• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या इशारा कर रहे हैं गुलाम नबी आजाद- 'जो मुझे गहराई से जानते हैं कल वो भावुक हो गए....'

|

नई दिल्ली: राज्यसभा में मंगलवार को कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद समेत चार सांसदों के कार्यकाल पूरे होने के मौके पर विदाई भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भावुक होकर खासकर आजाद की खूब काफी तारीफ की थी।आज कांग्रेस नेता आजाद ने बिना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए खुद के लिए अच्छी भावना जाहिर करने वाले सब लोगों का आभार जताया है। उन्होंने कहा है कि जो लोग वर्षों से उन्हें गहराई से जानते हैं, कल वही लोग भावुक हुए। उन्होंने यह भी कहा है कि जाहिर है कि हम कुछ लोगों को सतही तौर पर जानते हैं, जबकि कुछ को बहुत ही गहराई से समझते हैं। उन्होंने उनको शुभकामनाएं देने वाले सभी लोगों को शुक्रिया जताया है।

Ghulam Nabi Azad said without saying anyone name that only those who have known him deeply for years, got emotional yesterday
    Rajya Sabha से विदाई के वक्त Ghulam Nabi Azad ने Pakistan को लेकर क्या कहा? | वनइंडिया हिंदी

    राज्यसभा में गुलाम नबी आजाद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जिन शब्दों का इस्तेमाल किया और उनकी पुरानी बातों को याद करते हुए जितने भावुक हो गए, उसकी सियासी गलियारों में खूब चर्चा हो रही है। अब राज्यसभा सांसद ने बिना सीधे पीएम मोदी का जिक्र किए कहा है, 'कुछ लोगों को हम सतही तरीके से समझते हैं, जबकि कुछ को गहराई से। जो लोग मुझे गहराई से जानते हैं और वर्षों से मेरे काम को देखा है, वो कल भावुक हो गए। मैं सबके प्रति आभार जताता हूं। मैं उन लोगों के प्रति भी आभार जाहिर करता हूं जिन्होंने मुझे संदेश भेजे हैं, फोन किया है और मेरे लिए ट्वीट किए हैं।'

    बता दें कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता के साथ अपने नजदीकी ताल्लुकातों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आंखें भर आईं थीं। उन्होंने कहा था कि, 'मुझे चिंता है कि उनकी जगह जो भी आएगा, उसके लिए उनकी जगह लेना बहुत ही मुश्किल होगा, क्योंकि सदन में उन्होंने ना सिर्फ अपनी पार्टी की चिंता की है, बल्कि देश की भी चिंता की है। यह कोई सामान्य सी बात नहीं है, बहुत बड़ी बात है..............28 साल का अनुभव..यह बहुत ही बड़ी बात है।'

    पीएम मोदी ने आजाद को सलाम करते हुए कहा था, 'सत्ता आती है और जाती है, लेकिन उसे कैसे संभालना (बहुत कम लोग इसे पचा पाते हैं).....इसलिए एक मित्र की तरह.....इतने वर्षों के काम के आधार पर मैं उनका आदर करता हूं.....'

    इसे भी पढ़ें- गुलाम नबी आजाद आगे क्या करेंगे? PM Modi की तारीफ के बाद अटकलों का बाजार गर्म

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Ghulam Nabi Azad said without saying anyone name that only those who have known him deeply for years, got emotional yesterday
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X