• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पश्चिम बंगाल चुनाव: मोदी, शाह और नड्डा की 120 रैलियां बदलेंगी चुनावी फिजां!

|

पश्चिम बंगाल चुनाव: मोदी, शाह और नड्डा की 120 रैलियां बदलेंगी चुनावी फिजां!

कोलकाता। क्रांति बिल्कुल कोने पर है। उम्मीदों का ज्वार ठाठें मार रहा है। भाजपा ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है। अब पूरी पलटन चुनावी जंग में उतरने वाली है। नरेन्द्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा जैसे महारथी 120 रैलियां करेंगे। भाजपा की उम्मीदें नरेन्द्र मोदी पर टिकी हैं इसलिए उनकी अधिक से अधिक सभाएं होंगी। माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने 20 रैलियों के लिए सहमति दे दी है। अमित शाह और जेपी नड्डा की पचास-पचास रैलियों की रूपरेखा बनायी गयी है। फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ से भी भाजपा ने बहुत आस लगा रखी है। अन्य वरिष्ठ नेताओं की करीब 500 चुनावी रैलियों की योजना है। ममता बनर्जी जैसी मजबूत जनाधार वाली नेता से मुकाबले में भाजपा कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखना चाहती।

नरेन्द्र मोदी की रणनीति

नरेन्द्र मोदी की रणनीति

चुनाव की घोषणा से पहले ही नरेन्द्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में चुनावी समां बांध रखा है। नरेन्द्र मोदी अपनी लोकप्रियता भुनाने के साथ-साथ सामाजिक समीकरणों पर भी ध्यान रख रहे हैं। वे 26 मार्च को बांग्लादेश की यात्रा पर जाने वाले हैं। इस यात्रा के दौरान वे मतुआ सम्प्रदाय के संस्थापक हरिचंद्र ठाकुर की जन्मस्थली का भी दर्शन करेंगे। बंगाल में अनुसूचित जाति की आबादी करीब 1 करोड़ 84 लाख है। इनमें आधे लोग मतुआ सम्प्रदाय से जुड़े हैं। मतुआ सम्प्रदाय का मसला पश्चिम बंगाल की चुनावी राजनीति में बहुत अहम है। मतुआ सम्प्रदाय एक धार्मिक पंथ है जिसकी शुरुआत समाजसुधारक हरिचंद्र ठाकुर ने 1860 में की थी। मतुआ लोग हरिचंद्र ठाकुर को भगवान का अवतार मानते हैं। उनका जन्म संयुक्त बंगाल (बांग्लादेश) के ओरकांडी में हुआ था। जब 1947 में भारत का विभाजन हुआ तो मतुआ सम्प्रदाय के लोगों की अधिसंख्य आबादी पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) में पड़ गयी। विभाजन के बाद हरिचंद्र ठाकुर के परिजन पश्चिम बंगाल में आ गये। उनके साथ मतुआ लोगों की एक बड़ी आबादी भी पश्चिम बंगाल में आ गयी। ऐसे में मतुआ लोगों की नागरिकता का एक बड़ा सवाल उठ खड़ा हुआ। अब यह सवाल पश्चिम बंगाल की राजनीति का एक बड़ा मुद्दा बन गया है।

मतुआ वोट बैंक पर नजर

मतुआ वोट बैंक पर नजर

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने मतुआ पंथ के संस्थापक हरिचंद्र ठाकुर के वंशज (मतुआ माता के पोते) शांतनु ठाकुर को वनगांव से टिकट दिया था जहां से वे विजयी रहे थे। अनुसूचित जाति की एक बड़ी आबादी मतुआ सम्प्रदाय से जुड़ी है। इसलिए नरेन्द्र मोदी ने विधानसभा चुनाव में इस समुदाय का जनसमर्थन हासिल करने के लिए ये विशेष योजना बनायी है। बंगाल में करीब 40 विधानसभा सीटों पर मतुआ वोटरों की संख्या निर्णायक है। वे जिसकी तरफ झुकेंगे उसका पलड़ा भारी होगा। 2010 में मतुआ माता वीणापाणि देवी ने ममता बनर्जी को समुदाय का संरक्षक घोषित कर दिया था। इसका नतीजा ये रहा कि 2011 में उन्होंने वामपंथियों की 34 साल पुरानी सरकार उखाड़ फेंकी। अब नरेन्द्र मोदी इनको अपने पाले में करने के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं।

पश्चिम-बंगाल में 3 से 200 सीटों की छलांग कैसे लगाएगी भाजपा?

बंगाल के लिए अब भाजपा बाहरी नहीं

बंगाल के लिए अब भाजपा बाहरी नहीं

भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं के बंगाल दौरे को ममता बनर्जी ने मुद्दा बनाने की कोशिश की है। नरेन्द्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा जैसे नेताओं को ही वे बाहरी करार देकर निशाना साध रही हैं। ममता बनर्जी के इस सवाल पर पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और सांसद दिलीप घोष का कहना है भाजपा एक राष्ट्रीय पार्टी है। अगर इसके शीर्ष नेता पश्चिम बंगाल आते हैं तो इसमें एतराज की बात क्या है ? भाजपा अब बंगाल में बाहरी पार्टी नहीं रही। 18 लोकसभा क्षेत्र के बंगाली लोग अब भाजपा के साथ हैं। सात हजार से अधिक पंचायत सीटें जीत कर भाजपा अब बंगाल के गांवों में भी पहुंच गयी है। तृणमूल के शासन से ऊबे लोग भाजपा के साथ आ रहे हैं। ऐसे में यहां बाहरी बनाम स्थानीय का कोई मुद्दा ही नहीं है। दिलीप घोष का दावा है कि पहले और दूसरे चरण के चुनाव के लिए उम्मीदवारों का नाम लगभग फाइनल हो चुका है। कभी भी उम्मीदवारों के नाम की घोषणा हो सकती है। भाजपा के पास जिताऊ उम्मीदवारों की कोई कमी नहीं है।

बंगाल में भाजपा क्यों हो जाएगी सेंचुरी से पहले आउट, पीके के दावे में कितना दम?

बंगाली ही होगा भाजपा का सीएम कैंडिडेट

बंगाली ही होगा भाजपा का सीएम कैंडिडेट

भाजपा के सीएम उम्मीदवार घोषित नहीं होने पर अक्सर तृणमूल कांग्रेस तंज कसती रही है। अब भाजपा नेता नितिन गडकरी ने इसका जवाब दिया है। उन्होंने कहा है कि कोई बंगाली बी भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार होगा। वाजिब समय पर इसका ऐलान कर दिया जाएगा। माना जा रहा है कि 7 मार्च को जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोलकाता के ब्रिगेड मैदान में चुनावी सभा करेंगे तो इस मंच से भावी मुख्यमंत्री उम्मीदवार के नाम की घोषणा हो सकती है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
West Bengal assembly election 2021: Will 120 rallies of Narendra Modi, Amit Shah and JP Nadda change the electoral mood!
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X