• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चांद पर जाने के लिए बने नए सूट में क्या है ख़ास

By पॉल रिनकॉन

नासा ने बनाए दो नए सूट
NASA/JOEL KOWSKY
नासा ने बनाए दो नए सूट

चांद पर जाने वाले अंतरिक्षयात्रियों के लिए अमरीकी स्पेस एजेंसी नासा ने दो नए तरह के सूट के डिज़ाइन तैयार किए हैं.

एजेंसी के आर्माटिस कार्यक्रम के तहत बने इन नए सूट के डिज़ाइन को नासा प्रमुख जिम ब्रिडेनस्टाइन ने बुधवार को दुनिया के सामने रखा.

पहले सूट का नाम है एक्सईएमयू, जो फिलहाल अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर पहने जाने वाले सूट के समान है. नासा का कहना है कि चांद पर चलने के लिए ये बेहतर है और इसका फिट भी पहले से अच्छा है.

नासा ने बनाए दो नए सूट
NASA/JOEL KOWSKY
नासा ने बनाए दो नए सूट

इसके साथ ही एक नारंगी रंग के सूट का मॉडल भी है जिसे ओरायन क्रू सर्वाइवल सिस्टम कहा जा रहा है. हेलमेट के साथ बना ये सूट अंतरिक्षयात्री उस वक्त पहन सकते हैं जब ओरायन अंतरिक्षयान धरती से बाहर छोड़ा जाएगा और फिर वो वापस धरती में प्रवेश करेगा.

इसे चांद पर जाने के साथ-साथ दूसरे ग्रहों पर जाते वक्त भी पहना जा सकता है.

नासा ने बनाए दो नए सूट
Reuters
नासा ने बनाए दो नए सूट

एक्सप्लोरेशन एक्स्ट्रीवेहिकुलर मोबिलिटी यूनिट यानी एक्सईएमयू सूट अंतरिक्षयात्री के शरीर के आकार के अनुसार ढल जाता है.

इसी साल मार्च में महिला अंतरिक्षयात्रियों का एक दल अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन जाने वाला था. इस योजना को उस वक्त रोक दिया गया जब इन महिला अंतरिक्षयात्रियों के शरीर के आकार के अनुसार उन्हें ठीक फिट होने वाले सूट की व्यवस्था नहीं की जा सकी.

नासा ने बनाए दो नए सूट
PA Media
नासा ने बनाए दो नए सूट

स्पेसक्राफ्ट इंजीनियर ऐमी रॉस का कहना है कि इन नए सूटों में अंतरिक्षयात्री पहले से बेहतर तरीके से हाथों और कलाई का इस्तेमाल कर पाएंगे. वो सिर के ऊपर तक अपना हाथ घुमा सकेंगे.

इसके साथ ही इन नए सूटों को कमर और घुटनों से पास अधिक फ्लेक्सिबन बनाया गया है ताकि ज़रूरत पड़ने पर अंतरिक्षयात्री झुककर कोई पत्थर भी उठा सके.

स्पेसक्राफ्ट इंजीनियर क्रिस्टीन डेविस के अनुसार पुराने सूटों के मुक़ाबले चांद के शोध में इससे काफी मदद मिलेगी.

नासा ने बनाए दो नए सूट
Reuters
नासा ने बनाए दो नए सूट

ऐमी रॉस का कहना है कि ये सूट इतना मज़बूत है कि चांद पर उड़ने वाली लूनर डस्ट से इसे कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा.

इन सूटों को भीतर ऑक्सीजन की सप्लाई को भी बेहतर बनाया गया है. इसे पहनने वाले अंतरिक्षयात्री बिना चिंता लगतार आठ घंटे काम कर सकता है, आपात स्थिती के लिए एक और घंटे के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था भी सूट में है.

नासा ने बनाए दो नए सूट
Reuters
नासा ने बनाए दो नए सूट

ओरायन क्रू सर्वाइवल सिस्टम पहन कर दिखाने वाले जॉनसन स्पेस सेंटर के डस्टिन गोमर्ट कहते हैं, "ये सूट आपको सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए बना है. ये पहन कर आप आसानी से काम कर सकते हैं, बैठ भी सकते हैं."

ये सूट वैक्यूम में अंतरिक्षयान के भीतर बदलते हवा के दबाव को झेलने में पूरी तरह सक्षम है.

डस्टिन कहते हैं, "ये सूट कम से कम छह दिनों तक अंतरिक्ष में बदलते दबाव में सुरक्षित रहने के लिए बनाया गया है."

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
What's special in the new suit made to go to the moon
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X