• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: अटल सुरंग से गुजरा सेना का पहला काफिला, लद्दाख भेजी गई रसद

|

मनाली। हिमाचल प्रदेश के मनाली में स्थित अटल सुरंग से बुधवार को भारतीय सेना का पहला काफिला गुजरा है। इस सुरंग का उद्घाटन तीन अक्‍टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। इस सुरंग के बनने के बाद से मनाली और लेह के बीच की दूरी को तय करने में चार से पांच घंटे तक का समय बचेगा और 46 किलोमीटर की दूरी कम हो सकेगी। अटल सुरंग जो 9.2 किलोमीटर लंबी है, उसके बनने के बाद से सेना के लिए हर मौसम में तैनाती का रास्‍ता खुला रह सकेगा।

Indian-army-atal-tunnel.jpg

यह भी पढ़ें-अटल टनल के खुलने से बढ़ने वाली है चीन की चिंता?

    Atal Tunnel से पहली बार गुजरा Indian Army का काफिला, देखें वीडियो | वनइंडिया हिंदी

    चीन के साथ टकराव के बीच हुआ उद्घाटन

    अटल सुरंग का उद्घाटन पिछले दिनों ऐसे समय में हुआ है जब एलएसी पर चीन के साथ टकराव जारी है। इस सुरंग की वजह से हर मौसम में एलएसी की तरफ से जवानों को रवाना किया जा सकेगा। साथ ही उनके लिए रसद और दूसरे हथियारों को भी भेजा जा सकता है। सुरंग रोहतांग में लाहौल-स्‍पीति घाटी को मनाली से जोड़ती है। भारी बर्फबार की वजह से यह रास्‍ता पूरी तरह से कट जाता है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पिछले दिनों कहा था कि अटल सुरंग रणनीतिक तौर पर भारत के लिए बहुत जरूरी है। यह सुरंग पूरी तरह से देश की सेनाओं को समर्पित है जो भारत की सीमाओं की रक्षा करते हैं। साथ ही उन लोगों के लिए भी काफी जरूरी है जो सूदूर निर्जन इलाकों में रहते हैं। उन्‍होंने कहा कि इदस सुरंग के बनने के बाद से तेजी से एलएसी पर जवानों की तैनाती हो सकेगी। रक्षा मंत्री के मुताबिक यह सुरंग दो देशों की सीमाओं पर स्थित है और इसकी वजह से सेना के लिए बहुत ही कारगर है।

    हर मौसम में होगी टैंक्‍स की तैनाती

    अटल रोहतांग टनल ने भारत को रणनीतिक तौर पर मजबूत कर दिया है। 10,000 फीट से ज्‍यादा की ऊंचाई पर इस सुरंग को बनाकर पूरी दुनिया के सामने एक मुश्किल चुनौती को पूरा करके दिखाया गया है। इस सुरंग को इंजीनियरिंग का एक अद्भभुत नमूना करार दिया जा रहा है। वहीं इसके शुरू होते ही चीन के मुकाबले भारत की सेना की ताकत दोगुनी हो गई है। अटल रोहतांग सुरंग, भारतीय सेना रणनीतिक तौर पर और ताकतवर हो गई है। अटल सुरंग के उद्घाटन के बाद इंडियन आर्मी के टी-90 टैंक्‍स और इनफेंट्री कॉम्‍बेट व्‍हीकल आसानी से एलएसी के करीब तैनात हो सकेंगे। यह सुरंग सिंगल ट्यूब और दो लेन वाली है। एक ऑफिसर की तरफ से बताया गया है, 'हर मौसम में खुली रह सकने वाली सुरंग मिलिट्री ट्रैफिक को आसानी से संभाल सकती है और यहां तक कि इससे बख्‍तरबंद वाहन भी आसानी से गुजर सकते हैं।'

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Watch: First Convoy of Indian Army passed through Atal Tunnel in Manali, Himachal Pradesh
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X