• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए, श्रीलंका में हुए सीरियल ब्लास्ट में इतने लोग कैसे मरे?

|

नई दिल्ली- रविवार को ईस्टर के मौके पर श्रीलंका की राजधानी कोलंबो समेत दो और शहरों में एक के बाद एक हुए 8 सीरियल धमाकों ने पूरी मानवता को झकझोर कर रख दिया है। सबसे बड़ी चिंता इस बात पर जताई जा रही है कि इसमें हताहतों की तादाद बहुत ही ज्यादा है। ऐसे में यह साफ लग रहा है कि साजिशकर्ताओं ने हताहतों की ज्यादा से ज्यादा संख्या पहुंचाने के लिए कुछ ठोस रणनीति के तहत काम किया है।

आत्मघाती हमलावरों के चलते बड़ा हमला

आत्मघाती हमलावरों के चलते बड़ा हमला

श्रीलंका में हुए सीरियल धमाकों से शुरुआती तौर पर ये जानकारी मिल रही है कि इतनी बड़ी साजिश को अंजाम देने के लिए सुसाइड बॉम्बर का इस्तेमाल किया गया है। धमाकों में मरने वालों और घायलों की भारी तादाद को देखकर जांचकर्ता शुरुआती तौर पर इसी नतीजे पर ही पहुंच रहे हैं कि हमले में आत्मघाती हमलावर शामिल थे। खासकर शांगरी ला होटल (Shangri La hotel) और बट्टीकैलो चर्च (Batticalao Church)में हुए विस्फोट को देखने से यही लगता है कि इसे आत्मघाती हमलावरों ने अंजाम दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक जहरान हाशिम एवं अबु मोहम्मद जैसे सुसाइड बॉम्बर के नाम सामने आ रहे हैं।

आरडीएक्स (RDX) का इस्तेमाल हुआ!

आरडीएक्स (RDX) का इस्तेमाल हुआ!

शुरआती छानबीन में इस बात की भी आशंका लग रही है कि धमाकों ने इतना कहर ढाया है, तो जरूर इसमें आरडीएक्स (RDX) जैसे खतरनाक विस्फोटक का इस्तेमाल हुआ है। रविवार को हुए धमाकों में वहां डेढ़ सौ से ज्यादा लोग मारे गए हैं और सैकड़ों लोग जख्मी भी हुए हैं, जिससे मरने वालों की तादात बढ़ने की भी आशंका है।

इसे भी देखें, सीरियल ब्लास्ट की दिल दहलाने वाली तस्वीरें और वीडियो

कौन थे निशाने पर?

कौन थे निशाने पर?

भारत में इंटेलिजेंस ब्यूरो के एक अफसर ने वन इंडिया से कहा है कि साफ लगता है कि हमलावरों के निशाने पर कैथोलिक्स (Catholics) थे। क्योंकि, इतने बड़े सीरियल धमाकों को ईस्टर के दिन अंजाम दिया गया है और बड़े चर्च और होटल को टारगेट किया है। इस त्योहार के मौके पर वहां भारी तादाद में क्रिश्चियन घरों से बाहर निकले हुए थे, जिनकी जनसंख्या श्रीलंका में करीब 6 फीसदी है। सबसे बड़ी बात ये है कि यह हमला चर्चो को निशाना बनाए जाने की चेतावनी के 10 दिन बाद ही किया गया है। कोलंबो पुलिस को चर्चों को निशाना बनाए जाने की धमकी 11 अप्रैल को मिली थी, जिसमें कैथोलिक्स को घर जाने और अपने परिवारों को भी ये बात बताने की बात कही गई थी।

अभी और धमाकों की आशंका से इनकार नहीं

अभी और धमाकों की आशंका से इनकार नहीं

श्रीलंकाई इंटेलिजेंस ने आगाह किया है कि अभी और भी हमलों की आशंका बनी हुई है। इसके मद्देनजर पूरे देश में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और सुरक्षा बेहद कड़ी कर दी गई है। लोगों को फिलहाल अपने घरों में ही रहने की सलाह दी गई है। रविवार को हुए कुल 8 धमाकों में तीन चर्चों- कोलंबो के सेंट एंटोनी, पश्चिमी तटीय शहर निगोंबो और पूर्वी तटीय शहर बट्टीकैलो (Batticalao Church) को निशाना बनाया गया है। पुलिस के मुताबिक शुरुआती धमाकों को लोकल टाइम सुबह के 8.45 पर अंजाम दिया गया, जब बड़ी तादाद में लोग ईस्टर की प्रार्थना के लिए चर्च में इकट्ठे हुए थे।

इसे भी पढ़ें- Multiple blasts in Srilanka : हमारे क्षेत्र में इस तरह की बर्बरता की कोई जगह नहीं: PM मोदी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Suicide bombers, RDX: What made the Colombo bombings so lethal
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X