• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिका में नौकरी का सपना देख रहे लोगों को डोनाल्ड ट्रंप ने दिया बड़ा झटका, H-1B वीजा का बदला नियम

|

वॉशिंगटन। अमेरिका में नौकरी करने का सपना देख रहे भारतीय आईटी प्रोफेशनल को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बड़ा झटका दिया है। डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किया है, जिसके बाद देश के बाहर के लोग अमेरिका में नौकरी करना चाहते हैं उनके साथ अमेरिकी कंपनियां कॉन्ट्रैक्ट नहीं कर पाएंगी। इस आदेश का सबसे अधिक असर एच-1बी वीजा धारकों को होगा। इस आदेश के बाद अब वो तमाम कंपनियां जो एच-1बी वीजा के आधार पर ही दूसरे देश के लोगों को नौकरी देती हैं, वह अब ऐसा नहीं कर पाएंगी। बता दें कि 23 जून को डोनाल्ड ट्रंप ने एच-1बी वीडा को सस्पेंड कर दिया था, ट्रंप सरकार ने 24 जून से ही इस आदेश को लागू कर दिया था, जोकि इस वर्ष के अंत तक लागू रहेगा।

    America में नौकरी का सपना देख रहे लोगों को झटका, Trump ने H-1B Visa के नियम बदले | वनइंडिया हिंदी

    जानिए क्या है वो ऐतिहासिक Israel-UAE Peace Deal जिस पर Nobel के लिए हुआ ट्रंप का नामांकन

    trump

    सोमवार को मीडिया से बात करते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि आज मैं एग्जेक्युटिव ऑर्डर पर हस्ताक्षर कर रहा हूं ताकि इस बात की पुष्टि कर सकूं कि फेडरल सरकार बेहद आसान नियमों से चलती, अमेरिकी लोगों को नौकरी दें। हमारी सरकार यह बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी की मेहनतकश अमेरिकी लोगों को सस्ते विदेशी लेबर के लिए नौकरी से बाहर निकाला जाए। ट्रंप ने कहा कि एच-1बी वीजा के नियमों में बदलाव से अमेरिकी लोगों को एक बार फिर से नौकरी मिलेगी। एच-1बी वीजा का इस्तेमाल सिर्फ बहुत अधिक प्रतिभाशाली और हाई सैलरी वालों के लिए उपयुक्त होगा, नाकि अमेरिकी लोगों का रोजगार छीनने के लिए।

    आपको बता दें कि एच-1बी वीजा एक गैर-प्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को विशेषज्ञता के आधार पर विदेशी कर्मचारियों को नौकरी पर रखने की अनुमति देता है, जिसके लिए अतिविशिष्ट ज्ञान और किसी खास क्षेत्र में स्नातक या उच्च डिग्री की जरूरत पड़ती है। तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 2015 में यह आदेश जारी किया था, जिसमें कुछ श्रेणियों के एच-4 वीजाधारकों खासतौर से ग्रीन कार्ड का इंतजार कर रहे एच-1बी वीजाधारकों के जीवनसाथियों को अमेरिका में रहकर काम करने की अनुमति का प्रावधान है। इस वीजा के जरिए प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हर साल दसियों हजार कर्मचारियों की भर्ती करती हैं।

    इसे भी पढ़ें- राष्ट्रपति ट्रंप ने TikTok को दिया 45 दिनों का वक्त, माइक्रोसॉफ्ट से डील नहीं होने पर लगेगा बैन

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Big setback for indian IT professionals Donald Trump bans H-1B visa for hiring and contracts.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X