• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जेएनयू हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस का खुलासा, कैंपस में छात्रों का प्रदर्शन जारी

|

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हुई हिंसा को लेकर छात्र लगातार वरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। शुक्रवार को भी छात्रों ने जेएनयू परिसर में अपनी मांगों के लेकर विरोध प्रदर्शन किया। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में हिंसा को लेकर कई बड़े खुलासे किए। पुलिस ने हिंसा में शामिल संदिग्ध छात्रों का भी नाम लिया जिसमें से सबसे चौंकाने वाला जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष का नाम था। गौरतलब है कि 5 जनवरी को जेएनयू कैंपस में कुछ नकाबपोश हमलावरों ने छात्रों के साथ मारपीट की थी।

छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी

छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी

जेएनयू हिंसा को लेकर देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुए जिसमें बॉलीवुड हस्तियों ने भी भाग लिया। दीपिका पादुकोण, अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू और शबाना आजमी जैसी कई हस्तियों ने जेएनयू छात्रों का समर्थन किया। हिंसा के विरोध में गुरुवार को जेएनयू छात्रों ने दिल्ली के मंडी हाउस तक पैदल मार्च निकालने की कोशिश की लेकिन दिल्ली पुलिस ने इसकी इजाजत नहीं दी। इसके बाद पुलिस ने छात्रों के बसों में बिठाकर मंडी हाउस तक पहुंचाया। वहां जेएनयू छात्रों को दिल्ली यूनिवर्सिटी और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के स्टूडेंट्स ने भी अपना समर्थन दिया।

हिंसा को लेकर पुलिस का बड़ा खुलासा

हिंसा को लेकर पुलिस का बड़ा खुलासा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में नकाबपोश 'गुंडों' द्वारा छात्र और टीचर्स की पिटाई मामले पर दिल्ली पुलिस शुक्रवार शाम 4 बजे प्रेस कॉन्फेंस कर कई अहम खुलासे किए। दिल्ली पुलिस पीआरओ एमएस रंधावा ने बताया कि जएनयू हिंसा के संबंध में दर्ज आपराधिक मामलों की जांच क्राइम ब्रांच द्वारा की जा रही है। लेकिन यह देखा गया है कि इन मामलों से संबंधित बहुत सी गलत सूचना प्रसारित की जा रही है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि यूनिटी अगेन्स्ट लेफ्ट नाम के वॉट्सऐप ग्रुप से लोगों को कैंपस में हमला करने के लिए बुलाया गया था।

आइशी घोष के नाम का खुलासा

दिल्ली पुलिस ने हमले से जुड़े छात्रों के नाम का खुलासा किया है। इनमें सुशील कुमार (पूर्व छात्र), पंकज मिश्रा (माही मांडवी हॉस्टल), आइशी घोष (जेएनयूएसयू अध्यक्ष), भास्कर विजय, सुजेता तालुकदार, प्रिय रंजन, योगेंद्र भारद्वाज पीएचडी-संस्कृत, विकास पटेल (पीले शर्ट में एमए कोरियन) और डोलन सामंता नाम के लोगों की पहचान की गई है। डीसीपी क्राइम ब्रांच ने डॉ जॉय टिर्की ने बताया कि किसी भी संदिग्ध को अभी तक हिरासत में नहीं लिया गया है मगर हम जल्द ही उनसे पूछताछ शुरू करेंगे।

ओवैसी ने कहा- देश का 41% पैसा हिंदू सवर्णों के पास, मुसलमानों के पास केवल 8%

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Students of Jawaharlal Nehru University JNU hold protest in the campus against Violence
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X