• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ट्रंप ने कहा, किसी को नहीं मालूम था महामारी आ रही है, जबकि जनवरी में ही सलाहकार ने उन्हें चेता दिया था!

|

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मार्च में बार-बार कहा था कि कोई भी वैश्विक महामारी बनकर उभरी कोरोना वायरस के वृहद संकट की भविष्यवाणी नहीं कर सकता था। गत 19 मार्च को ट्रम्प ने कहा था कि किसी को भी पता नहीं था कि यह वैश्विक अथवा महामारी है। एक सप्ताह बाद भी ट्रंप ने यही कहा था कि किसी ने भी नहीं सोचा होगा यह इतना घातक होगा।

trump

लेकिन सोमवार को छपी द न्यूयॉर्क टाइम्स और एक्सियोस की रिपोर्टों के अनुसार ट्रम्प के स्वयं के प्रशासन में एक शीर्ष अधिकारी ने संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में COVID-19 वायरस के संभावित विनाशकारी प्रभावों के बारे में जनवरी के अंत में और फिर फरवरी में अलार्म बजा दिया था।

अमेरिका की मदद के लिए आगे आया रूस, मेडिकल सामग्री के साथ वाशिंगटन पहुंचा रूसी विमान!

गौरतलब है गत 29 जनवरी को टाइम्स ने रिपोर्ट किया था कि ट्रम्प के व्यापार सलाहकार पीटर नवारो ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद को संबोधित करते हुए अमेरिका को कोरोना वायरस के बारे में एक चेतावनी मेमो में कहा था कि संभावित कोरोना वायरस महामारी के जोखिम को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए, जो करीब डेढ़ लाख अमेरिकियों को मार सकती है। नवारो ने बाकायदा एक दस्तावेज में महामारी के बारे में चेताते हुए कहा था कि वायरस को रोकने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की गई तो अमेरिका को खरबों डॉलर का नुकसान झेलना पड़ेगा।

trump

पीटर नवारो ने उक्त मेमो में कहा था कि पूर्ण विकसित कोरोना वायरस के विरूद्ध अमेरिकियों में प्रतिरक्षा सुरक्षा की कमी और मौजूदा इलाज स्थिति अथवा वैक्सीन की गैर मौजूदगी अमेरिकियों को लाचार बना देगी। उस समय नवारो की सिफारिश की थी कि अमेरिका वायरस के जन्मदाता देश चीन में यात्रा पर तत्काल प्रतिबंध लगाए। यही कारण था कि दो दिन बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने अधिकांश विदेशी नागरिकों को अमेरिका में प्रवेश करने से रोक दिया था।

चीन अभी भी कोरोना वायरस की महत्वपूर्ण जानकारी छिपा रहा है: अमेरिकी विदेश मंत्री

trump

हालांकि पिछले सप्ताह टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक ट्रम्प के यात्रा प्रतिबंध लगाने के बाद भी कम से कम 430,000 यात्री चीन से सीधी उड़ानों पर अमेरिका पहुंचे हैं। अखबार ने सोमवार को कहा कि नवारो के जनवरी का मेमो "वेस्ट विंग के अंदर प्रसारित होने वाला सबसे उच्च-स्तर का अलर्ट था, क्योंकि तब कोरोनो वायरस संकट का सामना करने के लिए प्रशासन अपना पहला ठोस कदम उठा रहा था।

trump

अपने पहले मेमो के लगभग एक महीने बाद पीटर नवारो ने कथित तौर पर राष्ट्रपति ट्रम्प को कोरोना वायरस महामारी को लेकर दोबारा एलर्ट किया। नवारो ने इस बार ट्रंप को COVID-19 के खतरे के बारे में चेतावनी को बढ़ाते हुए भी संबोधित किया था।

सावधान! बुजुर्ग ही नहीं, 18 से 49 आयु वर्ग वाले भी हो रहे हैं कोरोना वायरस के शिकार!

Axios की सूचना के मुताबिक गत 23 मार्च को नवारो ने दूसरे मेमो में लिखा था कि संभावित पूर्ण विकसित COVID-19 महामारी 100 मिलियन अमेरिकियों को संक्रमित कर सकती है और महामारी में 10 से 20 लाख अमेरिकियों की जान जा सकती है।

trump

ट्रंप के व्यापार सलाहकार पीटर नवारो ने वायरस की रोकथाम और उपचार के प्रयासों के लिए कम से कम 3 बिलियन डॉलर के आपातकालीन धनराशि को मंजूरी देने के लिए कांग्रेस का भी आह्वान किया था। मामले की गंभीरता को समझते हुए नवारो ने मेमो में लिखा था कि यह समय पेनी-पिंचिंग (पैसों को लेकर खींचतान) या हॉर्स ट्रेडिंग का नहीं है।

COVID-19: जॉनसन एंड जॉनसन के बाद अब इस कंपनी ने वैक्सीन बनाने का दावा किया!

trump

एक्सियोस के अनुसार नवारो के दोनों मेमो को व्हाइट हाउस, एनएससी और विभिन्न संघीय एजेंसियों के आसपास प्रसारित किया गया था। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि राष्ट्रपित ट्रम्प ने खुद मेमो को पढ़ा या नहीं, जिन्होंने मार्च के अंत तक COVID-19 के खतरे को बार-बार कमतर आंकते आए थे।

trump

इसकी तस्दीक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा गत 24 फरवरी को किया गया वह ट्वीट करता है, जिसमें ट्रंप ने कहा था कि Covid-19 वायरस "संयुक्त राज्य अमेरिका में बहुत नियंत्रण में है। यह ट्वीट ट्रंप ने नवारो के दूसरे मेमो के एक दिन बाद किया था।

Good News: कोरोना महामारी से उबर रहा है स्पेन, नए संक्रमितों के दर में लगातार गिरावट!

trump

गौरतलब है विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गत 11 मार्च को COVID-19 को महामारी घोषित किया था। अमेरिका में वर्तमान में कोरोना वायरस से 10, 900 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। व्हाइट हाउस ने पिछले हफ्ते चेतावनी दी थी कि अमेरिका में अंतिम मृत्यु टोल 100,000 से 240,000 भी हो सकती है।

अफ्रीका में Covid19 वैक्सीन टेस्ट का सुझाव देकर घिरे फ्रेंच चिकित्सक, मांगनी पड़ी माफी!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
On January 29, the Times reported that Trump's trade advisor Peter Navarro addressed the National Security Council in a warning memo to the US about the corona virus that the potential corona virus epidemic risk should not be ignored, Which could kill about one and a half million Americans. Navarro had in a document warned about the pandemic that the US would suffer trillions of dollars if no action was taken to stop the virus.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more
X