• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

इकोनॉमी संकट के बीच चीन ने बढ़ाया रक्षा बजट, क्या चीन 'महायुद्ध' की तैयारी कर रहा है?

|

नई दिल्ली। कोरोनावायरस की चपेट में चीन समेत पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पटरी से नीचे उतर गई है, लेकिन ऐसे में चीन द्वारा अपने रक्षा बजट में 6.6 फीसदी वृद्धि की घोषणा करके सबको चौंका दिया है। चीन ने अपना रक्षा बजट बढ़ाकर 179 अरब डॉलर कर दिया है, जो भारत की रक्षा बजट का लगभग तीन गुना है। पिछले साल चीन का रक्षा बजट 177.6 अरब डॉलर था, जिससे अमेरिका के बाद चीन सैन्य पर सबसे अधिक खर्च करने वाला दुनिया का दूसरा देश है।

    China ने Defence Budget में की बढ़ोत्तरी, India के मुकाबले 3 गुना ज्यादा | वनइंडिया हिंदी

    दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

    china

    रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने वर् 2020 के लिए रक्षा बजट में 6.6 प्रतिशत की बढ़ोत्‍तरी का ऐलान किया है। कोरोनावायरस महामारी संकट के बाद भी चीन द्वारा करीब 180 अरब डॉलर रक्षा पर खर्च करना बताता है कि चीन अमेरिका समेत उन सभी देशों को एक संकेत दे रहा है कि वह भविष्य में हुई किसी भी लामबंदी का जवाब दे सकता है। माना जाता है कि चीन भारी रक्षा व्यय के चलते भारत समेत अन्य देशों को अपना रक्षा व्यय बढ़ाने पर मजबूर होना पड़ा है, ताकि शक्ति संतुलन कायम रखा जा सके।

    china

    चीन ने COVID-19 प्रेरित खराब अर्थव्यवस्था के लिए नहीं निर्धारित किया कोई जीडीपी लक्ष्य

    गौरतलब है चीन के भारी-भरकम रक्षा बजट में एयर‍क्राफ्ट कैरियर, परमाणु सबमरीन और स्‍टील्‍थ फाइटर जेट का निर्माण शामिल है। हालांकि चीन की अर्थव्यवस्था भी कोरोना वायरस की वजह से संकट के दौर से गुजर रही है और यही कारण था कि शुरू संसद संत्र में चीन ने जीडीपी विकास का लक्ष्य तक तय नहीं किया। बावजूद चीन द्वारा रक्षा बजट में बढ़ोत्तरी दर्शाता है कि चीन अमेरिका की ओर से दी जा रही धमकियों के मद्देनजर महायुद्ध की तैयारी कर रहा है।

    china

    कोरोना संकट ने अमेरिका को किया भारत के नजदीक, सीमा पर मुंहतोड़ जवाब से बौखलाया चीन

    फिलहाल, चीन को जो रक्षा बजट सामने आया है, उसके बारे में विशेषज्ञों को चिंता है। क्योंकि माना जाता है चीन रक्षा के लिए जितने बजट को खर्च करने की बात करता है, उसका रक्षा बजट उससे कहीं ज्यादा होता है। चीन ने इस बार भी कहा है कि रक्षा बजट में बढ़ोत्‍तरी का ज्‍यादातर पैसा सैनिकों की स्थिति सुधारने में खर्च किया जाएगा। यही कारण है कि रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि चीन बहुत कुछ छिपा रहा है।

    china

    अमेरिका: राष्‍ट्रपति ट्रंप बोले-चीन से ही आया है कोरोना वायरस, इसे हल्‍के में नहीं ले रहे

    उल्लेखनीय है चीन का वास्‍तविक रक्षा बजट उसके द्वारा बताए गए रक्षा बजट से बहुत ज्‍यादा होता है, क्योंकि चीनी बजट में कई चीजों को शामिल नहीं किया जाता है। चीन ने पिछले साल का रक्षा बजट 178 अरब डॉलर बताया था, लेकिन विशेषज्ञों के मुताबिक पिछले साल चीन का वास्‍तविक रक्षा बजट 220 अरब डॉलर था।

    china

    दक्षिणी चीन सागर पर चीन चाहता है अपना एकछत्र राज, विवादित सागर पर जबरन चला रहा है चीनी कानून

    विशेषज्ञों का कहना है कि चीन अगर अपने रक्षा बजट को बढ़ा रहा है, तो इसके पीछे सबसे बड़ी वजह दक्षिण चीन सागर में अपनी पकड़ को मजबूत को लेकर देखा जा सकता है। हाल ही में उसने दक्षिण चीन सागर में अवैध रूप से दो द्वीपों में दो जिले को नामकरण कर दिया। चीन का मकसद साफ है, वह पश्चिम प्रशांत महासागर और हिंद महासागर में अपनी पहुंच बढ़ाना चाहता है।

    LAC के निकट सड़क निर्माण को लेकर पूर्वी लद्दाख में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    China has announced a 6.6 percent increase in the defense budget for the year 2020. The coronavirus epidemic since the crisis is also a signal to all those countries shows to spend nearly $ 180 billion defense by China, including the Chinese Americans that he was in the future can answer any mobilization. China is believed to have been forced to increase its defense expenditure to other countries, including India, in order to maintain the balance of power due to heavy defense expenditure.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more