• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

#UnseenKashmir: कश्मीर की कहानी, सीआरपीएफ़ की ज़बानी

By संजय कुमार - डीआईजी, सीआरपीएफ़
Google Oneindia News

सुरक्षा बलों के भी मानवाधिकार हैं, और अब वो वक़्त आ गया है कि देखा जाए कि उनका कितना उल्लंघन हो रहा है.ये इसलिए क्योंकि कश्मीर में तैनात सुरक्षा बलों की चुनौतियों के बारे में सोचना होगा.

ग्राफ़िक
BBC
ग्राफ़िक

यहां कम जगह में ज़्यादा लोगों को रहना पड़ता है. आम आदमी के आठ घंटों के मुकाबले हमारे जवान 12 से 16 घंटे काम करते हैं.

हमेशा इमरजेंसी रहती है जिसमें मूलभूत सुविधाओं को भी भूलना पड़ता है. ये भी अमानवीय है.

ड्यूटी के व़क्त उन पर पत्थर चलाए जाते हैं. ये अमानवीय है. उन पर हमला करते हैं, उन्हें उकसाते हैं. मजबूरन उन्हें कई बार हथियार उठाना पड़ता है.

उस तरह उकसाना भी अमानवीय है.

ग्राफ़िक
BBC
ग्राफ़िक

अभी तक ऐसे कोई सबूत नहीं हैं कि हम मानवाधिकार उल्लंघन कर रहे हैं.

बल्कि इसके उलट एक वीडियो (INSERT VIDEO - CPS 39958843) देखें जो टीवी और सोशल मीडिया में चल रहा है.

जिसमें सीआरपीएफ़ के छह लोग चुनावी ड्यूटी के लिए जा रहे हैं, उन पर पत्थरबाज़ी की गई है, हमला किया गया है.

ये किसके खिलाफ़ मानवाधिकार उल्लंघन है?

सीआरपीएफ़ का जवान
BBC
सीआरपीएफ़ का जवान

जिस पर हमला किया जा रहा है वो एक हथियारबंद आदमी है फिर भी वो बर्दाश्त किए जा रहा है.

वर्ना वो हथियार का इस्तेमाल कर सकता था. पर वो चुपचाप बढ़ता जाता है.

दुनिया का कोई और सुरक्षा बल होता तो उस तरह की बदतमीज़ी बर्दाश्त नहीं करता जैसे सीआरपीएफ़ के उन जवानों ने की.

ये इसी इलाके में होता है. फिर भी सुरक्षा बलों को अमानवीय बताया जाता है.

ग्राफ़िक
BBC
ग्राफ़िक

हम ये भी मानते हैं कि कश्मीरी लोग हमारे ख़िलाफ़ नहीं हैं. बल्कि हम उनके लिए उनके साथ हैं.

शांतिपूर्वक प्रदर्शन तो एक लोकतांत्रिक अधिकार है, और पत्थरबाज़ों की तादाद बहुत कम है.

पत्थरबाज़ आम कश्मीरी नहीं है. इन लोगों के अपने निजी मतलब हैं जो ये रास्ता अपनाते हैं.

इनके पीछे पाकिस्तान का हाथ भी हो सकता है और ये बहुत व्यवस्थित तरीके से काम करते हैं.

पत्थरबाज़
BBC
पत्थरबाज़

इन मुश्किल परिस्थितियों के बीच हम परिवार को साथ भी नहीं रख पाते.

उनके पास रहने से भी तनाव कम होता, परिवार के बिना लगातार अलग रहना भी एक समस्या है.

लेकिन बच्चों और परिवार की अपनी ज़रूरतें होती है. उनको स्कूल चाहिए होता है.

बिना रोक टोक के घूमने-फिरने की आज़ादी की ख़्वाहिश होती है.

सीआरपीएफ़ जवान
BBC
सीआरपीएफ़ जवान

यहां रहने वाले बच्चों को बहुत मुश्किल होती है. चार-चार महीने स्कूल बंद रहता है.

दो-तीन महीने बर्फ़ की वजह से छुट्टियां हो जाती हैं.

इसलिए हमें मजबूरन अपने परिवारों को शांति वाले इलाकों में रखना पड़ता है.

जहां टकराव वाले हालात नहीं हैं और बच्चे स्कूल जा सकते हैं. अस्पताल और बाज़ार जा सकते हैं.

यहां हमारे बल का साथ तो है, पर हम अकेले ही हैं.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The untold story fo CRPF in Kashmir who faces the charges of sexual exploitation in Kashmir.
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X