• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बेबाकी से अपनी राय रखते थे बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान, रोजा को लेकर कही थी ये बड़ी बात

|

मुंबई। अपनी अदाकारी से हर किसी के दिल पर राज करने वाले बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान का बुधवार (अप्रैल 29, 2020) को निधन हो गया। मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में इरफान खान ने 53 साल की उम्र में अंतिम साँस ली। इरफान ने अपने आखिरी दिनों में बड़ी लड़ाई लड़ी।

irfan
कैंसर से लंबी लड़ाई के बाद उन्होंने इंग्लिश मीडियम के जरिए शानदार वापसी भी की, मगर अपनी मां का गम वो झेल नहीं सके। मां की मौत के चंद दिन बाद ही उन्होंने भी दुनिया को अलविदा कह दिया। इरफान काफी लंबे वक्त से बीमार थे और बीते दिनों ही उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। दिग्गज कलाकार के जाने से बॉलीवुड और उनके फैंस को इस खबर से गहरा सदमा पहुंचा हैं पूरेफिल्‍म जगत में शोक का माहौल है। इरफान की प्रशंसा करने के बेशुमार कारण हैं, लेकिन अभिनेता ने अपने अपफ्रंट और नो-बकवास रवैये के कारण विशेष रूप से प्रशंसा पाई है।

इरफान खान की पत्नी सुतापा से मिलिए जिनके लिए दोबारा जीना चाहते थे वो, जानें कहां हुई उनकी पहली मुलाकात

    Irrfan Khan के निधन से बॉलीवुड में शोक, Amitabh Bachchan ने कही ये बात | वनइंडिया हिंदी
    इरफान ने बताया था कि रोजा के पीछे क्या है महान उद्देश्‍य हैं

    इरफान ने बताया था कि रोजा के पीछे क्या है महान उद्देश्‍य हैं

    हमेशा बेबाकी से अपनी बात रखने वाले दिग्गज अभिनेता और सुशिक्षित और समझदार इस कलाकार ने अपने मजहब को लेकर रोजा और रमजान के संबंध अपनी राय रखी थी। जब इरफान ने रमजान में रखे जाने पर सवाल उठाया और इसके पीछे के बड़े उद्देश्य को समझाया। हालांकि रमजान के पाक महीने में में दिया गया बयान उनके लिए मुसीबत बन गया था। कट्टरपंथी और रूढ़िवादी लोगों ने काफी विरोध किया।

    रोजा को लेकर इरफान ने कहीं थी ये बड़ी बात

    रोजा को लेकर इरफान ने कहीं थी ये बड़ी बात

    2016 में मीडिया को दिए गए एक साक्षात्कार में रमजान के महीने के दौरान उपवास के अनुष्ठान की निंदा करने के बाद एक इस पर बड़ी बहस शुरु हो गई थी। उन्‍होंने रमजान में रखे जाने वाले रोजा और मुहर्रम के त्यौहार पर सवाल खड़ा किया था। ये बयान उन्‍होंने जयपुर में अपनी फिल्म मदारी के प्रमोशन के दौरान दिया था। उन्होंने कहा कि रमजान में उपवास रखने के बजाय लोगों को यह आत्मचिंतन और आत्मआंकलन करना चाहिए।

    "रोजा ध्यान के लिए है, अल्‍लाह और खुद की तलाश करो।

    रमजान में रखे जानें वाले रोजा पर अपने विचार विस्तार से बताते हुए, इरफान ने कहा, "रोजा ध्यान के लिए है। खुद को तलाशने के लिए। बड़े उद्देश्य को समझने के लिए। खुद को जानने के लिए। बलिदान को जानने के लिए। हम ध्यान में क्या करते हैं। आप खुद के अंदर गहराई से तलाश करें। अल्‍लाह और खुद की तलाश करो। " मैं कह रहा हूँ कि उस के पीछे के उद्देश्‍य को जानिए उसकी गहराई में जाइए कि यह किसलिए है। सभी प्रथाओं और धर्मों से ऊपर उठ कर गहरे उद्देश्य से जुड़ने के लिए हम आए हैं हमारा जन्‍म इन स्वार्थी कारणों के लिए नहीं हुआ है। अगर मैं एक जाल में पड़ जाता हूं और अगर मैं ऐसा करता हूं, तो मुझे सजा मिलेगी। अगर मैं उस जाल में फंस गया, तो मैं इसके पीछे बड़ा उद्देश्य खो देता हूं।

    इरफान ने कहा था कुर्बानी से पुण्‍य नहीं मिलता

    इरफान ने कहा था कुर्बानी से पुण्‍य नहीं मिलता

    इतना ही नहीं मुसलमानों के त्‍योहार बकरीद और मुहर्ररम पर उन्‍होंने कहा कि कि बकरे की कुर्बानी से पुण्य नहीं मिलता। हम, मुसलमानों ने मुहर्रम का मज़ाक बनाया है। यह शोक के लिए है और हम क्या करते हैं? (तजिया) जुलूस निकालें हमने, मुसलमानों ने, मोहर्रम का मज़ाक बनाया है। इसका मतलब शोक करना है और हम क्या करते हैं?

    इरफान के बयान की आलोचना होने पर उन्‍होंने जवाब में कहीं थी ये बात

    इरफान के बयान की आलोचना होने पर उन्‍होंने जवाब में कहीं थी ये बात

    इरफान की इन टिप्पणियों को जयपुर में मुस्लिम मौलवियों की कड़ी आलोचना की थी। अभिनेता ने 2016 में मीडिया को दिए गए साक्षात्कार में विस्तार से बताया और कहा कि उनके बयान का "मादारी फिल्‍म के रिलीज होने से कोई लेना-देना नहीं था"। यह बात मैंने विवाद पैदा करने के इरादे से नहीं दिया था। यह एक ऐसी चीज है, जिसकी चर्चा हम हर समय दोस्तों और अपने घर में करते हैं। कुछ चीजें हैं जो आपके साथ रहती हैं। कुछ चिंताएं हैं जो आपके साथ रहती हैं। जब आप अपने विचार रखते हैं तो वो उनके साथ निकल कर आती हैं। कभी-कभी ऐसी प्रथाएं होती हैं जो आपको एक बड़े उद्देश्य के लिए होती हैं और एक बड़ा उद्देश्य खोजने के लिए होती हैं। साक्षात्कार में इरफान ने कहा कि जैसे ज़कात के अलग-अलग उद्देश्य होते हैं। जब तक हम इसमें एक बड़ा उद्देश्य नहीं समझते हैं, तब तक इसका क्या मतलब है।

    प्रत्येक धर्म को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए

    प्रत्येक धर्म को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए

    इरफान ने जोर देकर कहा था कि "एक चर्चा होनी चाहिए," "मैं एक बहस नहीं छेड़ना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि लोग इस पर चर्चा करें लेकिन मैं ये झंडा लेकर इस मुद्दे पर इस तरह से आगे नहीं बढ़ना चाहता कि 'आइए और बहस करें'। " धर्म पर टिप्पणी करते हुए, इरफान ने कहा, "प्रत्येक धर्म को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए और आज के समय में प्रासंगिकता को देखना चाहिए। वे क्यों बनाए गए थे और वे आज के समय में क्या कर रहे हैं। जब मैं ज़कात देता हूं, तो यह समझना मेरी ज़िम्मेदारी है कि मेरा ज़कात लोगों को बना रहा है। आश्रित या क्या यह उन्हें अपने पैरों पर खड़े होने का मौका दे रहा है। मुझे नहीं पता कि धर्म ने समझाया या नहीं। मैं धर्म में कोई अधिकार नहीं हूं। लेकिन उद्देश्य को समझना मेरी जिम्मेदारी है। जब तक हम प्रासंगिकता नहीं पाते। आज के समय में, अभ्यास कभी-कभी आपको गुमराह करते हैं। क्योंकि आप सजा पाने के जाल में फंस जाते हैं। "

    इरफान खान की अंतिम यात्रा में शामिल हुए महज 20 लोग, मुंबई कब्रिस्‍तान में दफनाया गया अभिनेता का शव

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    When Irrfan questioned Ramzan fasting and explained the bigger purpose behind it,
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more