• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या है नई शिक्षा नीति 2020? जल्द इतिहास बन जाएंगे UGC, AICTE और HRD मंत्रालय!

|

बेंगलुरू। शिक्षा के क्षेत्रों में आमूल-चूल परिवर्तनों वाली नई शिक्षा नीति 2020 को बुधवार को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी देने के साथ ही यूजीसी, एनसीटीआई और एआईसीटीई जैसी विनियमन वाली संस्थाएं इतिहास बन जाएंगे। HRD मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया है। सरकार का लक्ष्य है कि नए सत्र के शुरू होने से पहले नई शिक्षा नीति को पेश कर दिया जाए। चूंकि कोरोना वायरस महामारी के कारण नया शैक्षिक सत्र सितंबर-अक्टूबर में शुरू होगा।

nishank

गत 1 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने (नई शिक्षा नीति) NEP 2020 की समीक्षा की थी। नई शिक्षा नीति 2020 के मसौदे का ड्राफ्ट भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के पूर्व प्रमुख के कस्तूरीरंगन के नेतृत्व वाले विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा तैयार किया गया है। नई शिक्षा नीति 2020 के मसौदे के मुताबिक अब एक रेगुलेटिंग बॉडी के जरिए शिक्षा व्यवस्था को संचालित किया जाएगा।

जानिए, कोरोना इलाज के ऐसे 10 दावों की हकीकत, जो अब तक खोखेले साबित हुए हैं?जानिए, कोरोना इलाज के ऐसे 10 दावों की हकीकत, जो अब तक खोखेले साबित हुए हैं?

HRD मंत्रालय को शिक्षा मंत्रालय के रूप में फिर से रजिस्टर्ड किया जाएगा

HRD मंत्रालय को शिक्षा मंत्रालय के रूप में फिर से रजिस्टर्ड किया जाएगा

नई शिक्षा नीति 2020 के मसौदा नीति ने यह भी सुझाव दिया है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय को शिक्षा मंत्रालय के रूप में फिर से रजिस्टर्ड किया जाना चाहिए। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का कहना है कि नई शिक्षा नीति के बाद युवाओं के लिए उच्चतर शिक्षा हासिल करना पहले की तुलना में आसान हो जाएगा। उनके मुताबिक नई शिक्षा नीति में क्षेत्र से जुड़े कई मुद्दों को हल कर लिया गया है।

आम बजट में एचआरडी मंत्रालय को मिला था 99 हजार करोड़

आम बजट में एचआरडी मंत्रालय को मिला था 99 हजार करोड़

मोदी सरकार के पिछले बजट की घोषणा के समय नई शिक्षा नीति के लिए 99 हजार करोड़ रुपए दिया गया था। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में बजट भाषण पढ़ते हुए कहा था कि इस वित्तीय वर्ष में केंद्र सरकार शिक्षा के लिए 99 हजार 300 करोड़ रुपए की बड़ी राशि खर्च करेगी। बजट में आधारभूत संरचना के विकास तथा स्किल आधारित शिक्षा में खासा जोर दिया था।

क्या है नई शिक्षा नीति 2020?

क्या है नई शिक्षा नीति 2020?

नई शिक्षा नीति 1986 की शिक्षा नीति की जगह पर लागू की गई है। नई शिक्षा नीति 2020 के में 3 वर्ष से 18 वर्ष तक के बच्चों को शिक्षा का अधिकार कानून, 2009 के अंदर रखा गया है। नई शिक्षा नीति का उद्देश्य सभी छात्रों को उच्च शिक्षा प्रदान करना है। नई शिक्षा नीति 2020 नियम के मुताबिक सभी स्कूलों को राइट टू एजुकेशन के तहत पढ़ने वाले बच्चों के लिए कुछ सीटें रिजर्व रखनी होगी और छात्रों को एडमिशन देना होगा।

नई शिक्षा नीति 2020 का क्या है उद्देश्य?

नई शिक्षा नीति 2020 का क्या है उद्देश्य?

मोदी मंत्रिमंडल द्वारा मंजूर की गई नई शिक्षा नीति के घोषित उद्देश्यों में से एक है भारतीय होने में गर्व पैदा करना है। इसका लक्ष्य न केवल विचारों में, बल्कि आत्मा, बुद्धि और कर्मों के साथ ज्ञान, कौशल, मूल्यों और प्रस्तावों को भी विकसित करना है। यह मानवाधिकारों, स्थायी विकास और जीवन यापन और वैश्विक कल्याण के लिए जिम्मेदार प्रतिबद्धता का समर्थन करता है।

2040 तक सभी उच्च शिक्षा संस्थानों को बहु-विषयक बनना होगा

2040 तक सभी उच्च शिक्षा संस्थानों को बहु-विषयक बनना होगा

नई शिक्षा नीति के मसौदे के मुताबिक 2040 तक सभी उच्च शिक्षा संस्थान (HEI) का उद्देश्य बहु-विषयक संस्थान बनना होगा, जिनमें से प्रत्येक का लक्ष्य 3,000 या अधिक छात्र होंगे। 2030 तक हर जिले में या उसके आसपास कम से कम एक बड़ी बहु-विषयक संस्था होगी। इसका उद्देश्य उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात को बढ़ाना होगा, जिसमें 2035 तक व्यावसायिक शिक्षा को 26.3 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी किया जाएगा।

    New Education Policy 2020: Shashi Tharoor ने किया स्वागत, गिनाईं चुनौतियां | वनइंडिया हिंदी
    एकल-स्ट्रीम उच्च शिक्षा संस्थानों को समाप्त कर दिया जाएगा

    एकल-स्ट्रीम उच्च शिक्षा संस्थानों को समाप्त कर दिया जाएगा

    नई शिक्षा नीति 2020 लागू होने के साथ ही एकल-स्ट्रीम उच्च शिक्षा संस्थानों को समय के साथ समाप्त कर दिया जाएगा और सभी बहु-विषयक बनने की ओर बढ़ेंगे। वहीं, 'संबद्ध कॉलेजों की प्रणाली को धीरे-धीरे 15 वर्षों में समाप्त कर दिया जाएगा।

    बीजेपी के घोषणा पत्र में हिस्सा रही है नई शिक्षा नीति 2020

    बीजेपी के घोषणा पत्र में हिस्सा रही है नई शिक्षा नीति 2020

    नई शिक्षा नीति 2020 के मसौदे को वर्ष 1986 में तैयार किया गया था और 1992 में इसे संशोधित किया गया और नई शिक्षा नीति 2020 वर्ष 2014 के आम चुनाव में बीजेपी के घोषणा पत्र में हिस्सा रही थी। बीजेपी ने वादा किया था कि अगर वह सत्ता में आती है तो वह नई शिक्षा नीति 2020 को लागू करेगी। यानी कह सकते हैं कि नई शिक्षा नीति 2020 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी द्वारा घोषित तमाम वादों की फेहरिस्तों में एक था।

    नई शिक्षा नीति 2020 में शिक्षा के उन्नयन को लेकर कई बड़े बदलाव

    नई शिक्षा नीति 2020 में शिक्षा के उन्नयन को लेकर कई बड़े बदलाव

    केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा मंजूर की गई नई शिक्षा नीति 2020 में शिक्षा के उन्नयन को लेकर कई बड़े बदलाव किए गए हैं, जिनमें शीर्ष विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में कैंपस स्थापित करने की अनुमति देना, छात्रों को व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करना और संस्थानों की दिशा में एक बड़ा कदम उठाना शामिल है।

    नई शिक्षा नीति का लक्ष्य भारत को वैश्विक ज्ञान महाशक्ति बनाना है

    नई शिक्षा नीति का लक्ष्य भारत को वैश्विक ज्ञान महाशक्ति बनाना है

    इस नीति का लक्ष्य भारत को वैश्विक ज्ञान महाशक्ति बनाना है और 2040 तक सभी उच्च शिक्षा संस्थान (HEI) का उद्देश्य बहु-विषयक संस्थान बनना है, जिनमें से प्रत्येक का लक्ष्य 3,000 या अधिक छात्र होंगे।

    अभी विश्वविद्यालयों को देश में उच्च शिक्षा संस्थान माना जाता है

    अभी विश्वविद्यालयों को देश में उच्च शिक्षा संस्थान माना जाता है

    देश में उच्च शिक्षा संस्थान (HEI) के रूप में वर्तमान में विश्वविद्यालय को माना जाता है। नई शिक्षा नीति 2020 के मसौदे के मुताबिक संबद्ध विश्वविद्यालय, 'संबद्ध तकनीकी विश्वविद्यालय', 'एकात्मक विश्वविद्यालय' को 'विश्वविद्यालय' में बदल दिया जाएगा। यानी एक विश्वविद्यालय का मतलब एक बहु-विषयक संस्थान होगा, जो उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षण, अनुसंधान और सामुदायिक सहभागिता के साथ स्नातक और स्नातक कार्यक्रम प्रदान करेगा।

    कला और मानविकी के छात्र अधिक विज्ञान सीखने का लक्ष्य रखेंगे

    कला और मानविकी के छात्र अधिक विज्ञान सीखने का लक्ष्य रखेंगे

    IIT जैसे इंजीनियरिंग संस्थान, कला और मानविकी वाले कॉलेजेज समग्र और बहु-विषयक शिक्षा की ओर बढ़ेंगे। कला और मानविकी के छात्र अधिक विज्ञान सीखने का लक्ष्य रखेंगे। भाषा, साहित्य, संगीत, दर्शन, कला, नृत्य, रंगमंच, शिक्षा, गणित, सांख्यिकी, शुद्ध और अनुप्रयुक्त विज्ञान, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, खेल, अनुवाद और व्याख्या आदि विभागों को सभी HEI में स्थापित और मजबूत किया जाएगा।

    छात्रों के लिए 4-वर्षीय बहु-विषयक बैचलर प्रोग्राम का विकल्प होगा

    छात्रों के लिए 4-वर्षीय बहु-विषयक बैचलर प्रोग्राम का विकल्प होगा

    स्नातक की डिग्री 3 या 4 साल की अवधि की होगी, जिसमें कई विकल्प होंगे। उदाहरण के लिए व्यावसायिक क्षेत्रों के लिए 2 साल के अध्ययन के बाद डिप्लोमा अथवा 3 साल के कार्यक्रम के बाद स्नातक की डिग्री सहित एक क्षेत्र में 1 साल पूरा करने के बाद एक प्रमाण पत्र। 4-वर्षीय बहु-विषयक बैचलर प्रोग्राम का पसंदीदा विकल्प होगा। यदि छात्र एक कठोर अनुसंधान परियोजना को पूरा करता है, तो 4-वर्षीय कार्यक्रम भी 'अनुसंधान के साथ' हो सकता है।

    बैंक ऑफ क्रेडिट (एबीसी) एकेडमी स्थापित की जाएगी

    बैंक ऑफ क्रेडिट (एबीसी) एकेडमी स्थापित की जाएगी

    नई शिक्षा नीति 2020 के तहत देश में एक अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट (एबीसी) स्थापित की जाएगी, जो अर्जित किए गए अकादमिक क्रेडिट को डिजिटल रूप से संग्रहीत करेगा।

    IIT और IIM,के साथ समग्र और बहु-विषयक शिक्षा के लिए मॉडल

    IIT और IIM,के साथ समग्र और बहु-विषयक शिक्षा के लिए मॉडल

    सार्वजनिक विश्वविद्यालय स्थापित किए जाएंगे, जिन्हें MERUs (बहु-विषयक शिक्षा और अनुसंधान विश्वविद्यालय) कहा जाता है। उच्च शिक्षा संस्थान निरंतर और व्यापक मूल्यांकन की दिशा में उच्च स्तर की परीक्षाओं से दूर हो जाएंगे।

    भारत को वैश्विक अध्ययन डेस्टीनेशन के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा

    भारत को वैश्विक अध्ययन डेस्टीनेशन के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा

    भारत को सस्ती लागत पर प्रीमियम शिक्षा प्रदान करने वाले वैश्विक स्टडी डेस्टीनेशन के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा। विदेशी छात्रों की मेजबानी करने वाले प्रत्येक संस्थान में एक अंतर्राष्ट्रीय छात्र कार्यालय स्थापित किया जाएगा।

    विदेश में परिसर स्थापित कर पाएंगे भारतीय विश्वविद्यालय

    विदेश में परिसर स्थापित कर पाएंगे भारतीय विश्वविद्यालय

    उच्च प्रदर्शन करने वाले भारतीय विश्वविद्यालयों को अन्य देशों में परिसर स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके साथ ही साथ दुनिया के शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों में से चयनित विश्वविद्यालयों को भारत में काम करने की सुविधा प्रदान की जाएगी।

    व्यावसायिक शिक्षा को उच्च शिक्षा संस्थानों में एकीकृत किया जाएगा

    व्यावसायिक शिक्षा को उच्च शिक्षा संस्थानों में एकीकृत किया जाएगा

    व्यावसायिक शिक्षा को अगले दशक में चरणबद्ध तरीके से सभी स्कूल और उच्च शिक्षा संस्थानों में एकीकृत किया जाएगा। 2025 तक स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणाली के माध्यम से कम से कम 50 फीसदी शिक्षार्थियों को व्यावसायिक शिक्षा के लिए जोखिम लेना होगा। एससी, एसटी, ओबीसी, और अन्य एसईडीजी से संबंधित छात्रों की योग्यता को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया जाएगा।

    उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए होगी एक एकल नियामक संस्था

    उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए होगी एक एकल नियामक संस्था

    बुधवार को केंद्र द्वारा अनुमोदित नई शिक्षा नीति 2020 देश भर के उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए एक एकल नियामक की परिकल्पना की गई है।भारतीय उच्चतर शिक्षा परिषद (HECI) में विभिन्न भूमिकाओं को पूरा करने के लिए कई कार्यक्षेत्र होंगे। HECI की पहली ऊर्ध्वाधर राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा नियामक परिषद (NHERC) होगी।

    वर्तमान में यूजीसी, एनसीटीआई और एआईसीटीई करता है विनियमन

    वर्तमान में यूजीसी, एनसीटीआई और एआईसीटीई करता है विनियमन

    वर्तमान में उच्च शिक्षा निकायों का विनियमन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) जैसे निकायों के माध्यम से किया जाता है।

    NHERC एकल बिंदु नियामक के रूप में कार्य करेगा

    NHERC एकल बिंदु नियामक के रूप में कार्य करेगा

    यह शिक्षक शिक्षा सहित उच्च शिक्षा क्षेत्र के लिए सामान्य, एकल बिंदु नियामक के रूप में कार्य करेगा। हालांकि, यह चिकित्सा और कानूनी शिक्षा को बाहर करेगा। HECI की दूसरी ऊर्ध्वाधर, एक 'मेटा-मान्यता प्राप्त निकाय' होगी, जिसे राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद (NAC) कहा जाता है। संस्थानों का प्रत्यायन मुख्य रूप से बुनियादी मानदंडों, सार्वजनिक स्व-प्रकटीकरण, सुशासन, और परिणामों पर आधारित होगा और इसे नैक द्वारा निगरानी और देखरेख करने वाले मान्यता प्राप्त संस्थानों के एक स्वतंत्र पारिस्थितिकी तंत्र द्वारा किया जाएगा।

    English summary
    Regulatory bodies like UGC, NCTI and AICTE will become history with the Union Cabinet approving the new education policy 2020 on radical changes in education sectors on Wednesday. The HRD Ministry has been renamed as Ministry of Education. The government aims to introduce a new education policy before the new session begins. Since the new academic session due to corona virus epidemic will start in September-October.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X