• search
इंदौर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Crorepati Beggar : भिखारी रमेश यादव निकला करोड़पति, बंगले में वापसी पर परिजनों ने रखी यह शर्त?

|

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर के किला मैदान इलाके में कालका माता ​मंदिर के पास भीख मांग रहे बुजुर्ग रमेश यादव की हकीकत जानकर हर कोई हैरान रह गया। यह भिखारी करोड़पति निकला। इसके पास आलीशान बंगला है। करोड़ों के मालिक रमेश का इस कदर दाने-दाने और पाई-पाई को मोहताज होने की पूरी कहानी चौंकाने देने वाली है।

    Indore Crorepati Beggar: Temple के बाहर भीख मांग रहा आलीशान बंगले का Owner रमेश | वनइंडिया हिंदी
    कौन हैं बुजुर्ग रमेश यादव?

    कौन हैं बुजुर्ग रमेश यादव?

    बता दें कि रमेश यादव इंदौर के ही रहने वाले हैं। ये अविवाहित हैं। इनके पास आलीशान बंगला है, जिसमें साज सज्जा के साथ तमाम भौतिक सुविधाएं भी हैं। चार लाख का सजावट का सामान लगा हुआ है। परिवार में भाई-भतीजे हैं। एनजीओ ने जब रमेश के भाई-भतीजों से सम्पर्क किया तो उन्होंने उनको पहचान भी लिया।

     रमेश यादव कैसे बने भिखारी?

    रमेश यादव कैसे बने भिखारी?

    रमेश यादव करोड़पति होने के साथ-साथ आदतन शराबी हैं। इन्हें वर्षों पहले शराब की ऐसी लत लगी कि देखते ही देखते भीख मांगकर पेट भरने को मजबूर हो गए। परिजनों ने भी इनसे किनारा कर लिया। कालका माता मंदिर के आस-पास भीख मांगना शुरू कर दिया।

     कैसे पता चली रमेश यादव की पूरी कहानी?

    कैसे पता चली रमेश यादव की पूरी कहानी?

    दरअसल, इन दिनों इंदौर शहर को बैगर फ्री सिटी बनाने के लिए केंद्र की दीनबंधु पुनर्वास योजना के तहत की मुहिम चल रही है। निराश्रित वृद्ध और भिक्षुक लोगों के पुनर्वास के लिए केंद्र खोला गया है। एनजीओ आदिनाथ वेलफेयर एंड एजुकेशन सोसायटी की ओर से शहर के अलग-अलग इलाकों से भिखारियों को रेस्क्यू कर पुनर्वास केंद्र शिफ्ट किया जा रहा है। इसी मुहिम के तहत रमेश यादव की कहानी सामने आई है।

     शराब की लत छोड़ने का आश्वासन

    शराब की लत छोड़ने का आश्वासन

    एनजीओ की रुपाली जैन कहती हैं कि किला मैदान इलाके से भिखारी रमेश यादव को शिविर में लाया गया था। यहां उनकी देखभाल शुरू की। भरपेट भोजन दिया। ​जब उन्होंने कहानी बयां की तो हर कोई चौंक गया। शराब छुड़वाने के लिए उनकी काउंसलिंग भी की जा रही है। उन्होंने शराब छोड़ने का आश्वासन भी दिया है। परिवार भी उन्हें शराब छोड़ने की शर्त पर ही अपनाने का तैयार है।

     जब भिखारी निकला डीएसपी

    जब भिखारी निकला डीएसपी

    रमेश यादव से पहले मध्य प्रदेश के ग्वालियर में मनीष मिश्रा की ऐसी चौंकाने वाली कहानी सामने आ चुकी है। मनीष मिश्रा मध्य प्रदेश पुलिस में शॉर्प शूटर हुआ करते थे। मानसिक स्थिति गड़बड़ाने पर पत्नी व परिवार वालों ने साथ छोड़ दिया। काफी साल से भीख मांगने को मजबूर मनीष नवंबर 2020 में ग्वालियर में झांसी रोड पर बंधन वाटिका के पास फुटपाथ पर सो रहे थे।

     साथी पुलिस अधिकारी ने ढूंढ़ा

    साथी पुलिस अधिकारी ने ढूंढ़ा

    तभी वहां से मध्य प्रदेश पुलिस के डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर व विजय सिंह भदौडरिया अपनी गाड़ी से निकल रहे थे। उन्होंने ठंड से ठिठुर रहे इस भिखारी की इंसानियत के नाते मदद करने के लिए गाड़ी रोकी थी। फिर बातों ही बातों में पता चला कि भिखारी मनीष मिश्रा उन्हीं के बैच का पुलिस अधिकारी है। फिर इनका भी एनजीओ ने रेस्क्यू किया।

    DSP ने जिस भिखारी के लिए गाड़ी रोकी वो निकला उन्हीं के बैच का साथी पुलिस अधिकारी, भाई-पिता भी अफसरDSP ने जिस भिखारी के लिए गाड़ी रोकी वो निकला उन्हीं के बैच का साथी पुलिस अधिकारी, भाई-पिता भी अफसर

    English summary
    Crorepati Ramesh Yadav found begging Near Kalka Mata temple Indore Madhya Pradesh
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X