• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सुशांत के एम्बुलेंस ड्राइवर शहनवाज का दावा- "बॉडी पहले से व्हाइट कपड़े में लिपटी हुई थी"

|

नई दिल्ली- सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सिफारिश के बाद सीबीआई जांच की संभावनाएं बढ़ गई हैं। इस बीच इस हाई प्रोफाइल संदिग्ध मौत के मामले में खुलासे अभी भी होते चले जा रहे हैं। सोमवार को हमने आपको बताया था कि सुशांत का शव उनके घर से पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल ले जाने वाले एम्बुलेंस ड्राइवर को विदेशी नंबरों से किस तरह धमकियां दी जा रही हैं। अब शहनवाज अब्दुल करीम ने सुशांत की मौत के बाद मौका-ए-वारदात को लेकर जो नया खुलासा किया है, उससे मामला और भी संदिग्ध होता लग रहा है। आइए जानते हैं कि शहनवाज जब सुशांत के कमरे में शव लेने के लिए पहुंचा तो उसने वहां पर क्या देखा और किस तरह से उसे भी पूरे मामले को लेकर संदेह हो रहा है।

    Sushant Singh Case: Bihar के DGP का Mumbai Police पर निशाना, कहा- कुछ तो गड़बड़ है | वनइंडिया हिंदी

    "बॉडी पहले से व्हाइट कपड़े में लिपटी हुई थी"

    सुशांत सिंह राजपूत के कमरे से उनके शव को स्ट्रेचर पर लादकर एम्बुलेंस में रखने के लिए पुलिस ने जिन लोगों को बुलाया था उनमें एम्बुलेंस का ड्राइवर शहनवाज अब्दुल करीम भी शामिल था। पहले यह खबरें थीं कि शव को पुलिस ही लेकर उनके कमरे से नीचे आई थी और एम्बुलेंस में रखा था। लेकिन, एक न्यूज चैनल से बातचीत में शाहनवाज ने कहा है कि " बॉडी हम नीचे लाए थे, उसे लपटे नहीं थे। मतलब बॉडी जो थी ना वो व्हाइट कपड़े में लपटी हुई थी। पुलिस वालों ने ही फोटो खीच लिया था और उसे फेसबुक पर डाला। पहले पुलिस वाले पहुंचे थे, बाद में हम लोग पहुंचे थे।" यानि सुशांत के शव का क्या हाल था, उसे किसने उतारा, बेड पर किसने रखा, कपड़े में किसने लपेटा, उसके बारे में एम्बुलेंस ड्राइवर को कुछ भी नहीं पता है। जबकि, शव लाने के लिए वही सुशांत के कमरे में गया था और शव के साथ जो कुछ भी हुआ, वह उसके पहुंचने के पहले ही हो चुका था।

    'पोस्टमॉर्टम के लिए कूपर अस्पताल जाने का फैसला अचानक हुआ'

    'पोस्टमॉर्टम के लिए कूपर अस्पताल जाने का फैसला अचानक हुआ'

    यही नहीं शाहनवाज ने एक और बात बताई है कि पुलिस वाले सुशांत के शव को पहले नानावटी अस्पताल ले जाने की कह रहे थे, लेकिन अचानक कूपर अस्पताल लेकर चले गए, जो कि महाराष्ट्र सरकार का अस्पताल है। उसके मुताबिक, "पहले नानावटी ले जाने को बोल रहे थे, फिर कूपर लेकर गए। हम तीन लोग थे बॉडी नीचे लाने वाले। पंखा तो था ही नहीं उनके घर...........हमारे पहुंचने से पहले बॉडी सीलिंग से उतार ली गई थी और कपड़े में लपेटी गई थी।" पहले पुलिस वालों की ओर से कहा जा रहा था कि सुशांत सिंह राजपूत के शव को वो लोग ही नीचे लेकर आए थे और फिर वहां से एम्बुलेंस में चढ़ाया गया था। यही नहीं सुशांत के घर और कूपर अस्पताल के बीच में कई और अस्पताल हैं, लेकिन उसे कूपर अस्पताल ही लेकर पहुंचने को लेकर वहां के डीन ने दावा किया है कि वह महाराष्ट्र सरकार का अस्पताल है इसलिए शव वहां लेकर जाया गया। गौरतलब है कि सुशांत के परिवार वालों ने पोस्ट मॉर्टम में भी गड़बड़ी की आशंका जताई है।

    ड्राइवर को विदेशी नंबरों से मिल रही हैं धमकियां

    ड्राइवर को विदेशी नंबरों से मिल रही हैं धमकियां

    इससे पहले वन इंडिया ने सोमवार को एक खबर दी थी, जिसमें इस ड्राइवर ने खुद को विदेशी फोन नंबरों से धमकियां मिलने के आरोप लगाए थे। उसने कहा था कि जबसे वह सुशांत सिंह राजपूत का शव लेकर आया है, उसे इंटरनेशनल नंबरों से धमकी भरे फोन कॉल्स आ रहे हैं। हालांकि, एम्बुलेंस के मालिक ने अपने ही ड्राइवर के बयान के विरोध में बातें कही थीं। एम्बुलेंस मालिक का दावा था कि सुशांत के शव को उनके फ्लैट से नीचे लाने वालों में उसके एम्बुलेंस का ड्राइवर था ही नहीं। बल्कि, शव खुद मुंबई पुलिस नीचे लेकर आई थी और उसे एम्बुलेंस में चढ़ाया था। लेकिन, एम्बुलेंस ड्राइवर अब जितनी चीजों का खुलासा कर रहा है और उसे विदेशों से धमकियां मिल रही हैं तो इसमें कोई बहुत बड़ी साजिश की बू जरूर आ रही है।

    सुशांत की जान को किससे था खतरा ?

    सुशांत की जान को किससे था खतरा ?

    बहरहाल, सुशांत सिंह राजपूत के पिता की मांग पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनकी संदिग्ध मौत की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। नीतीश ने पहले ही कहा था कि एफआईआर उनके पिता ने दर्ज करवाई है और वो कहेंगे कि सीबीआई जांच हो तो हमें इसकी सिफारिश करने में कोई दिक्कत नहीं होगी। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और वहां के गृहमंत्री लगातार कह रहे हैं कि वह किसी भी हाल में सीबीआई जांच नहीं चाहते। जबकि, अब तो यह तथ्य भी जगजाहिर हो चुकी है कि सुशांत के परिवार वालों ने 25 फरवरी को ही व्हाट्सअप पर उसकी जान पर खतरे की लिखित शिकायत मुंबई पुलिस को कर दी थी।

    सीबीआई जांच पर सुप्रीम कोर्ट दे सकता है कोई फैसला

    सीबीआई जांच पर सुप्रीम कोर्ट दे सकता है कोई फैसला

    अब देखने वाली बात है कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में रिया चक्रवर्ती की ओर से केस पटना से मुंबई ट्रांसफर करने वाली याचिका पर क्या फैसला होता है। जिसमें बिहार सरकार और महाराष्ट्र सरकार दोनों ही कैविएट डालकर उन्हें भी सुनने का मौका देने की मांग कर चुकी है। दिलचस्प बात ये है कि रिया चक्रवर्ती पहले ही खुद गृहमंत्री अमित शाह से इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर चुकी हैं।

    इसे भी पढ़े- अपनी मौत से पहले दिशा सालियान ने सुशांत सिंह राजपूत को किया था फोन, जानिए उस रात की पूरी कहानी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Sushant's ambulance driver Shahnawaz claims - "Body was already wrapped in white clothes"
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X