• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अगर इस कांग्रेसी नेता ने वक्त पर नहीं की होती मदद तो सुष्मिता नहीं बन पातीं मिस यूनिवर्स

|

मुंबई। साल 1994 के पहले आधे से ज्यादा भारतीयों को पता ही नहीं था कि मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता और खिताब क्या होता है, सही मायने में इस खिताब का महत्व देशवासियों को ब्रह्मांड सुंदरी सुष्मिता सेन ने ही समझाया, जिन्होंने इस खिताब को पहली बार जीतकर भारत को विश्वपटल पर एक अलग पहचान दी लेकिन ये खिताब सुष्मिता सेन ने कितनी मुश्किलों के बाद जीता था, ये बात शायद बहुत कम लोगों को पता होगा।

सालों बाद सु्ष्मिता सेन ने खोला राज

सालों बाद सु्ष्मिता सेन ने खोला राज

हालिया इंटरव्यू में सु्ष्मिता सेन ने इस बारे में बड़ा राज खोला है, सुष्मिता सेन ने कहा कि आयोजकों का रवैया उनके प्रति हमेशा उदासीन ही रहा और एक वक्त तो ऐसा आया कि ऑर्गेनाइजर्स उनकी जगह ऐश्वर्या राय को मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भेजने के लिए सोचने लगे थे।

यह पढ़ें: प्रियंका ने करवाया बिन ब्‍लाउज की साड़ी में हॉट फोटोशूट, भड़के फैंस ने कहा-'बेशर्म '

सुष्मिता सेन का खो गया था पासपोर्ट

सुष्मिता सेन का खो गया था पासपोर्ट

सुष्मिता सेन ने कहा कि फिलीपींस में मिस यूनिवर्स कॉन्टेस्ट के लिए जाने से पहले मेरा पासपोर्ट खो गया था, उस वक्त इवेंट की मैनेजर अनुपमा वर्मा थीं, जिन्होंने कुछ पेपर्स के आईडीप्रूफ के लिए मेरा पासपोर्ट अपने पास रखा था, मैं भी बेफिक्र थी लेकिन प्रतियोगिता के कुछ वक्त पहले अनुपमा ने कहा कि उनके पास से मेरा पासपोर्ट खो गया है।

'आयोजक मेरी जगह ऐश्वर्या को भेजना चाह रहे थे'

'आयोजक मेरी जगह ऐश्वर्या को भेजना चाह रहे थे'

सुष्मिता ने कहा कि पासपोर्ट खोने की वजह से मैं कितनी निराश हो गई थी, इसे बयां कर पाना भी मेरे लिए मुश्किल है, ऑर्गेनाइजर उतने सपोर्टिव नहीं थे, साफ तौर पर वह मेरी जगह ऐश्वर्या राय बच्चन को मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भेजना चाहते थे, मुझसे कहा गया कि पासपोर्ट इतनी जल्दी तैयार होना मुश्किल है, मिस वर्ल्ड नवंबर में है, आप बाद में जाएं, तब तक हम आपका पासपोर्ट बनवा देंगे। मैं अंदर से टूट गई थी।

कांग्रेसी नेता राजेश पाटलट ने की थी मेरी मदद-सुष्मिता सेन

कांग्रेसी नेता राजेश पाटलट ने की थी मेरी मदद-सुष्मिता सेन

मैं अपने बाबा के सामने रोने लगी तो मेरे बाबा ने कहा कि मैं भी कोशिश करता हूं, हालांकि उनके किसी बड़े लोगों से कनेक्शन नहीं थे, तब मेरे बाबा ने कांग्रेस के दिग्गज नेता राजेश पायलट से बात की और उन्होंने मेरी मदद की, जिसके बाद मेरा पासपोर्ट बना और फिर वो हुआ जिसने इतिहास रच दिया, आपको बता दें कि सुष्मिता सेन ने साल 1994 में मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया था।

यह पढ़ें: पायल रोहतगी ने किया छत्रपति शिवाजी का अपमान, भड़की NCP ने की गिरफ्तारी की मांग

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Congress Lader Rajesh Pilot Helped Sushmita Sen when Her Passport Was Lost During Miss universe Contest.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X