• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Tarun Tejpal: 8 साल पहले क्या हुआ था ? जिसने तेजपाल के जीवन में मचा दिया तहलका?

|
Google Oneindia News

पणजी, 21 मई। शुक्रवार का दिन तहलका पत्रिका के पूर्व एडिटर इन चीफ तरुण तेजपाल के लिए एक बड़ी राहत लेकर आया है, आज उन्हें इंटर्न के साथ यौन शोषण मामले में बरी कर दिया गया है। जिसके बाद पिछले 8 साल से, जिस जंजाल में तरुण तेजपाल उलझे हुए थे, उससे उन्हें मुक्ति मिल गई है। मालूम हो कि तरूण तेजपाल पर आरोप था कि उन्होंने नवंबर 2013 के पणजी के एक होटल के 'थिंक फेस्ट' कॉन्क्लेब में नशे की हालत में अपनी जूनियर सहकर्मी का यौन शोषण किया था। गौर करने वाली बात ये थी कि वो सहयोगी तेजपाल के दोस्त की ही बेटी थी।

    Tarun Tejpal को Goa Court ने किया बरी, जानिए क्या है गोवा यौन उत्पीड़न केस? | वनइंडिया हिंदी
    लिफ्ट में तेजपाल ने जूनियर का यौन उत्पीड़न किया

    लिफ्ट में तेजपाल ने जूनियर का यौन उत्पीड़न किया

    सहयोगी ने आरोप लगाया था कि 'लिफ्ट में तेजपाल ने उसका दो बार यौन उत्पीड़न किया था।' इस खबर ने पूरे मीडिया जगत को हिला कर रख दिया था। यही नहीं इस मामले की गूंज संसद में भी सुनाई दी थी।

    2846 पन्नों की चार्जशीट

    मालूम हो कि 30 नवंबर 2013 को तेजपाल को गिरफ्तार किया गया था। गोवा पुलिस ने फरवरी 2014 में उनके खिलाफ 2846 पन्नों की चार्जशीट दायर की थी। तेजपाल पर क्रमश: धारा 342, धारा 354-ए, धारा 376 के तहत केस चल रहा था। फिलहाल तरुण तेजपाल मई 2014 से जमानत पर बाहर हैं।

    यह पढ़ें:MiG-21: मेरठ के फायटर पायलट अभिनव चौधरी की डेढ़ साल पहले हुई थी शादी, 1 रु लिया था दहेजयह पढ़ें:MiG-21: मेरठ के फायटर पायलट अभिनव चौधरी की डेढ़ साल पहले हुई थी शादी, 1 रु लिया था दहेज

    तेजपाल गए थे हाईकोर्ट लेकिन...

    तेजपाल ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद और गलत बताया था, जब उनपर आरोप तय हुए थे वो आरोपों को रद्द करने के लिए उच्चतम न्यायालय गए थे लेकिन अगस्त में कोर्ट ने आरोपों को रद्द करने से इनकार कर दिया था और इस पूरे केस को 6 महीने के अंदर खत्म करने का निर्देश दिया था।

    बंद कमरे में चला केस, 3 बार टली सुनवाई

    बंद कमरे में चला केस, 3 बार टली सुनवाई

    इसके बाद ये केस गोवा के मापुसा के सेशन कोर्ट में चला,वो भी बंद कमरे में। तेजपाल पर फैसला 27 अप्रैल को आने वाला था लेकिन कोरोना के चलते फैसला 12 मई के लिए टाल दिया गया था। 12 मई के बाद सुनवाई 19 मई के लिए टाली गई थी और फिर 2 दिन के लिए टालते हुए 21 मई को फैसला सुनाने का आदेश हुआ था, जिस पर आज फैसला आया है, जिसमें तेजपाल बरी हो गए हैं।

    बरी होने के बाद क्या बोले तेजपाल?

    कोर्ट के फैसले के बाद तरुण तेजपाल ने कहा कि 'मैं न्याय के लिए आभारी हूं, इन आठ सालों में मैंने और मेरे परिवार ने काफी कुछ सहा है। ये सब कुछ हमारे लिए एक बुरा सपना रहा है। आज के फैसले के बाद राहत महसूस कर रहा हूं और एक बार फिर से ये साबित हुआ है कि सही लोगों को न्याय मिलता है।'

    कौन हैं तरुण तेजपाल?

    कौन हैं तरुण तेजपाल?

    तरुण तेजपाल मीडिया जगत का बहुत बड़ा नाम रहा है। साल 1980 से पत्रकारिता जगत से जुड़ने वाले तरूण तेजपाल ने इंडियन एक्सप्रेस, इंडिया टुडे, फाइनेंशियल एक्सप्रेस, आउटलुक जैसे मशहूर अखबारों में काम किया। अपनी लेखनी से सनसनी पैदा करने वाले तेजपाल ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक दिन वो खुद अखबारों में सनसनी बन जाएंगे। साल 2000 में तरुण तेजपाल ने वरिष्ठ पत्रकार अनिरुद्ध बहल के साथ मिलकर तहलका डॉट कॉम शुरू किया था।

    मैच फिक्सिंग पर स्टिंग ऑपरेशन

    जिसने क्रिकेट में होने वाली मैच फिक्सिंग पर स्टिंग ऑपरेशन करके बड़ा तहलका मचा दिया था। मूल रूप से जालंधर के रहने वाले तरुण तेजपाल ने साल 2007 में तहलका को मैगजीन बना दिया।

    सामने आए थे गंदे ईमेल

    सामने आए थे गंदे ईमेल

    इस केस ने जोर तब पकड़ा था , जब एक ब्लॉग पर उस जूनियर सहकर्मी और तेजपाल के ईमेल सामने आए थे। हालांकि पत्रिका की मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी ने कहा था कि ये मेल फेक है। इन ईमेल्स में तेजपाल की ओर से महिला को इवेंट वाली बात के लिए एक तरह से सॉरी बोला गया था, जिसके जवाब में महिला ने उन्हें जबरदस्त लताड़ लगाई थी।

    'मेरे और तुम्हारे बीच कोई लेना-देना नहीं'

    मेल में तेजपाल ने लिखा था 'जहां तक उस मनहूस रात की बात है, तुम याद करो तो हम नशे में उस तूफानी शाम को हुई मुलाकात को याद कर रहे थे, उसी दौरान मैंने कहा था कि इससे मेरे और तुम्हारे बीच के किसी रिश्ते का कोई लेना-देना नहीं है।'

    'तूफानी शाम के बादलों की चर्चा नहीं हुई'

    जिस पर जूनियर महिला ने कहा था कि'आप सिर्फ सेक्स चाहते थे, मैं चुप बैठने वाली नहीं हूं। उस रात हमने किसी तूफानी शाम के बादलों की चर्चा भी नहीं की थी। '

    यह पढ़ें: तब क्या हुआ था, जब राजीव गांधी की हत्यारिन नलिनी से मिली थीं प्रियंका गांधी ?यह पढ़ें: तब क्या हुआ था, जब राजीव गांधी की हत्यारिन नलिनी से मिली थीं प्रियंका गांधी ?

     फैसले के खिलाफ हम हाईकोर्ट में अपील करेंगे

    फैसले के खिलाफ हम हाईकोर्ट में अपील करेंगे

    फिलहाल तेजपाल के बरी होने के बाद गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने मीडिया में बयान दिया कि 'हम इस फैसले के खिलाफ हम हाईकोर्ट में अपील करेंगे। पर्याप्त सबूत होने के बाद भी वो छूट गया, राज्य सरकार इस मामले में काफी गंभीर है। ये उस ​महिला के खिलाफ अन्याय है, जब तक उस महिला को न्याय नहीं मिलेगा हम लड़ते रहेंगे।'

    English summary
    Journalist Tarun Tejpal, who was acquitted of physical assault charges in a 2013 case by court in Goa today. here Who is Tarun Tejpal, What is tehalka story and what what happened 8 years ago in Goa Hotel, read ful, details.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X