• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्‍ली ट्रांसफर किया उन्‍नाव केस, सीबीआई को 7 दिन में एक्‍सीडेंट की जांच पूरी करने का आदेश

|

नई दिल्‍ली। उन्‍नाव रेप और पीड़िता के साथ एक्सीडेंट के मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज दो बार सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस मामले में सख्त रुख अपनाते हुए सभी केस को लखनऊ से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया है। इसके अलावा अदालत ने आदेश दिया है कि पीड़िता के एक्सीडेंट की जांच सीबीआई एक हफ्ते में पूरी करे। वहीं पीड़िता का मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद चीफ जस्टिस ने वकीलों से कहा है कि अगर परिवार चाहता है कि पीड़िता को दिल्ली शिफ्ट किया जाए, तो उन्हें शिफ्ट किया जा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्‍ली ट्रांसफर किया उन्‍नाव केस, सीबीआई को 7 दिन में एक्‍सीडेंट की जांच पूरी करने का आदेश

उन्‍होंने कहा कि अगर पीड़िता एयरलिफ्ट करने की हालत में है, तो उसे दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया जाए। पीड़िता के साथ-साथ घायल वकीलों के बारे में भी ऐसा ही करने को कहा गया है। इसके अलावा चीफ जस्टिस ने ये भी पूछा है कि क्या पीड़िता के परिवार को सुरक्षा चाहिए। जिसपर वकील ने अदालत को बताया कि पीड़िता की चार बहनें हैं, माता हैं और एक चाचा हैं जिनकी पत्नी की एक्सीडेंट में मौत हो गई है। इन सभी को सुरक्षा चाहिए।

पीड़िता की सुरक्षा में लगे 3 पुलिसकर्मी सस्पेंड

पीड़िता के रोड एक्‍सीडेंट मामले में यूपी पुलिस ने 3 पुलिसकर्मियों को सस्‍पेंड कर दिया है। ये तीनों वहीं पुलिसकर्मी हैं जो पीड़िता की सुरक्षा में लगाए गए थे। इनमें 2 महिला और 1 पुरूष सुरक्षाकर्मी शामिल हैं। एक्सीडेंट के दिन तीनों पीड़िता की सुरक्षा में मौजूद नहीं थे। तीनों को ड्यूटी पर लापरवाही बरतने के मामले में सस्‍पेंड किया गया है। उनके नाम गनर सुरेश, महिला सिपाही रूबी और सिपाही सुनिता हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
SC transfers all cases related to Unnao to Delhi
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X