• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Unnao Case: दिल्‍ली ट्रांसफर हुए सभी केस, SC का आदेश- 7 दिन में पूरी करो एक्सीडेंट की जांच

|

नई दिल्ली। उन्नाव रेप और पीड़िता के साथ एक्सीडेंट के मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज दो बार सुनवाई हुई है, चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस मामले में कड़ा रूख अपनाते हुए इस मामले से जुड़े सभी केस को लखनऊ से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया है, इसके अलावा अदालत ने आदेश दिया है कि पीड़िता के एक्सीडेंट की जांच सीबीआई एक हफ्ते में पूरी करे।

 Unnao rape: यूपी से बाहर ट्रांसफर हो सकता है केस

इससे पहले आज सुबह जब सुनवाई शुरू हुई तो अदालत ने सीबीआई अफसर को पेश होने को कहा, साथ ही पूरी स्टेटस रिपोर्ट देने को कहE था जिसके बाद सीबीआई अफसर के सामने अदालत ने एक्सीडेंट की जांच को 7 दिन के अंदर पूरा करने का आदेश दिया है।

पीड़िता और परिवार की सुरक्षा में तैनात होगी CRPF

सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा आदेश देते हुए कहा है कि राज्य सरकार शुक्रवार तक पीड़िता को 25 लाख रुपये का मुआवजा दे। साथ ही कोर्ट ने कहा कि डॉक्टर यह प्रमाणित करें कि जिस ICU में पीड़िता और वकील को रखा गया है वहां वे सारी सुविधाएं हैं जो हमें बताई गई हैं।

पीड़िता की मां की चिठ्ठी पर सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट आज(गुरुवार) पीड़िता की मां की चिट्ठी पर सुनवाई हुई, सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि 17 जुलाई को मिली चिट्ठी कोर्ट के संज्ञान में देरी से क्यों लाई गई, जिसपर सॉलिसिटर जनरल ने जवाब दिया कि हर महीने रजिस्ट्रार के पास 6000 से अधिक चिट्ठी आती हैं, इस महीने 600 चिट्ठियां आई थीं।

परिजनों ने सीजेआई रंजन गोगोई को लिखा था खत

आपको बता दें कि उन्नाव रेप पीड़िता की कार दुर्घटना में बुरी तरह घायल होने से पहले उनके परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई रंजन गोगोई को पत्र लिखकर इस मामले में आरोपियों से अपनी जान को खतरे की आशंका जताई थी, जिसके बाद सीजेआई रंजन गोगोई ने पूछा था कि उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार द्वारा लिखे पत्र को उनके सामने पेश करने में देरी क्यों हो रही है, ये चिट्ठी पीड़िता की मां, बहन और चाची ने लिखी थी।

पीड़िता जिंदगी और मौत से जूझ रही

बता दें कि सड़क दुर्घटना में पीड़िता की चाची की मौत हो चुकी है, जबकि पीड़िता जिंदगी और मौत से जूझ रही है। पीड़िता की मां ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका देकर ट्रायल को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग भी की थी। उन्नाव रेप पीड़िता को जान से मारने का षड़यंत्र रचने के आरोप में उत्तर प्रदेश पुलिस ने जेल में बंद बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और 29 अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से निकाला

तो वहीं बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से निकाल दिया है। इसके पहले, यूपी बीेजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि था कुलदीप सिंह सेंगर निलंबित हैं और वे निलंबित ही रहेंगे। रेप के आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर एक साल से जेल में बंद हैं।

यह पढ़ें: कांवड़ यात्रा के नाम पर घाट पर शराब के पेग बना रहे कांवड़िए, वीडियो वायरल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Supreme Court will on Thursday take up the Unnao rape case in which a minor girl had accused Bharatiya Janata Party (BJP) legislator Kuldeep Singh Sengar of sexual assault two years ago.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X