• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

CBI Inquiry: बिहार चुनाव में एक बड़ा मुद्दा बन सकते हैं दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत!

|

बेंगलुरू। दिवंगत बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मौत की सीबीआई जांच के मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के दो टूक बयान ने 34 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह चुके अभिनेता को आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में एक बड़ा मुद्दा लगभग बना दिया है। इसकी पहल सबसे पहले बिहार के पूर्व सांसद पप्पू यादव कर चुके है। उन्होंने गृह मंत्री से मामले की सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है।

bihar

सुशांत सिंह राजपूत केस में सुब्रमण्यन स्वामी के कूदने से खेमेबाज सेलिब्रिटीज की छूट रही कंपकपी?

सुशांत सिंह राजपूत की मौत उनके फैन्स के लिए रहस्यमयी बना हुआ है

सुशांत सिंह राजपूत की मौत उनके फैन्स के लिए रहस्यमयी बना हुआ है

फिलहाल, सुशांत सिंह राजपूत की मौत उनके फैन्स के लिए एक अबूझ पहले बनी हुई है। मुंबई पुलिस सुशांत केस की जांच लगभग पूरी कर चुकी है और विसरा रिपोर्ट आने के बाद वह जांच रिपोर्ट महाराष्ट्र के गृह मंत्री को सौंप देगी। माना जा रहा है कि मुंबई पुलिस अगले सप्ताह तक सुशांत सिंह राजपूत के जांच रिपोर्ट की अंतिम रिपोर्ट फाइल कर सकती है।

 मुंबई पुलिस के जांच को लेकर उनके फैन्स द्वारा लगातार सवाल उठा रहे हैं

मुंबई पुलिस के जांच को लेकर उनके फैन्स द्वारा लगातार सवाल उठा रहे हैं

हालांकि मुंबई पुलिस के जांच को लेकर उनके फैन्स द्वारा लगातार सवाल उठाए जाते रहे हैं। अभिनेत्री रूपा गांगुली ने मुंबई पुलिस के जांच पर एक नहीं, बल्कि तीन-तीन सवाल जांचकर्ताओं से पूछ डाले है। उनका पहला सवाल, कमरे में बिना स्टूल या कुर्सी के मदद के बिना कोई कैसे फांसी पर लटक सकता है। दूसरा सवाल, पुलिस निष्कर्ष पर कैसे पहुंची सुशांत ने आत्महत्या की? तीसरा सवाल है, पोस्टमॉर्टम से पहले ही मौत को आत्महत्या कैसे कहा?

 सुशांत सिंह राजपूत केस में CBI जांच की जरूरत नहींः अनिल देशमुख

सुशांत सिंह राजपूत केस में CBI जांच की जरूरत नहींः अनिल देशमुख

बावजूद इसके महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने दावा किया है कि मुंबई पुलिस सुशांत सिंह राजपूत मर्डर मिस्ट्री की सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है, क्योंकि उनका मानना है कि मुंबई पुलिस ऐसे मामलों की जांच करने में पूरी तरह सक्षम है, लेकिन गृह मंत्री देशमुख के बयान से सोशल मीडिया में काफी हड़कंप मच गया है, क्योंकि सभी को उम्मीद हो चली थी कि जल्द ही मामला सीबीआई के हवाले कर दिया जाएगा।

सुब्रमण्यन स्वामी के PM मोदी को लिखे पत्र से बढ़ी थी CBI जांच की उम्मीद

सुब्रमण्यन स्वामी के PM मोदी को लिखे पत्र से बढ़ी थी CBI जांच की उम्मीद

सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स को यह उम्मीद बीजेपी वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यन स्वामी द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखे एक पत्र से बढ़ी थी। सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी को लिखे पत्र को साझा करते हुए सुब्रमण्यन स्वामी ने कहा था कि उन्होंने प्रधानमंत्री से मामले की जांच सीबीआई के हवाले करने के लिए राज्य सरकार को निर्देश देने की अपील की थी।

सुब्रमण्यन स्वामी ने तीनों खानों केी चुप्पी पर जताई थी नाराजगी

सुब्रमण्यन स्वामी ने तीनों खानों केी चुप्पी पर जताई थी नाराजगी

वरिष्ठ वकील सुब्रमण्यन स्वामी से सुशांत के चाहने वालों पर यकीन इस वजह से और बढ़ गया था, क्योंकि उन्होंने नेपोटिज्म के आरोपियों और खासकर तीनों खान मसलन सलमान, शाहरूख और आमिर खान के दुबई में खरीदे संपत्ति की जांच कराने की बात कही थी। उन्होंने तीनों खानों के सुशांत सिंह राजपूत के मौत पर साधी चुप्पी पर भी नाराजगी दिखाते हुए ट्वीट किया था।

1 माह बाद सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती भी सामने आईं

1 माह बाद सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती भी सामने आईं

इस बीच, सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती भी सामने आईं और खुद को दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड संबोधित करते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मामले की जांच सीबीआई से कराने की अपील की थी। उधर, सुशांत सिंह राजपूत के गृह प्रदेश बिहार में नेता पप्पू यादव भी लगातार सरकार पर सीबीआई जांच के लिए दवाब बना रहे है।

सुशांत के फैन्स भी मामले की सीबीआई जांच को लेकर अमादा है

सुशांत के फैन्स भी मामले की सीबीआई जांच को लेकर अमादा है

सुशांत के फैन्स भी मामले की सीबीआई जांच को लेकर अमादा है, लेकिन महाराष्ट्र के गृह मंत्री के बयान से सभी में घोर निराशा घर कर गई है, जिससे सोशल मीडिया में महाराष्ट्र के गृह मंत्री के खिलाफ अपना गुस्सा जताने से नहीं चूक रहे है। हालांकि सुशांत मामले की जांच को लेकर अभी तक बिहार की प्रदेश सरकार की चुप्पी भी असाधारण है, जिसे पूर्व सांसद पप्पू यादव बिहार का गौरव बताया है।

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन सकता है

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन सकता है

सुशांत सिंह राजपूत केस को लेकर पूरे बिहार में जैसा माहौल है, उसको देखकर कहा जा सकता है कि सुशांत सिंह राजपूत केस बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन सकता है, क्योंकि सुशांत के मौत के बाद से ही बिहार में आक्रामक हुए उनके फैन्स के लगातार निशाने पर बॉलीवुड के खेमेबाज एक्टर और फिल्मकार हैं, जिनके खिलाफ बिहार में अब तक 8 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

सलमान खान- करण जौहर के फिल्मों का बहिष्कार का ऐलान कर चुके हैं बिहारी

सलमान खान- करण जौहर के फिल्मों का बहिष्कार का ऐलान कर चुके हैं बिहारी

यही नहीं, बिहार में सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स ने अभिनेता सलमान खान और करण जौहर की फिल्मों का बहिष्कार का ऐलान भी कर चुके हैं। फैन्स का मानना है कि सलमान खान और करण जौहर द्वारा स्टार किड्स को प्रमोट करने के चलते आउटसाइडर्स को मानसिक प्रताड़ना का शिकार होना पड़ रहा है, क्योंकि उनका आरोप है कि उनके द्वारा की जा रही खेमेबाजी और फिल्मी बैकग्राउंड वाले को मौका देने से बाहरी लोगों को काम नहीं मिलता है।

क्यों तीन ब्लाकबस्टर फिल्मों में सुशांत सिंह राजपूत काम नहीं कर सके?

क्यों तीन ब्लाकबस्टर फिल्मों में सुशांत सिंह राजपूत काम नहीं कर सके?

बॉलीवुड फिल्म के नामचीन फिल्मकार संजय लीला भंसाली ने मुंबई पुलिस द्वारा की पूछताछ में किए गए खुलासे इसकी तस्दीक भी करते हैं। संजय लीला भंसाली ने खुलासा किया था कि उन्होंने अपनी तीन ब्लाकबस्टर फिल्मों के लिए सुशांत सिंह राजपूत को अप्रोच किया था, लेकिन दुर्भाग्यवश सुशांत तीनों फिल्मों में काम नहीं कर सके। ये तीनों फिल्में थी, राम लीला, बाजीराव मस्तानी और पदमावत।

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्मों को करके रणवीर सिंह सुपर स्टार बन गए

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्मों को करके रणवीर सिंह सुपर स्टार बन गए

संजय लीला भंसाली ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि राम लीला और बाजीराव मस्तानी के नायक की भूमिका के लिए उनकी पहली पंसद सुशांत सिंह राजपूत थे, जो सुशांत सिंह राजपूत के न कहने पर रणवीर सिंह के खाते में चला गया। हालांकि भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्म पदमावत के लिए सुशांत सिंह को शाहिद कपूर वाले रोल के लिए अप्रोच किया गया था, जिसे तथाकथित डेट की समस्या के चलते सुशांत ने करने से मना कर दिया था।

भंसाली के 3 फिल्मों में काम करने से इनकार के पीछे की क्या थी सच्चाई?

भंसाली के 3 फिल्मों में काम करने से इनकार के पीछे की क्या थी सच्चाई?

सुशांत सिंह राजपूत के संजय लीला भंसाली के तीनों फिल्मों में काम करने से इनकार के पीछे की सच्चाई यह है कि वो यशराज बैनर के साथ तीन फिल्मों के करार से बंधे हुए थे, जिसके चलते वो किसी को डेट नहीं दे सकते थे। यशराज बैनर में बनी तीन फिल्मों में से दो फिल्में रिलीज भी हो चुकी है, जिनके नाम शुद्ध देसी रोमांस और व्योमकेश बख्शी है, जिन्होंने बेहद औसत प्रदर्शन किया जबकि तीसरी फिल्म पानी डिब्बाबंद हो गई है।

यशराज बैनर की शेखर कपूर निर्देशत फिल्म पानी अचानक डिब्बाबंद हो गई

यशराज बैनर की शेखर कपूर निर्देशत फिल्म पानी अचानक डिब्बाबंद हो गई

सुशांत सिंह राजपूत शेखर कपूर निर्देशत पानी के लिए काफी मेहनत कर रहे थे, जिसे अपने कैरियर के लिए बेहतर मानकर चल रहे थे, लेकिन अचानक ही यशराज बैनर ने फिल्म को प्रोड्यूस करने से मना कर दिया, जिससे फिल्म पानी डिब्बाबंद हो गई। फिल्म पानी के डिब्बाबंद होने के बाद सुशांत सिंह राजपूत बेहद संताप से गुजरने लगे थे, क्योंकि फिल्म पानी के लिए उन्होंने कई फिल्मों को मना करना पड़ा था, जिसमें से एक पदमावत भी था।

क्या फिल्म पानी के डिब्बाबंद होने की कहानी की असलियत सामने आएगी?

क्या फिल्म पानी के डिब्बाबंद होने की कहानी की असलियत सामने आएगी?

फिल्म पानी के डिब्बाबंद होने की कहानी क्या है, यह निर्देशक शेखर कपूर बेहद अच्छी तरह से जानते हैं और संभवतः मुंबई पुलिस के सामने फिल्म के डिब्बाबंद होने की कहानी की असलियत भी सामने रखेंगे कि कैसे एग्रींमेंट की आंड़ में एक चमकते हुए सितारे को बुझने के लिए अकेला छोड़ दिया गया। यही कारण है कि फैन्स के निशाने पर यशराज बैनर के मालिक आदित्य चोपड़ा भी हैं।

 बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा गरमा सकता है

बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा गरमा सकता है

माना जा रहा है कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री के बयान के बाद बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा गरमा सकता है और पप्पू यादव समेत कई बिहार के राजनेता बिहार के सपूत की रहस्यमयी मौत की जांच सीबीआई से करवाने को लेकर सड़क पर उतर सकते हैं। प्रदेश की नीतीश सरकार पर भी सीबीआई जांच को लेकर दवाब बढ़ सकता है और मामले की गंभीरता को देख नीतीश सीबीआई जांच की सिफारिश कर दें तो आश्यर्य नहीं होगा।

सीबीआई जांच की मांग को लेकर पूरे देश भर में छिड़ा हुआ है एक मुहिम

सीबीआई जांच की मांग को लेकर पूरे देश भर में छिड़ा हुआ है एक मुहिम

मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर पूरे देश भर में एक मुहिम भी चलाई जा रही है, जिसमे सबसे पहले बिहार के पूर्व सांसद पप्पू यादव ने पहल की और अमित शाह को सीबीआई जांच के लिए चिट्ठी लिख डाली। फिर भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मामले की सीबीआई जांच के लिए दवाब बढ़ाया है और अंत में गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने गृहमंत्री को टैग करते हुए पोस्ट लिखकर सीबीआई जांच की मांग कर दी है।

सुशांत सिंह राजपूत परिवार ने अभी तक सीबीआई जांच मांग क्यों नहीं की?

सुशांत सिंह राजपूत परिवार ने अभी तक सीबीआई जांच मांग क्यों नहीं की?

हालांकि इस सब के बीच हैरान करने वाली बात यह है कि सुशांत सिंह राजपूत का परिवार शांत बना हुआ है और परिवार के किसी भी सदस्य ने सीबीआई जांच को लेकर कोई बयान नहीं दिया। यही नहीं, बॉलीवुड का कोई एक्टर, फिल्मकार और कलाकार सीबीआई जांच को लेकर मुखर नहीं हुआ है, जबकि मुंबई पुलिस जांच में सामने आए लूप होल्स इशारा करते हैं कि जांच सही दिशा में नहीं जा रहे हैं।

मुंबई पुलिस ने सुशांत सिंह राजपूत के फ्लैट को सील क्यों नहीं किया?

मुंबई पुलिस ने सुशांत सिंह राजपूत के फ्लैट को सील क्यों नहीं किया?

सबसे बड़ा सवाल यह है कि मुंबई पुलिस ने जांच के दौरान सुशांत सिंह राजपूत के फ्लैट को सील क्यों नहीं किया। वहीं, सुशांत के पोस्टमार्टम से जुड़े कई सवाल जो मीडिया में उठते रहे, मुंबई पुलिस उसका कोई पक्का जवाब नहीं देना संशय पैदा करता है। ऐसे में महाराष्ट्र के गृह मंत्री का यह बयान कि महाराष्ट्र सरकार सीबीआई जांच नहीं कराएगी, उससे लोगों के बीच असंतोष का माहौल घर कर गया है।

महाराष्ट्र सरकार के बयान से टूटा है देश की जनता का भरोसा

महाराष्ट्र सरकार के बयान से टूटा है देश की जनता का भरोसा

निः संदेह बिहार ही नहीं, पूरे देश की जनता का भरोसा सीबीआई जांच नहीं कराने के महाराष्ट्र सरकार के बयान से टूटा है, जिसमे सबसे ज्यादा आहत बिहार की जनता हुई है, जिसका प्रमाण है कि अब तक दायर 8 मुकदमों में से 7 मुकदमें बिहार में दर्ज कराए गए हैं। बिहार की जनता का विश्वास जीतने के लिए चुनाव से पहले सत्ता और विपक्ष दोनों मुद्दे को भुनाने की कोशिश करेंगे।

सीबीआई जांच का दवाब बीजेपी और जदयू दोनों पार्टियां महसूस कर रही है

सीबीआई जांच का दवाब बीजेपी और जदयू दोनों पार्टियां महसूस कर रही है

महाराष्ट्र के गृहमंत्री के बयान के बाद मामला गरमाया हुआ है, जिसकी आंच संभवतः बिहार की एनडीआर सरकार में शामिल बीजेपी और जदयू दोनों पार्टियों तक पहुंच रही है और दोनों दल जनता की नब्ज को देखते हुए सीबीआई जांच की सिफारिश पर कदम बढ़ाने से नहीं चूकेंगे, क्योंकि विपक्षी दल, जिसमें पप्पू यादव भी शामिल हैं, जिन्होंने सीबीआई जांच के लिए चिट्ठी लिखकर हवन कुंड की अग्नि प्रज्जवलित कर दी है।

मुद्दों को अकाल से जूझ रहा महागठबंधन भी सुशांत को बना सकता है मुद्दा

मुद्दों को अकाल से जूझ रहा महागठबंधन भी सुशांत को बना सकता है मुद्दा

पूरी संभावना है कि मुद्दों को अकाल से जूझ रहा महागठबंधन भी सुशांत सिंह राजपूत मामले को कैश करने में पीछे नहीं रहेगा। चूंकि वह अभी प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के इशारों का इंतजार कर रही है, लेकिन उसके बाद राजद नेता तेजस्वी यादव समेत महागठबंधन के अन्य दल सड़क पर उतरने में देरी नहीं करेंगे। तेजस्वी यादव बिहार प्रदेश के नामचीन अभिनेता शेखर सुमन के साथ एक मंच साझा करते हुए देखे जा चुके हैं, जहां शेखर सुमन सुशांत की मौत के लिए खेमेबाजी और गैंगबाजी का जिक्र किया था।

सत्तासीन सरकार बिहार के युवाओं को ठेस पहुंचाने का जोखिम नहीं लेगी

सत्तासीन सरकार बिहार के युवाओं को ठेस पहुंचाने का जोखिम नहीं लेगी

साल के आखिर में बिहार में चुनाव है और इसीलिए यह मामला अब और गर्म हो सकता है। पिछले दिनों मुफ्त में अनाज बांटने की घोषणा के दौरान बिहार के छठ पर्व का ध्यान रखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने यह कहकर चुनावी कैंपेन शुरू किया था कि छठ के पर्व तक देश की गरीब जनता के बीच मुफ्त में अनाज बांटा जाएगा। इससे जाहिर है कि बीजेपी आलाकमान बिहार के युवाओं को ठेस पहुंचाने का जोखिम नहीं लेगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In the case of the CBI investigation into the death of late Bollywood actor Sushant Singh Rajput, the recent blunt statement by Maharashtra Home Minister Anil Deshmukh, no one can stop the actor who has left the world at the age of 34 from becoming a major issue in the upcoming Bihar Assembly elections is. However, it has been started by former Bihar MP Pappu Yadav and he has initiated the Home Minister Amit Shah to get the case investigated by the CBI.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more