• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सांस रोकने से बढ़ सकता है कोरोना का खतरा, स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

|

नई दिल्ली। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मद्रास (IITM) के एक अध्ययन में पाया गया है कि Sars-CoV-2 वायरस से संक्रमित लार की बूंदों को किसी व्यक्ति के फेफड़ों के अंदर तक ले जाने की प्रक्रिया व्यक्ति के सांस रोकने पर बढ़ जाती है। Sars-CoV-2 वायरस ही कोविड-19 का कारण है।

corona virus

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मद्रास (IITM) के डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैकेनिक्स के प्रोफेसर महेश पंचागनुला के नेतृत्व में रिसर्च स्कॉलर अर्णब कुमार मल्लिक, सौमल्या मुखर्जी की रिसर्च टीम ने एक प्रयोगशाला में सांस लेने की फ्रीक्वेंसी तैयार की। इसके बाद वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि, "कम सांस लेने की आवृत्ति वायरस की उपस्थिति के समय को बढ़ाती है और इस प्रकार वायरस के ठहरने की संभवाना बढ़ जाती है जिसके परिणामस्वरूप एक्सपोज व्यक्ति में संक्रमण होता है। अध्ययन के परिणाम नवंबर 2020 में प्रतिष्ठित पीयर-रिव्यू जर्नल, फिजिक्स ऑफ फ्लूइड्स में प्रकाशित किए गए थे।

कोरोना की फ्री वैक्सीन को लेकर सत्येंद्र जैन का बयान, केंद्र सरकार के जवाब का कर रहे हैं इंतजार

शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन से पता चलता है कि कैसे फेफड़ों के विभिन्न आयाम कोविड -19 के लिए किसी व्यक्ति की संवेदनशीलता को प्रभावित करते हैं। प्रोफेसर महेश पंचागनुला ने कहा, "कोविड-19 ने गहरी पल्मोनोलॉजिकल प्रणालीगत बीमारियों की हमारी समझ में एक अंतर खोला है। हमारा अध्ययन इस रहस्य को उजागर करता है कि कणों को गहरे फेफड़ों में कैसे पहुँचाया और जमा किया जाता है। हमारा अध्ययन भौतिक प्रक्रिया को प्रदर्शित करता है जिसके द्वारा एरोसोल कणों को फेफड़ों की गहरी पीढ़ियों में ले जाया जाता है।"

अपने प्रयोगशाला मॉडल के बारे में बताते हुए महेश पंचागनुला ने कहा, "हम फेंफड़ों की यांत्रिकी के बारे में लगातार अध्ययन कर रहे हैं और इसे समझने की कोशिश कर रहे हैं। कोविड-19 जैसे संक्रमण छींकने और खांसने से फैलते हैं क्योंकि इस दौरान मुंह से बूंदे बाहर निकलती हैं। हमारी टीम ने छोटी केशिकाओं में बूंदों के संचलन का अध्ययन करके फेफड़े के प्रेत मॉडल में छोटी बूंद की गतिशीलता का अनुकरण किया, जो ब्रोंचियोल्स के समान एक व्यास की थीं।" उन्होंने कहा कि अध्ययन के दौरान पानी को फ्लोरोसेंट कणों के साथ मिलाया गया था और इस तरल से उत्पन्न एरोसोल का उपयोग प्रयोगों के लिए एक नेबुलाइज़र की मदद से किया गया था। "इन फ्लोरोसेंट एरोसोल का उपयोग कोशिकाओं में कणों की गति और जमाव को ट्रैक करने के लिए किया गया था।"

पंचागनुला ने मास्क की महत्ता को समझाते हुए कहा, "विज्ञान ने साबित किया है कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना संक्रमण से सुरक्षा के रूप में बेहद फायदेमंद है। मास्क का उपयोग न केवल एक संक्रमित व्यक्ति की लार की बूंदों से बचाता है, बल्कि यह भी सुनिश्चित करता है कि अन्य लोग इन बूंदों के संपर्क में न आएं।" आईआईटी मद्रास का यह अध्ययन फेफड़ों पर कोविड -19 जैसे रोगों के प्रभाव पर ध्यान केंद्रित करने के अलावा, श्वसन संक्रमण के लिए बेहतर चिकित्सा और दवाओं के विकास का मार्ग भी प्रशस्त करता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Wearing masks, non-breathing, best way to prevent covid-19 infection: IIT-Madras
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X