्‍होंने एक लड़की का जिक्र किया और जेफ्री एपस्टिन की बात की। यह वाकई डराने वाला और परेशान करने वाला है।

English summary
Billionaire investor Ken Fisher sparked a controversy this week over a sexist comment at an investment conference.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X