• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जाटों और सरदारों के पास बहुत ताकत हैं, लेकिन वे कम दिमाग वाले हैंः बिप्लब देव, जानिए 5 विवादित टिप्पणियां

|

नई दिल्ली। अक्सर अपनी विवादित टिप्पणियों के लिए मशहूर वर्ष 2018 में त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बने बिप्लब कुमार देब एक बार अपनी विवादित टिप्पणियों के कारण एक नया विवाद खड़ा कर लिया है। रविवार को दिए एक बयान में त्रिपुरा सीएम ने सरदार और हरियाणवी जाटों को कम दिमागदार करार दिया है। इस तरह सरदारों और हरियाणवी जाटों को कम दिमागदार कहकर उन्होंने एक बार फिर फजीहत मोल ले ली है।

biplab dev

न इधर के रहे, न उधर के रहे, पायलट मोड में जा चुका है सचिन पायलट का जहाज?

जाटों और सरदारों के पास बहुत ताकत हैं, लेकिन वे कम दिमाग वाले हैं

जाटों और सरदारों के पास बहुत ताकत हैं, लेकिन वे कम दिमाग वाले हैं

अगरतला में त्रिपुरा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सोसाइटी को संबोधित करते हुए सीएम बिलप्व देव कहा, जब हम पंजाबियों के बारे में बात करते हैं, तो हम कहते हैं कि सरदार किसी से डरते नहीं हैं। उनके पास बहुत ताकत है, लेकिन वे कम दिमागदार हैं। देव कहा कि उन्हें प्यार के साथ नहीं जीता जा सकता है। उन्होंने आगे कहा कि इसी तरह हरियाणवी जाट भी पूरी तरह से मजबूत हैं, लेकिन वे भी कम दिमाग वाले हैं।

बंगालियों की एक पहचान है, कोई भी उनको बुद्धि को हरा नहीं सकता है

बंगालियों की एक पहचान है, कोई भी उनको बुद्धि को हरा नहीं सकता है

सरदारों और जाटों पर विवादित टिप्पणी करने के बाद सीएम बिप्लब देव ने बंगालियों के बारे में चर्चा करते हुए कहा, बंगालियों की भी एक पहचान है, वे बुद्धिमान हैं। यह व्यापक रूप से कहा जाता है कि कोई भी बंगालियों की बुद्धि को हरा नहीं सकता है।

सीएम बिप्लव देव ने वर्ष 2018 में त्रिपुरा में सीएम का पद का शपथ लिया

सीएम बिप्लव देव ने वर्ष 2018 में त्रिपुरा में सीएम का पद का शपथ लिया

वर्ष 2018 में त्रिपुरा में सीएम का पद का शपथ लेने के बाद सीएम बिप्लव देव कई ऐसी ही विवादास्पद टिप्पणियां की हैं। एक बार तो उन्होंने दावा किया कि महाभारत के समय में इंटरनेट मौजूद था। उन्होंने दावा किया कि संजय कुरुक्षेत्र युद्ध को धृतराष्ट्र तक पहुंचा सकते थे, क्योंकि इंटरनेट, उपग्रह और प्रौद्योगिकी वहां थे।

अब तक कई अन्य विवादास्पद टिप्पणियां कर चुके हैं सीएम बिप्लब देव

अब तक कई अन्य विवादास्पद टिप्पणियां कर चुके हैं सीएम बिप्लब देव

उन्होंने कई अन्य विवादास्पद टिप्पणियां भी की थीं, जिनमें एक सिविल इंजीनियर अच्छे प्रशासक होते हैं, मैकेनिकल इंजीनियर नहीं। वहीं, बतख जल निकायों में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाते हैं। इसके अवाला उन्होंने मिस वर्ल्ड और मिस यूनिवर्स के खिताब को भारतीय महिलाओं को लगातार पांच साल तक देने का निर्णय बाजार-संचालित करार दिया था।

वर्ष 2018 में 38 वर्षीय देब की अगुवाई में पहली बार त्रिपुरा में भाजपा जीती

वर्ष 2018 में 38 वर्षीय देब की अगुवाई में पहली बार त्रिपुरा में भाजपा जीती

वर्ष 2018 में 38 वर्षीय देब ने पहली बार त्रिपुरा में भाजपा की अगुवाई में वाम मोर्चा सरकार के 25 साल के शासन को समाप्त कर दिया था, जिसका नेतृत्व सीपीआई-एम ने किया था।

महाभारत काल में इंटरनेट और सैटेलाइट का किया था दावा

महाभारत काल में इंटरनेट और सैटेलाइट का किया था दावा

त्रिपुरा सीएम बिप्लब देब सबसे पहले महाभारत काल में इंटरनेट और सैटेलाइट होने का दावा कर सुर्खियों में आए थे। उन्होंने राजधानी अगरतला में आयोजित कार्यक्रम में कहा था कि देश में महाभारत युग में भी तकनीकी सुविधाएं उपलब्ध थीं, जिनमें इंटरनेट और सैटेलाइट भी शामिल थे। उन्होंने कहा था, यह वह देश है, जिसमें महाभारत के दौरान संजय ने हस्तिनापुर में बैठकर धृतराष्ट्र को बताया था कि कुरुक्षेत्र के मैदान में युद्ध में क्या हो रहा है।

मिस यूनिवर्स डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं हैं, कांटेस्ट पर भी उठाए सवाल

मिस यूनिवर्स डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं हैं, कांटेस्ट पर भी उठाए सवाल

सीएम बिप्लब देब ने मिस वर्ल्ड डायना हेडन को लेकर विवादित बयान देते हुए कहा कि मिस वर्ल्ड डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं हैं। डायना हेडन की जीत फिक्स थी। उन्होंने आगे कहा कि डायना हेडन भारतीय महिलाओं की सुंदरता की नुमाइंदगी नहीं करतीं, लेकिन ऐश्वर्या राय करती हैं। यही नहीं, उन्होंने मिस वर्ल्ड और मिस यूनिवर्स के खिताब को भारतीय महिलाओं को लगातार पांच साल तक देने का निर्णय बाजार-संचालित करार दिया था।

बेरोजगारों को पान की दुकान खोलने और गाय पालने की नसीहत दे डाला

बेरोजगारों को पान की दुकान खोलने और गाय पालने की नसीहत दे डाला

त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देव एक बार कहा कि युवा कई सालों तक राजनीतिक दलों के पीछे सरकारी नौकरी के लिए पड़े रहते हैं, लेकिन वह अपने जीवन का महत्वपूर्ण समय यहां-वहां दौड़-भाग कर सरकारी नौकरी की तलाश में बर्बाद करते हैं, ऐसे युवा प्रधानमंत्री के मुद्रा योजना के तहत बैंक से लोन लेकर पशु संसाधन क्षेत्र के विभिन्न परियोजनाओं को शुरू करके स्वयं रोजगार का सृजन करें।

एक सिविल इंजीनियर अच्छे प्रशासक होते हैं, मैकेनिकल इंजीनियर नहीं

एक सिविल इंजीनियर अच्छे प्रशासक होते हैं, मैकेनिकल इंजीनियर नहीं

त्रिपुरा सीएम बिप्लब देव ने सिविल सर्विसेज की परीक्षा को लेकर दिए एक बयान में कहा था कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले लोगों को सिविल सेवाओं का चयन नहीं करना चाहिए। उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले लोगों को समाज का निर्माण करना है। इसी तरह उन्होंने एक बार कहा था कि बतख जल निकायों में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाते है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Biplab Kumar Deb, who became the Chief Minister of Tripura in 2018, often known for his controversial comments, has once raised a new controversy due to his controversial comments. On Sunday, Sardar and Haryanvi Jats have been described as less brainy. Calling the Sardars and Haryanvi Jats less brainy, they have once bought a troubled one.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X