• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

वाराणसी: '80 मुस्लिम घरों में 45 हिंदू मंदिर मिलने' का सच

By फ़ैक्ट चेक टीम, बीबीसी न्यूज़
TWITTER/@SHRIVISHWANATH

ढहे हुए मकानों के कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ शेयर किये जा रहे हैं कि उत्तर प्रदेश के बनारस में 'काशी-विश्वनाथ कॉरिडोर प्रोजेक्ट' के लिए मोदी सरकार ने रास्ते में पड़ने वाले 80 मुस्लिम घरों को ख़रीद लिया है.

जिन लोगों ने ये वीडियो शेयर किये हैं, उन्होंने लिखा है, "काशी विश्वनाथ मंदिर से गंगा नदी तक सड़क को चौड़ा करने के लिए मोदी ने 80 मुस्लिम घरों को ख़रीद लिया है. जब उन्होंने इन घरों को साफ़ करना शुरू किया तो इन घरों के अंदर 45 पुराने मंदिरों की खोज की गई."

सोशल मीडिया
SM Viral Post
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
SM Viral Post
सोशल मीडिया

आपको बता दें कि 'काशी-विश्वनाथ कॉरिडोर प्रोजेक्ट' को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'ड्रीम प्रोजेक्ट' बताया जाता है.

इस परियोजना के तहत सरकार चाहती है कि गंगा नदी के तट पर स्थित ललिता घाट से लेकर काशी विश्वनाथ मंदिर तक पहुँचने वाला मार्ग चौड़ा करके उसे साफ़-सुथरा और सुंदर बनाया जाये ताकि जो भी लोग वहाँ दर्शन के लिए आयें, उन्हें सुविधा मिल सके.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और राज्यपाल राम नाइक की मौजूदगी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 मार्च 2019 को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में इस परियोजना का शिलान्यास किया था.

लेकिन बीते कुछ दिनों में इस परियोजना से जोड़ते हुए ट्विटर और फ़ेसबुक पर जो वीडियो सैकड़ों बार शेयर किये गए हैं, वो भ्रामक हैं.

बनारस
SM Viral Post
बनारस

दावे की सच्चाई

काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के सौंदर्यीकरण की योजना पर काम करने के लिए सरकार ने काशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद का गठन किया है.

इस परिषद में उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारी विशाल सिंह मुख्य कार्यपालक आधिकारी यानी सीईओ के पद पर कार्यरत हैं.

मंदिर परिसर के निर्माण के लिए 'मुस्लिम घरों को ख़रीदे जाने' और उनमें 'हिंदू मंदिरों की खोज' का जो दावा किया जा रहा है, उसके बारे में हमने विशाल सिंह से बात की.

उन्होंने बीबीसी संवाददाता प्रशांत चाहल को बताया कि ये सभी दावे फ़र्ज़ी हैं.

बीबीसी
BBC
बीबीसी

उन्होंने कहा, "इस परियोजना के लिए हमने अभी तक कुल 249 मकान क्रय किये हैं. जितने भी घर मंदिर प्रशासन द्वारा क्रय किये गए हैं इस योजना के लिए, उन घरों में से एक भी घर किसी अन्य धर्म का नहीं था. ये सभी मकान जो क्रय किये गये, ये सभी सनातन धर्म के हिंदू धर्मावलंबियों के ही थे."

विशाल सिंह ने कहा कि "जितने भी मकान अब तक क्रय किये गए हैं, उनमें से 183 मकान तोड़े जा चुके हैं. टूटे हुए मकानों में छोटे-बड़े मंदिरों की संख्या मिलाकर कुल 23 मंदिर हमें मिले हैं."

BBC
BBC
BBC

बीबीसी की ग्राउंड रिपोर्ट

मंदिर प्रशासन के अनुसार काशी विश्वनाथ कॉरिडोर योजना की मूल भावना ये है कि गंगा तट से विश्वनाथ मंदिर साफ़-साफ़ दिखाई पड़े.

अभी श्रद्धालु सँकरी गलियों से होकर मंदिर तक जाते हैं. भीड़ होने के कारण यहाँ लंबी-लंबी लाइनें लगती हैं.

गलियों के किनारे बने ऊंचे-ऊंचे मकानों की वजह से मंदिर का शिखर तक नहीं दिखाई पड़ता.

इसके लिए ज़ाहिर है कि पुराने घरों और गलियों को ख़त्म करना पड़ेगा. लेकिन स्थानीय लोग ऐसा नहीं करने देना चाहते.

बीबीसी
BBC
बीबीसी

पिछले साल इसे लेकर बनारस में कुछ प्रदर्शन भी हुए थे. उस समय बीबीसी के सहयोगी समीरात्मज मिश्र ने वाराणसी जाकर स्थानीय लोगों से बात की थी.

उस समय लोगों का कहना था कि पुरानी गलियाँ ही बनारस की पहचान हैं और अगर इसे ख़त्म कर दिया गया तो बनारस जैसे प्राचीन शहर और दूसरे नए शहरों में फ़र्क़ क्या रह जाएगा?

समीरात्मज मिश्र बताते हैं, "बनारस के जिस इलाक़े में मंदिर के सौंदर्यीकरण का काम हो रहा है, वो मुख्य रूप से हिंदू बहुल इलाक़ा है. वहाँ मुसलमानों के घर नहीं हैं. जब हमने इस परियोजना के बारे में स्थानील लोगों से बात की थी तो वो घरों को तोड़े जाने से काफ़ी नाराज़ थे."

ग्राउंड रिपोर्ट: बनारस में मंदिरों और मूर्तियों को तोड़े जाने की सच्चाई

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Varanasi The truth of getting 45 Hindu temples in 80 Muslim homes
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X