• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

AUKUS समझौता: परमाणु पनडुब्बी में आख़िर ऐसा क्या ख़ास है

By BBC News हिन्दी
Google Oneindia News
AUKUS समझौता
Reuters
AUKUS समझौता

ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने ब्रिटेन और अमेरिका के साथ एक ऐतिहासिक रक्षा समझौता किया है जिसके तहत परमाणु ताक़त से लैस पनडुब्बियों का बेड़ा तैयार किया जाएगा.

ये पनडुब्बियां ऑस्ट्रेलिया के तटीय इलाकों और उसके जल क्षेत्र की सुरक्षा और निगरानी के काम लाई जाएंगी.

'परमाणु युग' की शुरुआत के साथ ही 1940 के दशक में न्यूक्लियर पावर से चलने वाले समुद्री जहाज़ों पर रिसर्च का काम शुरू हो गया था.

उसके बाद से केवल छह देशों के पास ही परमाणु ताक़त से लैस पनडुब्बियों की ताक़त है. ये देश हैं चीन, फ्रांस, भारत, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका.

ऐसे में ये सवाल पूछा जा सकता है कि आख़िर एक 'न्यूक्लियर सबमरीन' में परमाणु ताक़त का क्या इस्तेमाल होता है और इसका मतलब क्या है?

फ्रांस ने अमेरिका,ऑस्ट्रेलिया से राजदूत वापस बुलाने के बाद ब्रिटेन को भी दिया झटका

चीनी मीडिया ने क्यों कहा- भारत अमेरिका का सहयोगी नहीं, दूसरा अमेरिका बनना चाहता है

परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी
EPA
परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी

शक्तिशाली ऊर्जा

पहली बात तो हमें ये समझ लेनी चाहिए कि परमाणु ताक़त से लैस पनडुब्बी का ये मतलब नहीं है कि वो कोई परमाणु हथियार है. ऊपर से ये सामान्य पनडुब्बियों की तरह लगती हैं. लेकिन प्रमुख अंतर उस ऊर्जा का है जिसकी मदद से ये चलती हैं.

परमाणु ऊर्जा पर रिसर्च के शुरुआती दिनों में ही वैज्ञानिकों को ये बात समझ में आ गई थी कि परमाणुओं के विखंडन से निकलने वाली ऊर्जा की विशाल मात्रा का इस्तेमाल बिजली पैदा करने में किया जा सकता है.

दुनिया भर में पिछले 70 सालों से बिजली संयंत्रों में लगे न्यूक्लियर रिएक्टर्स बिजली पैदा करके घरों और उद्योगों को रोशन कर रहे हैं. ठीक इसी तरह से एक परमाणु पनडुब्बी के भीतर न्यूक्लियर रिएक्टर लगा होता है और वही उसकी ऊर्जा का स्रोत होता है.

हरेक परमाणु का नाभिक प्रोटॉन और न्यूट्रॉन्स से बना होता है. परमाणुओं के विखंडन की प्रक्रिया में बड़ी मात्रा में ऊर्जा पैदा होती है. परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बियों में ईंधन के लिए यूरेनियम का इस्तेमाल होता है.

प्राकृतिक यूरेनियम में दो तरह के आइसोटोप (समस्थानिक) होते हैं- यू 235 और यू 238. एक तत्व के परमाणु जिनकी परमाणु संख्या तो समान होती हैं, परन्तु भार अलग-अलग होता है, उन्हें आइसोटोप यानी समस्थानिक कहा जाता है.

चीन क्या अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए दाँव से चित हो जाएगा?

चीन के किस डर से अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया साथ आने पर हुए मजबूर

परमाणु ऊर्जा
Reuters
परमाणु ऊर्जा

माना जाता है कि यू-235 का इस्तेमाल हथियार बनाने या ऊर्जा के उत्पादन के लिए किया जाता है. लेकिन अयस्क में यू-238 की मात्रा अधिक होती है. इस कारण यू-235 को अलग करने के लिए ख़ास तरह के सेंट्रीफ्यूज़ की ज़रूरत होती है.

न्यूक्लियर रिएक्टर के काम करने के लिए यूरेनियम फ़्यूल को शोधित करना होता है ताकि यू-235 की मात्रा को वांछित स्तर पर लाया जा सके. सबमरीन में ये स्तर 50 फ़ीसदी तक होता है.

न्यूक्लियर रिएक्टर में 'श्रृंखलाबद्ध प्रतिक्रिया' के लिए परमाणु ईंधन का संवर्धन काफी मायने रखता है, इसी से नियमित और सुरक्षित स्तर पर ऊर्जा का उत्पादन संभव हो पाता है.

रिएक्टर के भीतर यूरेनियम 235 पर न्यूट्रॉन्स की बमबारी की जाती है जिससे परमाणु विखंडन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है और नतीज़ा ये होता है कि और न्यूट्रॉन्स रिलीज़ होते हैं. विज्ञान में इसी प्रक्रिया को 'श्रृंखलाबद्ध नाभिकीय प्रतिक्रिया' कहते हैं.

ये ऊर्जा ऊष्मा के रूप में प्राप्त होती है और इसका इस्तेमाल पनडुब्बी के भीतर बिजली पैदा करने के लिए टरबाइन चलाने के काम में लिया जाता है.

चीन ने अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया की गुटबंदी का निकाला ये तोड़

अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुआ ऑकस समझौता क्या है, जिसे लेकर चीन नाराज़ है

परमाणु ऊर्जा
Science Photo Library
परमाणु ऊर्जा

परमाणु ऊर्जा के फ़ायदे और नुक़सान क्या हैं?

परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बी का सबसे बड़ा फ़ायदा ये होता है कि उन्हें फिर से ईंधन लेने की ज़रूरत नहीं पड़ती है. किसी परमाणु पनडुब्बी को जब ड्यूटी पर उतारा जाता है तो उसमें ईंधन के रूप में यूरेनियम की इतनी मात्रा मौजूद होती है कि वो अगले 30 सालों तक काम करते रह सकती है.

डीज़ल से चलने वाली पारंपरिक सबमरीन की तुलना में परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी लंबे समय तक तेज़ रफ़्तार से काम कर सकती हैं. इसकी एक और ख़ास बात है. पारंपरिक कम्बस्टन इंजन के विपरीत इस पनडु्ब्बी को हवा की ज़रूरत नहीं पड़ती.

इसका मतलब ये हुआ कि एक न्यूक्लियर सबमरीन महीनों तक गहरे पानी में रह सकती है. उसे लंबे सफ़र पर दूरदराज़ के इलाकों में खुफिया अभियानों पर भेजा जा सकता है. लेकिन इसका एक नकारात्मक पहलू भी है. इसकी लागत बहुत ज़्यादा पड़ती है.

एक न्यूक्लियर सबमरीन को तैयार करने में अरबों डॉलर का खर्च आता है और इसे परमाणु विज्ञान के अनुभवी और जानकार लोग ही बना सकते हैं. ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों और सरकारी एजेंसियों न्यूक्लियर साइंस से जुड़े विषयों पर ट्रेनिंग प्रोग्राम्स चलाए जाते हैं और माना जा रहा है कि ऑस्ट्रेलिया इस सिलसिले में प्रशिक्षित वर्कफोर्स की बढ़ती मांग को पूरा करने में सक्षम है.

इसके अलावा उसे ब्रिटेन और अमेरिका से हुए समझौते के कारण उनके अनुभवों का भी फायदा मिलेगा. हालांकि अभी ये बात साफ़ नहीं है कि ऑस्ट्रेलिया के लिए जो परमाणु पनडुब्बियां बनाई जाएंगी, उसका ईंधन कहां से आएगा लेकिन ऑस्ट्रेलिया के पास यूरेनियम के भंडार पहले से मौजूद हैं. उसके पास इनके संवर्धन की क्षमता नहीं है जिससे इन्हें न्यूक्लिय फ़्यूल में बदला जा सकता है लेकिन ये तकनीक दूसरे देशों से खरीदी जा सकती है.

फ़्रांस ने अब अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया को बताया 'झूठा’

फ़्रांस हुआ और सख़्त, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी
Reuters
परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी

परमाणु कचरे का क्या होगा?

ऑस्ट्रेलिया में साल 2015 में न्यूक्लियर फ़्यूल साइकिल रॉयल कमीशन का गठन किया गया था.

कमीशन ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया में रेडियोएक्टिव कचरे का लंबे समय के लिए रखरखाव किया जा सकता है.

लेकिन अगर ऐसा होता है तो इसमें कोई शक़ नहीं कि आने वाले सालों में संघीय और प्रांतीय सरकार के बीच इसे लेकर बातचीत होगी.

और बातचीत के नतीज़े पर ही काफी कुछ निर्भर करेगा.

ऑस्ट्रेलिया से समझौते पर अमेरिका और ब्रिटेन की हो रही है आलोचना

पीएम मोदी ने चीन को लेकर यह हिम्मत दिखाई या बदली स्थिति का नतीजा है?

परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी
BBC
परमाणु ऊर्जा से लैस पनडुब्बी

गलतफ़हमियां

ऑकस समझौते का ये मतलब नहीं है कि ऑस्ट्रेलिया अपने जल क्षेत्र में परमाणु हथियारों की तैनाती करने जा रहा है. अगर वो ऐसा करता है तो इसके लिए 'वीपन ग्रेड' के यूरेनियम की ज़रूरत पड़ेगी. इसके लिए उसे यूरेनियम 235 को 90 फ़ीसदी तक संवर्धन करना होगा. लेकिन न्यूक्लियर सबमरीन के लिए उस तरह के ईंधन की ज़रूरत नहीं पड़ती है.

ऑस्ट्रेलिया ने परमाणु हथियारों के प्रसार पर रोकथाम लगाने वाली कई संधियों पर हस्ताक्षर किए है और वो परमाणु हथियार नहीं बना सकता है. परमाणु पनडुब्बी का सबसे बड़ा फ़ायदा ये है कि वो खुफिया तरीके से अपने मिशन को अंजाम दे सकता है. वो खुद बिना पकड़ में आए अपने टारगेट को निशाना बना सकता है.

चालक दल और पर्यावरण दोनों के लिहाज से इसकी सुरक्षा मायने रखती है. लेकिन आधुनिक टेक्नोलॉजी के सहारे सुरक्षा के इंतज़ाम जिस तरह से पुख़्ता हो रहे हैं, उससे ये उम्मीद की जाती है कि परमाणु पनडुब्बियों के दुर्घटनाग्रस्त होने के ख़तरे को कम किया जा सकता है. इस राजनीतिक फ़ैसले का आने वाले समय में क्या नतीजा निकलेगा, ये फिलहाल भविष्य के गर्भ में है.

लेकिन एक बात जो फिलहाल स्पष्ट लग रही है, वो ये है कि ऑस्ट्रेलिया की नई विदेश नीति में न्यूक्लियर साइंस के लिए पूर्व स्वीकार्यता की भावना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
AUKUS Agreement: What Is So Special About Nuclear Submarine
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X