• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बढ़ेंगी मुश्किलें, प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में आए ट्रांसपोर्ट्स, दूध-दही से लेकर सब्जी तक के बढ़ सकते हैं दाम

|

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन लगातार बढ़ता ही जा रहा है। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने भी किसानों के प्रति अपना समर्थन व्यक्ति किया है वहीं, अब आंदोलन कर रहे किसानों को देशभर के ट्रांसपोर्ट का भी साथ मिल गया है। बुधवार को अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने किसानों के समर्थन का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों की मांगे नहीं मानी जाती तो अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में समानों की सप्लाई को रोक देगा।

    Farmers Protest: Farm Law रद्द करें!, किसानों ने दी Delhi ब्लॉक करने की चेतावनी | वनइंडिया हिंदी
    किसानों के समर्थन में आए ट्रांसपोटर्स

    किसानों के समर्थन में आए ट्रांसपोटर्स

    गौरतलब है कि पिछले एक सप्ताह से किसानों ने दिल्ली के बॉर्डर पर अपनी मांगों को लेकर डेरा डाला हुआ है। किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार कृषि कानून को वापस ले। इस बीच मंगलवार को केंद्र सरकार ने किसान संगठनों से बात भी की लेकिन बैठक का कोई नतीजा नहीं निकल सका। किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। आंदोलनकारी किसानों के सपोर्ट में अब अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस भी आ गया है। संगठन ने किसानों की मांगो का भी समर्थन भी किया है।

    किसान हमारा अन्नदाता

    किसान हमारा अन्नदाता

    अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने बुधवार को कहा कि किसान हमारा अन्नदाता है। किसान देश की अर्थव्यवस्था में रीढ़ की हड्डी के समान है, ऐसें में उनकी मांगों को अनदेखा करना ठीक नहीं है। ट्रांसपोर्ट संगठन ने कहा कि किसानों की मांगो को गंभीरता से लेना जरूरी है, हमारे देश में ग्रमीण इलाकों में करीब 70 फीसदी परिवार किसानी और खेती के रोजगार से जुड़े हैं। ऐसे में यह किसान हमारे लिए अन्नदाता हैं। किसानों के आंदोलन के चलते पूरा देश प्रभावित हुआ है।

    कई राज्यों से नहीं आ पा रहे जरूरी सामान

    कई राज्यों से नहीं आ पा रहे जरूरी सामान

    अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने कहा कि किसानों के विरोध प्रदर्शन के चलते जम्मू कश्मीर, हिमाचल, पंजाब, राजस्थान, उत्तराखंड उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों से खाने-पीने की चीजें एक जगह से दूसरे स्थान पर नहीं पहुंच पा रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि देश का अन्नदाता सड़कों पर है। ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने कहा कि किसानों के आंदोलन और प्रदर्शन से ना सिर्फ फल-सब्जियों के ट्रांसपोर्टेशन पर असर पड़ा है बल्कि दूध दवा, जैसी जरूरी उपयोग की वस्तुएं भी एक जगह से दूसरी जगह नहीं जा पा रही हैं।

    समानों के ट्रांसपोर्टेशन पर रोक लगाई जा सकती है

    समानों के ट्रांसपोर्टेशन पर रोक लगाई जा सकती है

    ट्रांसपोर्ट कांग्रेस का कहना है कि अगर किसानों की मांगों को जल्द नहीं माना गया और ऐसे ही हालात रहे तो बहुत जल्द दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में सामान की किल्लत होनी शुरू हो जाएगी। डाकोर कांग्रेस ने कहा कि किसानों के समर्थन में अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस को क्या कदम उठाना चाहिए इस पर जल्द ही फैसला किया जाएगा। यह भी हो सकता है कि दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में समानों के ट्रांसपोर्टेशन पर रोक लगाने का फैसला ले लिया जाए। इसलिए केंद्र सरकार को किसानों की बात गंभीरता से सुननी होगी और जल्द समाधान निकालना होगा।

    यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन का चेहरा बनी 'दादी' का कंगना को जवाब- 13 एकड़ की मालकिन हूं, 100 रुपए का क्या करूंगी?

    English summary
    Difficulties will increase transports come in support of Farmer protest, can increase from milk-curd to vegetable
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X