• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Duty First: मास्क के पीछे 13 घंटे तक पिता की मौत का गम छुपाए रही इंस्पेक्टर, करती रही परेड का नेतृत्व

|
Google Oneindia News

चेन्‍नई। इस बार का स्‍वतंत्रता दिवस आने वाली कई पीढ़‍ियां कभी भूला नहीं पाएंगी। मास्‍क के साथ देश के अलग-अलग हिस्‍सों में स्‍वतंत्रता दिवस का आयोजन हुआ है। लेकिन यही मास्‍क इंस्‍पेक्‍टर एन माहेश्‍वरी के लिए अपनी एक तकलीफ को छिपाने का जरिया भी बन गया था। तिरुनलेवेली में बतौर पुलिस इंस्‍पेक्‍टर तैनात माहेश्‍वरी ने 74वें स्‍वतंत्रता दिवस पर अपनी ड्यूटी के प्रति जो निष्‍ठा दिखाई है, वह दूसरों के लिए एक नजीर है। अपने 83 साल के पिता को खोने का गम मास्‍क में छिपाए हुए एसपी माहेश्‍वरी ने परेड का सफलतापूर्वक नेतृत्‍व किया।

<strong>यह भी पढ़ें- यूपी की मेजर श्‍वेता पांडे बनीं पीएम मोदी की फ्लैग ऑफिसर</strong> यह भी पढ़ें- यूपी की मेजर श्‍वेता पांडे बनीं पीएम मोदी की फ्लैग ऑफिसर

14 अगस्‍त को हुआ पिता का निधन

14 अगस्‍त को हुआ पिता का निधन

एन माहेश्‍वरी के पिता नारायणस्‍वामी की तबियत बहुत खराब थी। 14 अगस्‍त शुक्रवार रात उनका निधन हो गया था। इंस्‍पेक्‍टर माहेश्‍वरी के लिए तकलीफ बड़ी थी लेकिन उससे भी बड़ा उनका कर्तव्‍य था। उन्‍होंने अपनी जिम्‍मेदारी को ऊपर रखा क्‍योंकि उन्‍हें लगा कि अंतिम समय में अगर कोई जूनियर परेड को लीड करता है तो फिर चीजें बिगड़ सकती हैं। ऐसे में उन्‍होंने अपनी ड्यूटी को प्राथमिकता दी और अगली सुबह अपने दल का नेतृत्‍व करती हुईं नजर आईं। जैसे ही समारोह खत्‍म हुआ इंस्‍पेक्‍टर माहेश्‍वरी, तिरुनलेवेली से 200 किलोमीटर दूर डिंडीगुल जिले के वडामदुरै के लिए रवाना हो गईं।

परेड के बाद तुरंत रवाना

परेड के बाद तुरंत रवाना

एन माहेश्‍वरी तिरुनलेवेली पुलिस की आर्म्‍ड रिजर्व यूनिट में तैनात हैं। उन्‍होंने अपने सीनियर्स को भी अपने पिता के निधन के बारे में कुछ नहीं बताया। सुबह वह तय समय पर वीओसी स्‍टेडियम पहुंच गईं जहां पर परेड का आयोजन होना था। एक सेकेंड के लिए भी उन्‍हें देखकर कोई नहीं सका कि उनकी जिंदगी के सबसे बड़े दुख से 13 घंटों पहले ही उनका सामना हुआ है। जब वह अपने पिता के अंतिम संस्‍कार में हिस्‍सा लेने के लिए जल्‍दबाजी में रवाना हुईं तब उनके सीनियर्स को इस बारे में पता लगा।

लोग कर रहे साहस को सलाम

लोग कर रहे साहस को सलाम

डिस्ट्रिक्‍ट कलेक्‍टर शिल्‍पा प्रभाकर सतीश ने गार्ड ऑफ ऑनर लिया। घंटों तक वह अपनी तकलीफ को सबसे छिपाए रहीं। जब उनके बारे में सबको पता लगा तो उनकी तारीफ के साथ ही साथ पिता के लिए शोक संदेश भी भेजे गए। सोशल मीडिया पर इंस्‍पेक्‍टर माहेश्‍वरी के साहस की तारीफ हो रही है और लोग उनका उदाहरण दे रहे हैं। लोग उनकी उस फोटो को भी शेयर कर रहे हैं जिसमें वह परेड का नेतृत्‍व करती हुईं नजर आ रही हैं। एन माहेश्‍वरी के पति बालमुरुगन तिरुनेलवेली पुलिस की इंटेलीजेंस यूनिट में तैनात हैं। उनके पति हाल ही में वह कोविड-19 से उबरे हैं और उन्‍होंने ड्यूटी ज्‍वॉइन की है।

क्‍वारंटाइन के बाद लौटीं ड्यूटी पर

क्‍वारंटाइन के बाद लौटीं ड्यूटी पर

माहेश्‍वरी ने भी दो हफ्तों का क्‍वारंटाइन पीरियड पूरा करने के बाद हाल ही में ड्यूटी दोबारा ज्‍वॉइन की है। तमिलनाडु के उप मुख्‍यमंत्री ओ पन्‍नीरसेल्‍वम ने भी ड्यूटी के लिए दिखाई गई एसपी माहेश्‍वरी की निष्‍ठा को सैल्‍यूट किया है। उन्‍होंने ट्वीट किया, 'नेलाई आर्म्‍ड पुलिस इंस्‍पेक्‍टर एन माहेश्‍वरी के पिता की मृत्‍यु पर मैं अपनी संवेदनाएं जाहिर करता हूं। स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने पिता के निधन के बाद भी उन्‍होंने ड्यूटी पूरी की और मार्च की अगुवाई की।'

English summary
Woman inspector leads Independence Day parade after losing her father in Taminadu.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X