• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रोहिंग्या मुसलमानों के बारे में झूठी ख़बर का पूरा सच

By BBC News हिन्दी

रोहिंग्या
AFP
रोहिंग्या

सोशल मीडिया पर म्यांमार या बर्मा से विस्थापित होकर भारत आए रोहिंग्या मुसलमानों से जुड़ी एक अफ़वाह शेयर की जा रही है.

'आज तक गुड़गाँव' नाम का एक साप्ताहिक अख़बार है, जिसने लिखा है कि अगर 'सरकार सतर्क नहीं हुई तो हरियाणा में बड़ा बवाल हो सकता है क्योंकि हिंदुओं का माँस खाने वालों को मेवात में पनाह दी जा रही है.'

यह बता देना ज़रूरी है कि इस अखबार का इंडिया टुडे ग्रुप के आज तक चैनल से कोई लेना-देना नहीं है.

बीबीसी हिंदी की छानबीन से पता चला है कि तिब्बत की एक तस्वीर का इस्तेमाल करके यह अफ़वाह फैलाई गई है, जिसका रोहिंग्या लोगों से कोई संबंध नहीं है.

सोशल मीडिया वायरल पोस्ट
VIRAL POST
सोशल मीडिया वायरल पोस्ट

इस भड़काऊ सामग्री को ट्विटर और फ़ेसबुक के साथ गूगल प्लस पर भी शेयर किया गया है. कुछ लोगों ने लिखा है कि उन्हें ये 'डरावनी ख़बर' व्हॉट्सऐप पर मिली.

'दैनिक भारत न्यूज़' नाम की एक वेबसाइट ने भी 'आज तक गुड़गाँव' का हवाला देकर इसे अपनी साइट पर छापा है.

इस वेबसाइट ने एक कदम आगे जाकर अफ़वाह में 'हिंदुओं को कत्ल कर' जोड़ दिया जबकि मूल अफ़वाह फैलाने वाले 'आज तक गुड़गांव' ने 'हिंदू की लाश को खाते हुए पकड़े गए' लिखा था. यानी पहले से भड़काऊ अफ़वाह को और अधिक भड़काऊ बना दिया गया.

दैनिक भारत न्यूज़ ने अपनी ख़बर का सोर्स आज तक गुड़गाँव अख़बार को बताया है
DBN.COM
दैनिक भारत न्यूज़ ने अपनी ख़बर का सोर्स आज तक गुड़गाँव अख़बार को बताया है

इस अफ़वाह की जांच के लिए बीबीसी ने मेवात के एसपी राजेश दुग्गल से बात की तो उन्होंने बताया कि, "यह एक फ़र्ज़ी ख़बर है. मेवात में रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ कभी इस तरह की कोई आपराधिक वारदात दर्ज नहीं की गई है."

फिर किस आधार पर 'आज तक गुड़गाँव' अख़बार ने इस ख़बर को छापा? ये जानने के लिए हमने अख़बार के दफ़्तर में बात की.

वायरल न्यूज़, रोहिंग्या मुसलमान
AAJ TAK GURGAON
वायरल न्यूज़, रोहिंग्या मुसलमान

इस अफ़वाह के बारे में बीबीसी ने 'आज तक गुड़गाँव' अख़बार के संपादक सतबीर भारद्वाज से बात की.

सतबीर भारद्वाज ने बताया कि वो 'आज तक गुड़गाँव' अख़बार के साथ-साथ पंजाब केसरी अख़बार के गुड़गाँव एडिशन के ब्यूरो चीफ़ भी हैं. पंजाब केसरी अख़बार के दिल्ली दफ़्तर ने बीबीसी से इस बात की पुष्टि की है.

रोहिंग्या मुसलमान
Getty Images
रोहिंग्या मुसलमान

भारद्वाज ने कहा, "हरियाणा में हिंदू माँस खाने वाले रोहिंग्या मुसलमानों की एक फ़ोटो वायरल हो रही थी. मेरे पास भी ये फ़ोटो व्हॉट्सऐप के ज़रिए आई थी."

सतबीर कहते हैं कि उन्होंने 'काशिफ़' नाम के किसी नौजवान के बयान के आधार पर ही 'हिंदू माँस खाये जाने' की पूरी कहानी लिखी थी.

काशिफ़ से उनकी मुलाक़ात किस जगह हुई? क्या उन्होंने मेवात या गुड़गाँव के किसी अधिकारी से बयान लिया? या किसी सामाजिक कार्यकर्ता और नेता से उन्होंने इस बारे में बात की? इन सवालों का कोई जवाब सतबीर भारद्वाज नहीं दे पाए.

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों को क्यों मारा जाता है?

पुलिस
EPA
पुलिस

मेवात के एसपी राजेश दुग्गल ने बीबीसी को बताया कि मेवात ज़िले में 1356 रोहिंग्या मुसलमान हैं, सभी पंजीकृत हैं और उनका डेटा पुलिस के पास मौजूद है.

रोहिंग्या संकट: आख़िर सू ची की मजबूरी क्या?

रोहिंग्या मुसलमान
Reuters
रोहिंग्या मुसलमान

अब जानिए तस्वीर की सच्चाई

सतबीर भारद्वाज ने अपने अखबार में जो तस्वीर छापी है, वीभत्स होने की वजह से बीबीसी ने उसे न छापने का फ़ैसला किया, जब इस तस्वीर की जांच की गई तो उसका सच सामने आ गया.

इंटरनेट पर इस तस्वीर से जुड़े कई सर्च रिज़ल्ट सामने आए.

इस तस्वीर का इस्तेमाल पहली बार अक्तूबर 2009 में एक ब्लॉग में किया गया था, इस ब्लॉग के मुताबिक़ ये तिब्बती लोगों की अंतिम संस्कार की क्रिया को दिखलाती तस्वीर है जो अपने परिजनों के मृत शरीर को जंगली पक्षियों को खिलाने में विश्वास करते हैं.

इसके अलावा हमें ये तस्वीर ब्लॉग में लिखे संदेश के साथ एक फ़ेसबुक पेज पर भी दिखी. इसे @PhramahaPaiwan नाम के फ़ेसबुक यूज़र ने 14 अगस्त, 2014 को पोस्ट किया था.

2014 में ही ये तस्वीर ट्विटर पर भी कुछ यूज़र्स ने ट्वीट की थी. इन तस्वीरों के साथ भी तिब्बती अंतिम क्रिया का ज़िक्र था और लिखा गया था कि ये तस्वीरें तिब्बत की हैं.

तिब्बती लोगों के अंतिम संस्कार के कई यू-ट्यूब वीडियो भी हैं. इनमें मृत शरीर को गिद्ध जैसे पक्षियों को खिला दिया जाता है.

उस तस्वीर को रोहिंग्या मुसलमानों की मेवात की तस्वीर बताकर झूठ को फैलाया गया.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The true truth of false news about Rohingya Muslims
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X