• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अगले सप्ताह 100 वेंटिलेटर्स की पहली खेप भारत भेजेगा अमेरिका: व्हाइट हाउस

|

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में मदद के लिए अमेरिका ने कुल 100 वेंटिलेटर की पहली खेप अगले हफ्ते भारत भेजने जा रहा है। अमेरिका ने कुछ दिन पहले ही भारत को वेंटिलेटर्स देने का ऐलान किया था। मंगलवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई इस बाबत हुई बातचीत के दौरान कहा कि अमेरिका 100 वेंटीलेटर्स भारत भेजने के लिए तैयार है।

पीएम मोदी ने कब-कब जवानों के बीच पहुंचकर सबको चौंकाया ?

us

मामले पर व्हाइट हाउस द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति ट्रंप ने मंगलवार को मोदी से बात की और दोनों नेताओं ने जी7 सम्मेलन, Covid-19 महामारी से निपटने और क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दों समेत कई मुद्दों पर चर्चा की।

जानिए, जॉर्ज फ्लॉयड और उसकी मौत के बारे में सब कुछ, आखिर क्यों जल उठा अमेरिका?

दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

दोनों नेताओं के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत के बाद व्हाइट हाउस द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि राष्ट्रपति को यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि अमेरिका अगले हफ्ते भारत को 100 वेंटीलेटर्स की पहली खेप भेजने के लिए तैयार है।

us

अमेरिकी राष्‍ट्रपति से हुई पीएम मोदी की टेलीफोन पर बात, ट्रंप ने दिया शिखर सम्मेलन G-7 में शामिल होने का निमंत्रण

इससे पहले, प्रधानमंत्री मोदी ने सिलसिलेवार किए कई ट्वीट में कहा था कि उनकी उनके मित्र ट्रंप से गर्मजोशी के साथ टेलीफोन पर सार्थक बातचीत हुई। पीएम मोदी ने एक ट्वीट में लिखा, हमने जी-7 की अमेरिका की अध्यक्षता के लिए उनकी योजनाओं, Covid-19 वैश्विक महामारी और कई अन्य मुद्दों पर चर्चा की।

us

जॉर्ज फ्लॉयड मामला: प्रदर्शनों को लेकर ह्यूस्‍टन पुलिस प्रमुख ने डोनाल्ड ट्रंप से कहा- अपना मुंह बंद रखें

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि भारत-अमेरिका चर्चाओं की मजबूती और गहराई कोविड-19 के बाद की वैश्विक संरचना में एक महत्वपूर्ण स्तंभ होगी। ट्रंप ने जी-7 समूह की अध्यक्षता के बारे में जानकारी दी और समूह का दायरा बढ़ाने की इच्छा से अवगत कराया ताकि भारत सहित महत्वपूर्ण देशों को इसमें शामिल किया जा सके।

us

जॉर्ज फ्लॉयड केसः हिंसक प्रदर्शन में शामिल एंटीफा को आतंकी संगठन करार देगा अमेरिका

बयान में कहा गया है कि इस परिप्रेक्ष्य में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को अमेरिका में आयोजित होने वाले अगले जी-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए निमंत्रण दिया। मोदी ने ट्रंप के रचनात्मक और दूरदर्शी रूख की सराहना की और कहा कि Covid-19 के बाद दुनिया की बदली हकीकत को ध्यान में रखते हुए इस तरह का विस्तारित मंच जरूरी होगा।

us

कोरोना वायरस चीन की ओर से दुनिया को दिया गया एक बेहद बुरा तोहफा हैः डोनाल्ड ट्रंप

PM मोदी ने कहा कि भारत प्रस्तावित शिखर सम्मेलन को सफल बनाने के लिए अमेरिका और अन्य देशों के साथ मिलकर काम करके खुश होगा। बयान में कहा गया कि मोदी ने अमेरिका में चल रही आंतरिक अशांति पर चिंता जाहिर की और स्थिति के जल्द सामान्य होने की उम्मीद जताई।

us

कोरोना के बाद अब अमेरिका में हिंसा बेकाबू, कर्फ्यू के बाद भी नहीं रूक रहे प्रदर्शनकारी, ट्रंप ने उतारे 17000 सैनिक

प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि दोनों नेताओं ने दोनों देशों में Covid-19 की स्थिति, भारत-चीन सीमा पर स्थिति और विश्व स्वास्थ्य संगठन में सुधार की जरूरत जैसे मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया। ट्रंप ने इस साल फरवरी में भारत की यात्रा को याद किया। मोदी ने कहा कि यह यात्रा कई मायने में ऐतिहासिक और यादगार रही और इससे भारत और अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों में एक नए आयाम जुड़े हैं।

C-Voter के सर्वे में पीएम मोदी के कामकाज से 65% लोग खुश, जानिए कौन है सबसे लोकप्रिय मुख्‍यमंत्री

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The United States is going to send the first batch of 100 ventilators to India next week to help in the fight against Coronavirus. The US had announced ventilators to India a few days ago. On Tuesday, US President Donald Trump said that during this conversation with Prime Minister Narendra Modi that America is ready to send 100 ventilators to India.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more