• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Covid19: महामारी का रोजगार पर बड़ा असर, भारत में 23 फीसदी से अधिक हुई बेरोजगारी

|

नई दिल्ली। कोरोनो वायरस महामारी पूरी दुनिया को घुटने में ला दिया है। लाखों नौकरीशुदा लोगों को बेरोजगारी की वजह बनी कोरोना वायरस ने भारत में भी बेरोजगारी की दर को कई पायदान ऊपर चढ़ गया है। यानी पहले से ही आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहे भारत में बीते मार्च में रोजगार दर अब तक सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है और बेरोजगारी दर पहली दफ़ा दोहरे अंक में प्रवेश कर गई है।

    Coronavirus : Lockdown से India में 23 percent के पार हुआ Unemployment Rate | वनइंडिया हिंदी

    unemployment

    सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इकोनॉमी (सीएमआईई) के आंकड़ों के अनुसार, गत 29 मार्च को समाप्त सप्ताह में भारत में बेरोजगारी दर 23.8 प्रतिशत थी, जो एक हफ्ते पहले 8.4 फीसदी थी। 5 मार्च को समाप्त हुए उसके अगले सप्ताह में बेरोजगारी दर में औऱ इजाफ हुआ और यह 23.4 फीसदी दर्ज किया गया। डेटा बताते हैं कि भारत में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद जनवरी से भारत में बेरोजगारी उत्तरोत्तर बढ़ती जा रही है।

    Covid19 को RBI ने भविष्य पर मंडरा रही काली छाया बताया, जानिए RBI मौद्रिक नीति की 10 बड़ी बातें?

    unemployment

    मुंबई स्थित थिंक टैंक ने हालिया रिपोर्ट के आधार पर बताया कि मार्च 2016 में भारत में बेरोजगारी की दर 8.7 फीसदी थी। सितंबर 2016 के बाद यह 43 महीनों में सबसे अधिक बेरोजगारी दर थी। यह दर जनवरी 2020 के 7.16 फीसदी के स्तर तेजी से ऊपर चढ़ गई है।

    unemployment

    सीएमआईई ने कहा कि मार्च में रोजगार की दर 38.2 फीसदी यानी अपने सभी समय के निचले स्तर पर गिर गई है और यह परिदृश्य और खराब होता जा रहा है, क्योंकि देश लॉकडाउन अवधि में चला गया है।

    Unemployment

    रिपोर्ट में कहा गया है कि अप्रैल के पहले दो हफ्तों के दौरान हालात सामान्य नहीं हुए हैं। 12 अप्रैल को बेरोजगारी की 30-दिवसीय चल औसत दर 13.5 फीसदी थी। भारत ने पहले भी शहरी क्षेत्रों में दोहरे अंकों की बेरोजगारी दर की रिपोर्ट दर्ज की है, लेकिन ग्रामीण भारत में ऐसा कभी नहीं हुआ है।

    लॉकडाउन के कारण यहां की महिलाएं लगातार प्रेग्नेंट हो रही हैं , जानिए क्या है पूरा मामला?

    unemployment

    क्योकि प्रभावी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन ने इसे 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन ने बदल दिया है। दरअसल, लॉकडाउन के कारण कृषि गतिविधियां निलंबित हैं, इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी 13.08 फीसदी तक पहुंच गई है, जबकि शहरी क्षेत्रों में यह 14.53 फीसदी है।

    unemployment

    गौरतलब है सीएमआईई की रिपोर्ट में कहा गया है कि जनवरी और मार्च के बीच भारत में रोजगार की संख्या 41.1 करोड़ से 39.6 करोड़ तक तक गिर गई है और बेरोजगारों की संख्या 32 करोड़ से बढ़कर 38 करोड़ हो गई है। इसलिए श्रम बल में 90 लाख की गिरावट में रोगगारों की संख्या में 1.5 करोड़ की गिरावट दर्ज होती है और बेरोजगारों की संख्या में 60 लाख की वृद्धि हुई है।

    लॉकडाउन Extension: प्रशांत किशोर उर्फ PK ने पूछा, 'क्या सरकार के पास कोई प्लान-B है?'

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    According to data from the Center for Monitoring Economy (CMIE), the unemployment rate in India was 23.8 percent in the week ended March 29, compared to 8.4 percent a week earlier. The next week ended March 5, the unemployment rate increased further and was recorded at 23.4 percent. Data show that unemployment in India has been increasing steadily since January after the first case of corona virus was reported in India.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X