• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

उन्नाव रेप केस: दोस्ती, शादी, बलात्कार और जलाकर मार डालने की कहानी

By समीरात्मज मिश्र

उन्नाव में गैंगरेप पीड़ित

उन्नाव में गैंगरेप पीड़ित लड़की की शुक्रवार देर रात दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में मौत हो गई.

आग में बुरी तरह झुलसी लड़की को बचाने की कोशिश में उन्नाव से लखनऊ और फिर दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल तक पहुंचाया गया लेकिन लड़की ने दो दिन के भीतर ही दम तोड़ दिया.

लड़की के घर में पहले से ही मातम पसरा हुआ था, मौत के बाद पूरा गांव ग़मगीन है. दूसरी ओर, गांव में ही रहने वाले अभियुक्तों के परिजन उन्हें निर्दोष बता रहे हैं. गांव में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात हैं.

इस बीच, शुक्रवार को इस मामले में नामज़द सभी पांच अभियुक्तों को सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

पीड़ित लड़की ने इलाज के दौरान उन्नाव में ही मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान दर्ज कराए थे जिसके आधार पर पुलिस ने महज़ कुछ घंटों के भीतर पांच लोगों को गिरफ़्तार किया था.

गांव का इलाका
Sameeratmaj mishra/ bbc
गांव का इलाका

पीड़िता के घर का हाल

उन्नाव शहर से क़रीब 50 किमी दूर बिहार थाने के अंतर्गत आता है हिन्दूपुर गांव. गांव के भीतर प्रवेश करने के बाद कुछ ही दूरी पर पीड़ित लड़की का मिट्टी, फूस और खपरैल का बना हुआ कच्चा घर है.

लड़की के बुज़ुर्ग पिता घर के बाहर चुपचाप खड़े हैं. उन्हें इस बात का बेहद अफ़सोस है कि वो अक़्सर लड़की को स्टेशन तक ख़ुद छोड़ने जाते थे लेकिन गुरुवार को न जाने लड़की अकेले ही क्यों चली गई.

हालांकि घर के भीतर मौजूद लड़की की भाभी बताती हैं कि कोर्ट के काम से या फिर अपने और किन्हीं कामों से वो अक़्सर अकेले या फिर अपने भाई या बहन के साथ बाहर जाया करती थी. पीड़ित लड़की पांच बहनों और दो भाइयों में सबसे छोटी थी.

गांव का इलाका
Sameeratmaj mishra/bbc
गांव का इलाका

पहले प्रेम विवाह और फिर गैंगरेप की रिपोर्ट

लड़की की पड़ोस के ही एक लड़के से जान-पहचान थी और उन दोनों ने प्रेम विवाह भी किया था लेकिन बाद में रिश्ते ख़राब हो गए.

लड़की ने इसी साल मार्च में लड़के और उसके एक दोस्त के ख़िलाफ़ गैंगरेप की रिपोर्ट दर्ज कराई थी जिनमें से मुख्य अभियुक्त शिवम त्रिवेदी जेल गया था और कुछ दिन पहले ही ज़मानत पर छूटकर आया था.

लड़की की भाभी बताती हैं कि दोनों ने कब शादी की थी, इसकी जानकारी उन्हें नहीं थी. वह कहती हैं, "हमें तो शादी का तब पता चला जब लड़के ने और उसके घर वालों ने आकर यहां लड़ाई-झगड़ा किया, हमसे मार-पीट की. तब लड़की ने बताया कि उसने कोर्ट में शिवम से शादी की है लेकिन अब वह उसे मानने से इनकार कर रहा है."

पीड़िता की भाभी
Sameeratmaj mishra/bbc
पीड़िता की भाभी

अभियुक्तों के घर का माहौल

लड़की के घर से क़रीब आधे किलोमीटर की ही दूरी पर मुख्य अभियुक्त और इस मामले में पकड़े गए अन्य अभियुक्तों के घर हैं.

एक मंदिर के बाहर कई महिलाएं जुटी हुई थीं और बुरी तरह से रो रही थीं. इनमें से ज़्यादातर महिलाएं वो थीं जिनका पकड़े गए अभियुक्तों से कोई न कोई रिश्ता है. इनका आरोप है कि सभी को इस मामले में साज़िशन फँसाया गया है.

मुख्य अभियुक्त शिवम त्रिवेदी की मां कहती हैं कि उनके बेटे ने न तो शादी की थी और न ही इस घटना में शामिल था. शिवम त्रिवेदी की मां पीड़ित परिवार और पुलिस वालों के इस दावे को भी नकारती हैं कि उनका बेटा लड़की के साथ रायबरेली में एक महीने तक रह चुका है.

इस मामले में हिन्दूपुर गांव की प्रधान शांति देवी के पति और उनके बेटे को भी गिरफ़्तार किया गया है. शांति देवी कहती हैं, "सुबह-सुबह पुलिस आई और मेरे बेटे और पति को उठाकर ले गई. दूसरे लड़कों को भी ले गई. मैं पूछती हूं कि इतनी बड़ी वारदात को अंजाम देने के बाद क्या कोई घर में आकर आराम से सो सकता है? हमारे बच्चों को बिना कुछ सोचे-समझे अपराधी बना दिया गया."

इसी साल में मार्च महीने में पीड़ित लड़की ने अपने साथ हुए गैंगरेप की जो एफ़आईआर दर्ज कराई थी, उसमें शिवम त्रिवेदी के साथ ग्राम प्रधान शांति देवी के बेटे को भी अभियुक्त बनाया गया था.

हालांकि इस मामले में गिरफ़्तारी सिर्फ़ शिवम की ही हुई थी. अभियुक्तों के परिवार वालों की मांग है कि पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराई जाए, ताकि सच्चाई सामने आ सके.

गांव की प्रधान शांति देवी
Sameeratmaj mishra/bbc
गांव की प्रधान शांति देवी

पीड़ित और अभियुक्त दोनों परिवारों के थे अच्छे संबंध

लड़की को आग से जलाने वाली घटना गुरुवार सुबह क़रीब चार बजे की है. पीड़ित लड़की रायबरेली जाने वाली पैसेंजर ट्रेन पकड़ने जा रही थी जो सुबह पांच बजे स्टेशन पर आती है.

पीड़ित लड़की के घर से स्टेशन की दूरी क़रीब दो किलोमीटर है और रास्ता दिन में भी बहुत गुलज़ार नहीं रहता है. गांव के एक व्यक्ति राम किशोर बताते हैं कि इसी वजह से जब लड़की को जलाया गया तो काफ़ी दूर तक भागने के बावजूद उसे मदद नहीं मिल सकी.

गांव वालों की मानें तो दोनों परिवारों में दो साल पहले तक काफ़ी अच्छे संबंध थे. पीड़ित परिवार के संबंध गांव के प्रधान से भी बहुत अच्छे थे और ख़ुद पीड़ित लड़की के पिता इस बात को स्वीकार करते हैं कि प्रधान परिवार उनकी काफ़ी मदद करता था और बेहद ग़रीब होने के चलते सरकारी योजनाओं का लाभ भी इसी वजह से उन्हें आसानी से मिल जाता था.

लेकिन जब लड़की और लड़के के बीच रिश्ते ख़राब हुए तो दोनों परिवारों के अलावा प्रधान के परिवार से भी 'दुश्मनी' हो गई. इसकी वजह ये है कि मुख्य अभियुक्त शिवम त्रिवेदी प्रधान के परिवार का ही लड़का है.

पीड़ित लड़की के पिता के मुताबिक़, "हमें कई बार धमकाया गया. मेरे घर पर आकर मुझे इन लोगों ने मारा-पीटा और गांव छोड़ देने की धमकी दी. मैंने कई बार पुलिस में शिकायत की लेकिन हमारी सुनी नहीं गई."

मुख्य अभियुक्त शिवम की मां
Sameeratmaj mishra/bbc
मुख्य अभियुक्त शिवम की मां

बाक़ी हैं कई सवाल

गांव में लोग इस घटना को लेकर कई तरह के सवाल उठा रहे हैं. गिरफ़्तार किए गए किसी भी अभियुक्त पर कोई भी मामला पुलिस में दर्ज नहीं है. लड़की के साथ हुए गैंगरेप के मामले से पहले शिवम त्रिवेदी और शुभम त्रिवेदी पर भी कोई केस दर्ज नहीं था.

बिहार थाने की पुलिस इस बात की पुष्टि करती है. यही नहीं, घटना के तत्काल बाद जब अभियुक्तों के घर पर पुलिस ने दबिश दी तो लगभग सभी अभियुक्त अपने घर पर ही मिले.

गांव के एक बुज़ुर्ग सीताराम कहते हैं, "इन लड़कों को हम लोग बचपन से ही जानते हैं. गांव में कभी ऐसा कुछ इन्होंने नहीं किया कि किसी को कोई शिकायत होती. समझ में नहीं आ रहा है कि इतनी जघन्य वारदात को इन्होंने कैसे अंजाम दिया. हमारे गांव में इस तरह की कोई घटना आज तक नहीं हुई है और न ही हमें लगता है कि हमारे गांव का कोई व्यक्ति इतना बड़ा अपराधी है कि किसी को ज़िंदा जला देगा."

उन्नाव में इस घटना को शुरू से देख रहे कई पुलिस अधिकारी भी सीताराम की आशंकाओं से सहमति जताते हैं लेकिन इस बारे में वो आधिकारिक रूप से कुछ भी कहने से बच रहे हैं. गांव में कुछ लोगों को इस बात पर भी आपत्ति है कि अन्य लोगों के अलावा मीडिया भी पीड़ित पक्ष के प्रति ज़्यादा हमदर्दी दिखा रहा है.

ग्रामीण
Sameeratmaj mishra/bbc
ग्रामीण

वहीं पुलिस का कहना है कि घटना के हर पहलू की जांच की जा रही है. आईजी क़ानून व्यवस्था प्रवीण कुमार कहते हैं, "पीड़िता के बयान के आधार पर सभी पांच अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया गया है. सारे साक्ष्य इकट्ठा किए गए हैं. हमारी ये प्राथमिकता है कि जल्दी से जल्दी इस बात का पता लगाएं कि वास्तविक दोषी कौन हैं. दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा दिलाना भी हमारी प्राथमिकता है."

बहरहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है. लेकिन गांव में लगभग हर व्यक्ति इसलिए दुखी है क्योंकि दोनों ही पक्ष उनके अपने हैं, दुनिया को छोड़ चुकी लड़की भी और सलाख़ों के पीछे पहुंचने वाले अभियुक्त भी.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Unnao rape case: story of friendship, marriage, rape and burning
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X