• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

प्रवासियों को मुंबई से लेकर गोरखपुर जाने वाली ट्रेन सुबह ओडिशा पहुंच गई, जानिए रेलवे ने क्या कहा?

|

नई दिल्ली। लॉकडाउन में प्रवासियों की समस्याएं अंतहीन हो गई लगती है, जिसका ताजा उदाहरण भारतीय रेल की लापरवाही से तब उजागर हुआ जब मुंबई से गोरखपुर के लिए रवाना हुई एक श्रमिक ट्रेन अपने गंतव्य स्टेशन पर पहुंचने के बजाय उड़ीसा पहुंच गई। वैसे, गोरखपुर के बजाय राउरकेला पहुंची श्रमिक ट्रेन में ड्राइवर की गलती से इनकार किया गया है।

    Indian Railway: Mumbai से चली Shramik Special, Gorakhpur के बजाय पहुंची Rourkela | वनइंडिया हिंदी

    दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

    rail

    गौरतलब है करीब दो महीने बाद कोरोनावायरस प्रेरित लॉकडाउन के बीच मुंबई में फंसे मजदूरों को अपने घर पहुंचने की जल्दी थी, लेकिन इसी जद्दोजहद में सुबह राउरकेला में जब उनकी आंख खुली तो खुली की खुली रह गई, क्योंकि घर पहुंचने का उनका इंतजार और बढ़ गया है। मामले पर रेलवे ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया है कि व गलती का पता लगा रही है।

    rail

    स्पेशल ट्रेन हुई कैंसिल, तीन दिन से मुंबई के फुटपाथ पर सोने को मजबूर सैकड़ों मजदूर

    रिपोर्ट के मुताबिक गत 21 मई को मुंबई के वसई स्टेशन से गोरखपुर उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हुई ट्रेन गलत रूट पर चलने के कारण राउरकेला ओड़िशा पहुंच गई थी। गोरखपुर के बजाय घर से काफी दूर पहुंच चुके पैसेंजर्स को पहले तो समझ में ही नहीं आया कि क्या करें और जब माजरा समझ में आया तो नाराज यात्रियों ने रेलवे से मामले पर जवाब मांगा तो वहांमौजूद रेल अधिकारियों ने बताया कि कुछ गड़बड़ी के चलते ट्रेन के चालक ने अपना रास्ता खो दिया।

    rail

    क्या ट्रेन की तरह हवाई यात्रा के बाद आपको रहना होगा क्वारंटाइन में?, हरदीप पुरी ने दिया ये जवाब

    हालांकि रेलवे अधिकारियों ने बाद में स्पष्ट किया कि पूरे मामले में रेल चालक की कोई गलती नहीं है, क्योंकि गंतव्य में परिवर्तन डिजाइन द्वारा किया गया था। रेल अधिकारियों ने बताया कि रेलवे ने कुछ श्रमिक ट्रेनों को डायवर्टेड रूट पर चलाने का फैसला किया गया है। उन्होंने बताया कि कुछ ट्रेनों को बिहार के लिए राउरकेला के रास्ते निकाला गया ताकि भीड़भाड़ दूर हो सके।

    rail

    VIDEO: प्रवासी श्रमिकों ने कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर लूटे खाने के पैकेट, 30 घंटे से भूखे-प्यासे थे

    वैसे मौजू सवाल यह है कि रेल में यात्रा कर रहे यात्रियों को रूट में बदलाव को लेकर कोई जानकारी क्यों नहीं दी गई? और राउरकेला में फंसे प्रवासी यात्रियों को यह नहीं बताया गया है कि अगली ट्रेन उन्हें राउरकेला से लेकर गोरखपुर के लिए कब रवाना है। रेलवे का कहना है कि उन्होंने मामले की जांच शुरू कर दी है।

    rail

    रेलवे का बड़ा फैसला, स्पेशल ट्रेनों में अब 30 दिन पहले करा सकेंगे टिकट बुकिंग

    फिलहाल, राउरकेला में फंसे प्रवासी मजदूर इंतजार में हैं कि कब राउरकेला से उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा, जो पिछले दो महीने बाद मुंबई से निकलकर गोरखपुर पहुंचने के बजाय त्रिशंकु की तरह अब ओडिशा में फंस गए हैं।

    बिहारः प्रवासी मजदूरों के लिए आपदा प्रबंधन का बड़ा फैसला, क्वारंटाइन में रखने के लिए बनाई जाएंगी दो कैटेगरी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    On 21 May, the train which left Mumbai's Vasai station for Gorakhpur Uttar Pradesh had reached Rourkela Odisha due to the wrong route. Passengers who had gone far away from home instead of Gorakhpur did not understand what to do at first and when Majra understood, the angry passengers asked the railway for an answer on the matter. The driver lost his way.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more