• search

क्या अंग्रेज़ी न आने के कारण होते हैं प्लेन क्रैश?

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    विमान
    AFP
    विमान

    नेपाल की राजधानी काठमांडु में सोमवार को हुए विमान हादसे की पुख़्ता वजह अब तक सामने नहीं है.

    लेकिन त्रिभुवन एयरपोर्ट पर यूएस-बांग्ला' एयरलाइंस की फ़्लाइट BS211 के क्रैश में पायलट और एयर ट्रैफिक कंट्रोलर के बीच सूचनाओं का सही ढंग से आदान-प्रदान न होना एक वजह बताया जा रहा है.

    काठमांडू में विमान हादसा, कम से कम 49 की मौत

    नेपाल के विमान हादसे जिन्होंने सैकड़ों जानें लीं

    'यूएस-बांग्ला' के सीईओ आसिफ़ इमरान ने दावा किया है कि पायलट को गलत दिशा से रनवे से घुसने के लिए कहा गया था. हालांकि, अब तक ब्लैक बॉक्स से इस तरह की जानकारी सामने नहीं है.

    विमान
    AFP
    विमान

    लेकिन, उड्डयन के क्षेत्र में ये पहला मामला नहीं है जब एटीसी और पायलट के बीच सूचनाओं के आदान-प्रदान में कमी से विमान हादसा हुआ हो.

    ऐसी ही एक घटना के गवाह रहे एयर इंडिया के कैप्टन महेश गुलबानी ने बीबीसी को बताया, "एक बार की बात है, हम चीनी एयरस्पेस में करीब 38 से 40 हज़ार फुट की ऊंचाई पर उड़ रहे थे. और हमें नीचे जाना था. क्योंकि विमान टर्ब्युलेंस में उड़ रहा था. हमने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर से निवेदन किया कि हमें बहुत झटके लग रहे हैं, इसलिए थोड़ा नीचे आने दिया जाए."

    "इस पर कंट्रोलर ने कहा कि 'लेवल मैंटेन' रखें, उसने हमें नीचे नहीं आने दिया, वह हमसे अंग्रेजी में बात नहीं कर पाया कि नीचे न आएं. हमनें उससे सवाल पूछा कि क्यों नीचे नहीं आ सकते. इसके बाद भी वह बोलता रहा कि "प्लीज़ मैंटेन लेवल".

    विमान
    Getty Images
    विमान

    "ऐसे में हमें इमरजेंसी कॉल लिया क्योंकि हम उस ऊंचाई में नहीं उड़ पा रहे थे. इसके बाद उसे हमारी बात समझ में आई. इन कंट्रोलरों को अंग्रेजी के चार या छह फ्रेज़ आते हैं...जैसे हम इस स्पीड पर हैं, हाइट पर हैं, ऐसे में अगर आप जरा भी हटकर कुछ बोलते हैं तो उन्हें समझ नहीं आता."

    गुलबानी बताते हैं, "ये अक्सर देखने को मिलता है. मसलन बैंकॉक में अंग्रेजी बोलते वक्त आर शब्द का उच्चारण नहीं करते और वे कतार एयरलाइंस को कताल एयरलाइंस कहते हैं. "

    जब भारत में हुआ ऐसा ही हादसा

    साल 1996 में दिल्ली में इस वजह से ही 312 यात्रियों की मौत हुई थी.

    इस हादसे में नई दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरने से पहले ही सोवियत एयरलाइंस और सऊदी अरब के विमान के बीच हवा में हादसा हो गया.

    विमान
    Getty Images
    विमान

    इस मामले की जांच में सामने आया कि सोवियत विमान द्वारा दिल्ली एयरपोर्ट के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर की बात नहीं समझ पाना इस हादसे की मुख्य वजह रही.

    जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट में ये भी सलाह दी थी कि भारतीय एयरपोर्ट प्राधिकरण को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि सिर्फ अंग्रेजी बोलने और समझने में सक्षम एयरलाइंस क्रू को ही लैंड करने की अनुमति मिलनी चाहिए.

    क्या कहती है नासा की रिपोर्ट?

    अमरीकी स्पेस एजेंसी नासा ने इस मुद्दे पर साल 1981 में एक रिपोर्ट पेश की थी.

    इस रिपोर्ट में नासा के एविएशन सेफ़्टी रिपोर्ट सिस्टम में पांच साल के अंदर हवाई यात्राओं में गड़बड़ियों के 28 हज़ार मामले दर्ज कराए गए.

    टकरा सकते थे पांच विमान, टला बड़ा हादसा

    नासा ने इन मामलों का अध्ययन करके पाया कि 28000 मामलों में से 70 फीसदी मामलों में गड़बड़ियों के लिए सूचनाओं के आदान-प्रदान में कमियां ज़िम्मेदार थे.

    विमान
    Getty Images
    विमान

    विमान और कंट्रोलर के बीच बातचीत में कई बार ये भी देखा गया है कि दोनों में से एक या दोनों पक्ष अपनी क्षेत्रीय भाषा में बोलना शुरू कर देते हैं.

    मसलन उच्चारण में दोष की वजह से अंग्रेजी भाषा के 'Two' शब्द को 'To' समझ लिया जाता है.

    ऐसे में अंग्रेजी बोलने वाले पायलट या कंट्रोलर को अपनी बात पहुंचाने में दिक्कत होती है.

    क्या है इस समस्या का समाधान?

    सूचनाओं के आदान-प्रदान में भाषागत दिक्कतों को दूर करने के लिए कमर्शियल फ़्लाइट के पायलटों के लिए अंग्रेजी भाषा की परीक्षा देनी होती है.

    विमान
    Getty Images
    विमान

    कमर्शियल फ़्लाइट उड़ाने वाले एक पायलट ने नाम ना बताने की शर्त बताया, "कमर्शियल फ़्लाइंग लाइसेंस के लिए रेडियो टेलिफोनिक टेस्ट देना होता है. इसमें एविएशन क्षेत्र के मानकों के आधार पर अंग्रेजी की परीक्षा होती है. और डीजीसीए द्वारा इस टेस्ट को लिया जाता है. भारत की बात करें तो यहां पर ये टेस्ट सबसे कठिन तरह से होता है"

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Are the reasons for not coming to English plane crashes

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X