• search

ट्रांसजेंडर टॉयलेट में क्या होता है ख़ास?

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    ट्रांसजेंडर
    Getty Images
    ट्रांसजेंडर

    नागपुर के ज़िला प्रशासन ने शनिवार को किन्नर समुदाय के लिए एक सार्वजनिक टॉयलेट बनाने की घोषणा की है.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, ये टॉयलेट पचपाओली और सीताबुल्दी नाम की दो जगहों पर बनाए जाएंगे.

    ख़ास बात ये है कि सार्वजनिक शौचालयों में सिर्फ ट्रांसजेंडर समुदाय के लोग ही जा सकेंगे.

    साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि ट्रांसजेंडरों के लिए अलग से शौचालय की व्यवस्था होनी चाहिए.

    भोपाल में ट्रांसजेंडरों का टॉयलेट

    केरल में खुला भारत का पहला ट्रांसजेंडर स्कूल

    इसी फ़ैसले के बाद से नागपुर की एक एनजीओ सारथी ट्रस्ट इस दिशा में काम कर रही थी.

    ट्रांसजेंडर
    Getty Images
    ट्रांसजेंडर

    कैसा होता है ट्रांसजेंडरों का टॉयलेट?

    अगर टॉयलेट की रूपरेखा की बात करें तो इस टॉयलेट में वो सभी सुविधाएं होंगी जो किसी भी सार्वजनिक टॉयलेट में होती हैं.

    सारथी ट्रस्ट के संस्थापक आनंद चंद्रानी ने बीबीसी से इस मुद्दे पर बात की है.

    चंद्रानी बताते हैं, "इस टॉयलेट पर साफ़ शब्दों में तीसरी पंक्ति लिखा होगा. शुरुआती तौर पर हम पायलट प्रोजेक्ट के तहत एक टॉयलेट बनाएंगे. इस टॉयलेट के निर्माण के बाद हम देखेंगे कि किन्नर समुदाय को इससे कितना फ़ायदा हो रहा है."

    ट्रांसजेंडर
    SHUREH NIYAZI/BBC
    ट्रांसजेंडर

    इससे पहले भी मध्यप्रदेश के भोपाल में ट्रांसजेंडरों के लिए टॉयलेट बनाया जा चुका है.

    इस टॉयलेट में वॉशरूम और मेकअप रूम भी बनाया गया था.

    क्यों ज़रूरी है एक अलग टॉयलेट?

    दुनिया के कई देशों में जेंडर न्यूट्रल शौचालयों को बनाए जाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया जा रहा है.

    इसका उद्देश्य ट्रांसजेंडर समुदाय को मुख्य धारा में लाना है.

    एक शौचालय ट्रांसजेंडरों के लिए भी...

    लेकिन नागपुर और भोपाल में बने ये टॉयलेट सिर्फ़ ट्रांसजेंडरों के लिए हैं.

    ट्रांसजेंडर समुदाय अपने लिए जेंडर न्यूट्रल टॉयलेट की जगह अलग शौचालयों की मांग करता है.

    ट्रांसजेंडर
    Getty Images
    ट्रांसजेंडर

    क्योंकि ऐसे टॉयलेटों में ट्रांसजेंडर मानसिक और शारीरिक शोषण झेलने का दावा करते हैं.

    कितने अहम हैं ये टॉयलेट!

    अगर ढांचे और मूलभूत सुविधाओं की बात करें तो ट्रांसजेंडर टॉयलेट दूसरे सार्वजनिक शौचालयों जैसे ही होंगे.

    लेकिन अगर इन टॉयलेट्स के महत्व की बात करें तो किन्नर समुदाय दुनियाभर में अपने लिए अलग टॉयलेट हासिल करने की लड़ाई लड़ रहा है.

    ट्रांसजेंडर
    AFP
    ट्रांसजेंडर

    अमरीका में ओबामा प्रशासन ने आदेश जारी करके कहा था कि ट्रांसजेंडर छात्र, लड़के-लड़कियों के लिए बने टॉयलेट्स का इस्तेमाल अपनी सुविधा अनुसार कर सकते हैं.

    लेकिन इस फ़ैसले को अमरीका के 13 प्रांतों से कानूनी चुनौती मिली थी.

    किन्नर
    Reuters
    किन्नर

    अमरीका के प्रांत न्यू जर्सी में एक ट्रांसजेंडर एरिन बिसन ने छोटी दूरी के सफर वाले पानी के जहाजों में बाथरूम में लेडीज़ और जेंट्स लिखे होने के ख़िलाफ़ मुकदमा किया था.

    इस मामले में एरिन बिसन को जीत हासिल हुई थी.

    (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    What is special in Transgender's Tiolet

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X