• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत में वेब शो लेस्बियन या फिर सेक्स जैसे मुद्दे पर क्यों बन रहे हैं

By Bbc Hindi

सेक्स पर आधारित वेब शो
AlTBalaji
सेक्स पर आधारित वेब शो

भारत में जिस तेज़ी से स्मार्ट फोन और इंटरनेट की खपत बढ़ रही है, उसने लोगों के जीने का तरीका ही बदल डाला है.

छोटे स्क्रीन पर अब लगभग हर काम हो रहा है. बैंकिंग, शॉपिंग, डेटिंग, टिकट बुकिंग और भी बहुत कुछ.

इस बदलाव से इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री भी अछूती नहीं रही है. भारत में देसी यूट्यूबर की बाढ़ आ गई है. ये खासा लोकप्रिय भी हो रहे हैं.

अब बॉलीवुड के बड़े-बड़े प्रोडक्शन हाउस छोटे स्क्रीन पर अपनी बादशाहत कायम करने की कोशिश में हैं.

ऑल्ट बालाजी, झी फाइव, वूट, सोनी लिव, नेट फ़िलिक्स जैसी कंपनियां मोबाइल के दर्शकों के लिए ख़ास शो बना रही हैं.

ये शो और उनकी कहानियां वास्तविक रूप में फ़िल्माए जा रही हैं. उन्हें उसी रूप में पेश किया जा रहा है, जैसे समाज में दिखता है. मसलन गाली-गलौच, बातचीत की मिश्रित भाषा, पहनावा, वास्तविक लोकेशन आदि.

वेब शो
JioCinema/Loneranger Productions
वेब शो

वेब शो ने दी नई आज़ादी

फ़िल्म निदेशक कृष्णा भट्ट कहते हैं, "इंटरनेट ने बॉलीवुड को वो कहने की आज़ादी दी है जो वो कहना चाहती है."

कृष्णा ने दो वेब शो बनाए हैं, उनमें से एक है माया 2. यह वेब शो लेस्बियन की प्रेम कहानियों पर आधारित है.

इस तरह के विषय पर भारत में सिनेमा और टीवी शो बनाना बहुत मुश्किल है.

कृष्णा कहती हैं, "सिनेमा में किसी लव सीन को दिखाने के लिए उसे सेंसर के कई नियमों से गुजारना पड़ता है. यहां तक की किस सीन को भी मूर्ख बता कर काट दिया जाता है. टीवी पर भी ऐसे सीन को नहीं दिखाया जा सकता है."

कृष्णा भट्ट
BBC
कृष्णा भट्ट

भारत में टीवी और सिनेमा पर सेंसरशिप है. लेकिन वेब शो पर अभी तक इस तरह के कोई ख़ास नियम लागू नहीं होते हैं.

कृष्णा कहती हैं, "आप जो कुछ भी दिखाना चाहते हैं, उसे पूरी आज़ादी से दिखा सकते हैं. यह एक तरह की नई स्वतंत्रता है जो हमें मिली है."

भारतीय टीवी पर प्राइम टाइम के दौरान पारिवारिक शो दिखाए जाते रहे हैं और यह संस्कृति दशकों पुरानी है.

इन शो के लिए सीन लिखने से पहले लेखकों और निर्देशकों को बहुत कुछ ध्यान में रखना होता है. वो कहानियों का चुनाव भी सतर्क हो कर कहते हैं.

इसलिए अब एक्टर, लेखक, निर्देशक और निर्माता एक नई तरह की आज़ादी को महसूस कर रहे हैं.

https://www.youtube.com/watch?v=_02N-NaM8xk&index=35&list=PLYxuvEJLss6Aj-MP8FbBoymOjN9R7-Vq9

नए मौकों की भरमार

उत्तरी मुंबई के चांदिवली स्टूडियो में एक हिंदी शो 'अपहरण' की शूटिंग हो रही है. इसकी शूटिंग सुबह शुरू होती है और देर रात तक चलती है.

इसके 11 एपिसोड की शूंटिंग जल्द से जल्द पूरी करने की कोशिश की जा रही है, जिसे नवंबर में ऑल्ट बालाजी पर स्ट्रीम किया जाएगा.

ऑल्ट बालाजी एक वीडियो ऑन डिमांड एप्प और वेबसाइट है, जो 96 देशों में उपलब्ध है.

इस शो में अरुणोदय सिंह एक पूर्व पुलिसकर्मी की भूमिका में हैं. वो कई बॉलीवुड फिल्मों में भी नज़र आ चुके हैं.

वो कहते हैं, "बॉलीवुड फ़िल्मों में मुझे बहुत लोकप्रियता नहीं मिली, न मैं स्टार बन पाया. कास्टिंग डायरेक्टर को लगा कि मैं एक बेहतर कलाकार हूं और उन्होंने बिना ऑडिशन के मुझे चुना."

अरुणोदय सिंह
BBC
अरुणोदय सिंह

वेब शो ने अरुणोदय को नए मौके दिए हैं और एक उम्मीद भी कि वो उन लोगों तक अपनी पहुंच बना सके जिसके लिए मोबाइल का छोटा स्क्रीन उनके मनोरंजन का साधन है.

'अपहरण' उन दर्जनों वेब शो में से एक है, जो भारत में विशेषकर मोबाइल के लिए बनाए जा रहे हैं.

अरुणोदय कहते हैं, "एक्टर, राइटर के लिए अब मौकों की भरमार है. और ये अच्छी बात है क्योंकि यहां प्रतिस्पर्धा बढ़ने वाली है."

भारत में इसके बढ़ते बाज़ार को देखते हुए विदेशी कंपनियां भी यहां अपनी सक्रियता बढ़ा रही है.

नेटफ्लिक्स, अमेज़न जैसी कंपनियां भारत में निवेश कर रही है. हाल ही में नेटफ्लिक्स की सीरिज 'सेक्रेड गेम्स' ने भारतीय मनोरंजन बाज़ार में कामयाबी की एक मिसाल पेश की है.

मोबाइल फोन
BBC
मोबाइल फोन

कमाई का मॉडल

भारत में लगभग 30 करोड़ लोगों के हाथों में स्मार्ट फोन है और ये ही इनके संभावित ग्राहक हैं.

वेब शो चलाने वाले अधिकतर एप्प और वेबसाइट सब्सक्रिप्शन के जरिए कमाई करना चाहते हैं. यही वजह है कि कई वेबसाइट और एप्प पहले महीने की मुफ़्त सेवा दे रहे हैं और कई तो महज 50 रुपए से भी कम पर मनोरंजन उपलब्ध करा रहे हैं.

ऑल्ट बालाजी के चीफ एक्ज़ीक्यूटिव नचिकेता पंतवैद्य कहते हैं, "टीवी की तरह मोबाइल इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री एक ओवर-द-टॉप या फिर ओटीटी बिजनेस है. इसका मतलब यह है कि यह चैनल और कंज्यूमर के बीच बिचौलिए को खत्म कर देगा, जिसे हम डिस्ट्रीब्यूटर भी कहते हैं."

ऑल्ट बालाजी का लक्ष्य 20 करोड़ दर्शकों तक पहुंचने की है, लेकिन यह आसान नहीं है क्योंकि बाज़ार में प्रतिस्पर्धा काफी है.

नचिकेता कहते हैं कि यही कारण है कि सब्सक्रिप्शन शुल्क एक रुपए प्रतिदिन से भी कम रखा जा रहा है.

वो कहते हैं कि 95 फ़ीसदी भारतीय घरों में केबल एक टीवी है. ऐसे में हर कोई अपना पसंदीदा शो नहीं देख पाता है. मोबाइल इसकी आज़ादी देता है.

मोबाइल यह भी आज़ादी देता है कि जब वो अकेले हों तो वो अपने पसंद का कंटेंट देख सके यानी वो ऐसे विषयों पर आधारित शो देखना चाहता है जो वो अपने परिवार के साथ नहीं देख पाता है.

ALTBalaji website
ALTBalaji
ALTBalaji website

यह इंडस्ट्री सीधे तौर पर मोबाइल और इंटरनेट डेटा पर आधारित है. टेलिकॉम कंपनियों के बीच डेटा वॉर का फ़ायदा न सिर्फ लोगों को हुआ है बल्कि ऑनलाइन इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री को भी पहुंचा है.

लेकिन चिंता का विषय यह भी है कि सस्ता डेटा आख़िर कब तक भारत में उपलब्ध कराए जाएंगे. जिस तरह से मोबाइल ऑपरेटर की संख्या घट रही है और कई कंपनियां बंद हो चुकी है, ऐसे में कुछ कंपनियां ही बाज़ार में रह जाएंगी.

हालांकि ऑनलाइन इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री को यह उम्मीद है कि ये सफर अब रुकने वाला नहीं है.


BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Why are web shows in India being on issues such as lesbian or sex
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X