• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Zydus Cadila ने सस्ती रेमडेसिविर दवा भारतीय बाजार में उतारी, जानिए कितनी है कीमत?

|

नई दिल्ली। भारतीय दवा कंपनी जायडस कैडिला ने गुरुवार को ऐलान किया कि उसने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए उपयोगी दवा रेमडेसिवियर को रेमडेक ब्रांड नाम से भारतीय बाजारों में पेश किया है। कंपनी ने शेयर बाजार को बताया कि रेमडेक की 100 मिलीग्राम की शीशी की कीमत 2,800 रुपए है। कंपनी के मुताबिक यह दवा सरकारी और निजी अस्पतालों में ही मिलेगी।

remdac

राजस्थान में पिक्चर अभी बाकी है, क्लाईमैक्स को लेकर गहलोत और पायलट खेमों में छिड़ा है युद्ध!

देश में जायडस पांचवीं कंपनी है जिसने एंटीवायरल दवा लॉन्च की है

देश में जायडस पांचवीं कंपनी है जिसने एंटीवायरल दवा लॉन्च की है

देश में जायडस पांचवीं कंपनी है जिसने एंटीवायरल दवा लॉन्च की। इससे पहले फार्मा कंपनी हेटेरो लैब्स, सिप्ला, मायलन एनवी और जुबिलेंट लाइव साइंसेस ने यह दवा बाजार में उतारी है। जायडस कैडिला ने बताया कि यह दवा उसके वितरण नेटवर्क के जरिए पूरे देश में उपलब्ध होगी।

कैडिला हेल्थकेयर कहा, ‘रेमडैक सबसे सस्ती दवा है

कैडिला हेल्थकेयर कहा, ‘रेमडैक सबसे सस्ती दवा है

कैडिला हेल्थकेयर के प्रबंध निदेशक डॉ. शरविल पटेल ने कहा, ‘रेमडैक सबसे सस्ती दवा है, क्योंकि हम चाहते हैं कि कोविड-19 के इलाज में अधिक से अधिक मरीजों तक यह दवा पहुंच सके। इस दवा के लिए सक्रिय दवा घटक (एपीआई) का विनिर्माण समूह की गुजरात स्थिति इकाई में किया गया है।

जायडस कैडिला कोविड-19 की वैक्सीन बनाने की कोशिश भी कर रही है

जायडस कैडिला कोविड-19 की वैक्सीन बनाने की कोशिश भी कर रही है

जायडस कैडिला कोविड-19 की वैक्सीन बनाने की कोशिश भी कर रही है और जायकोव-डी नाम की यह वैक्सीन क्लिनिकल परीक्षण के दूसरे चरण में है। हालांकि रूस वैक्सीन बनाने का दावा किया है, लेकिन रूसी वैक्सीन को लेकर बहुत सारे सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि वैक्सीन की क्लिीनिकल स्टडी नहीं हुई है। वहीं, वैक्सीन को लेकर सिर्फ 38 लोगों पर टेस्ट किया गया।

कोरोना के इलाज के लिए सैकड़ों ड्रग कैंडीडेट्स की पहचान की गई है

कोरोना के इलाज के लिए सैकड़ों ड्रग कैंडीडेट्स की पहचान की गई है

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने मशीन लर्निंग का उपयोग करके सैकड़ों संभावित नई दवाओं की पहचान की है, जो नोवल कोरोनवायरस अथवा SARS-CoV-2 के कारण होने वाली बीमारी का इलाज करने में मदद कर सकती हैं।

आणविक, सेल और सिस्टम बायोलॉजी के प्रोफेसर आनंदसंकर रे ने कहा

आणविक, सेल और सिस्टम बायोलॉजी के प्रोफेसर आनंदसंकर रे ने कहा

आणविक, सेल और सिस्टम बायोलॉजी के प्रोफेसर आनंदसंकर रे ने कहा कि कोविड-19 को रोकने वाली प्रभावी दवाओं की पहचान करने की तत्काल आवश्यकता है। और हमने एक खोज की ओर बढ़ रहे हैं, जिसने कई ड्रग कैंडीडेट्स की पहचान की है।

नई दवा आर्टफिशियल इंटलीजेंस से जुड़ी एक कम्प्यूटेशनल रणनीति है

नई दवा आर्टफिशियल इंटलीजेंस से जुड़ी एक कम्प्यूटेशनल रणनीति है

खोज की ओर बढ़ रही दवा आर्टफिशियल इंटलीजेंस से जुड़ी एक प्रकार की कम्प्यूटेशनल रणनीति है। कहने का मतलब है कि यह एक कंप्यूटर एल्गोरिथ्म जो समय के साथ सुधार, परीक्षण और त्रुटि के माध्यम से गतिविधि की भविष्यवाणी करना सीखता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indian pharmaceutical company Zydus Cadila announced on Thursday that it has introduced the drug Remedisvier, a drug used to treat patients infected with the corona virus, in the Indian market under the brand name Remadec. The company told the stock market that the price of 100 mg vial of Remdec is Rs 2,800. According to the company, this medicine will be available only in government and private hospitals.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X