• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोविड के मामले बढ़ने के साथ देश में ऐसे बदला ऑनलाइन सर्च पैटर्न

|

नई दिल्ली, 22 अप्रैल: देश में फरवरी के बाद से जिस तरह से कोरोना के मामले लगातार तेजी से बढ़ते गए हैं, उसकी बानगी गूगल और थर्ड-पार्टी सोशल मीडिया एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म पर भी साफ महसूस की जा रही है। क्योंकि देखा गया है कि लोग कोरोना और उससे सबंधित सर्च ही पिछले दो महीनों से सबसे ज्यादा कर रहे हैं। लोग इंटरनेट पर जिन चीजों के बारे में सबसे ज्यादा जानकारी लेने की कोशिश कर रहे हैं, उनमें आरटी-पीसीआर टेस्ट, ऑक्सीजन सिलेंडर, रेमडेसिविर इंजेक्शन, अस्पतालों में बेड और कोविड वैक्सीन सेंटर से संबंधित जानकारियां शामिल हैं।

The second wave of Covid-19 also brought changes in the search pattern of the Internet, people are asking for information on Oxygen, Remedisvir, Bed and RT-PCR

कोविड से इंटरनेट पर सर्चिंग का बदला पैटर्न
कोरोना के इलाज और उससे संबंधित जानकारियों की तलाश इंटरनेट यूजर्स ने बीते दिनों में पिछले एक साल में सबसे ज्यादा की है। खासकर पिछले 17 अप्रैल को खत्म हुए हफ्ते का जो मेट्रिक्स उपलब्ध है, उससे पता चलता है कि कोविड की दूसरी लहर के दौरान देशवासी कैसी मानसिकता से गुजर रहे हैं कि उनके लिए इस समय कोविड से ज्यादा किसी चीज की जानकारी की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, यह बात अलग है कि देश के अलग-अलग हिस्सों के लोगों का कोविड से संबंधित चीजों की तलाश का पैटर्न अलग रहा है। मसलन, महाराष्ट्र के लोगों ने इंटरनेट पर जिस टर्म को सबसे ज्यादा सर्च किया वो है- 'रेमडेसिविर नियर मी'। जबकि, दिल्ली के भौगोलिक क्षेत्र के आसपास के लोगों ने गूगल पर 'ऑक्सीजन सिलेंडर नियर मी' , 'कोविड आरटी पीसीआर टेस्ट नियर मी' और 'कोविड हॉस्पिटल नियर मी' सबसे ज्यादा सर्च किया है।

इसे भी पढ़ें-क्यों सरप्लस उत्पादन के बावजूद कोरोना मरीजों को नहीं मिल पा रही ऑक्सजीन ? जानिएइसे भी पढ़ें-क्यों सरप्लस उत्पादन के बावजूद कोरोना मरीजों को नहीं मिल पा रही ऑक्सजीन ? जानिए

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी दिख रहा है असर
हालांकि, इस दौरान 7 मार्च से 13 मार्च के बीच लोगों ने 'कोविड वैक्सीनेशन सेंटर नियर मी' सर्च करने में सबसे ज्यादा दिलचस्पी दिखाई है। गौर करने वाली बात ये है कि सर्च करने वालों ने जिस तरह से 'नियर मी' जैसे शब्दों को सर्च इंजन में डाला है, उससे पता चलता है कि लोग कोरोना के कहर से किस कदर प्रभावित हो चुके हैं कि या तो उन्हें अपनों के लिए इसकी जानकारी जुटानी पड़ रही है या फिर वह भविष्य की आशंका में उसके बारे में पता करके रख लेना चाहते हैं। बड़ी बात ये है कि इससे पता चलता है कि कोविड की वजह से इन चीजों की मांग में जबर्दस्त उछाल तो आया ही है, लोग इन जानकारियों को ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी पोस्ट कर रहे हैं, ताकि जरूरतमंदों तक सूचना पहुंच सके।

English summary
The second wave of Covid-19 also brought changes in the search pattern of the Internet, people are asking for information on Oxygen, Remedisvir, Bed and RT-PCR test
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X