• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

राजस्‍थान: गहलोत सरकार के विधायकों की खरीद-फरोख्‍त मामले की जांच के लिए आठ सदस्‍सीय टीम गठित

|

नई दिल्ली। राजस्थान में सियासी उठापटक के बीच हर दिन नया खुलासा हो रहा है। इस संबंध में वायरल ऑडियो टेप को लेकर भी बवाल मचा हुआ है। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के विधायकों की खरीद-फरोख्त का मामला जयपुर के राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) में 10 जुलाई को एक एफआईआर दर्ज करवाई थी। जिसकी जांच एसओजी ने शुरू कर दी थी। विधायकों की खरीद फरोख्त करके कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार के तख्ता पलट की यह साजिश किसने और कैसे रची। इस बात का सिलसिलेवार जिक्र एसओजी की एफआईआर में है।अब इस प्रकरण की जांच के लिए की अगुवाई में आठ सदस्यीय टीम गठित की गई है, जिससे संबंधित मामले की जांच की जा सके।

savhin
    Rajasthan Phone Tapping Case: Ashok Gehlot के आरोप पर BJP ने की CBI जांच की मांग | वनइंडिया हिंदी

    एफआईआर में लिखा है कि एसओजी द्वारा 13 जून 2020 को अवैध हथियारों की तस्करी की रोकथाम के लिए मोबाइल नंबर 9929229909 व अवैध विस्फोटक पदार्थ की तस्करी की रोकथाम के लिए मोबाइल नंबर 8949065678 को अन्तावरोध के लिए लिया गया। उपरोक्त मोबाइल नंबर में हो रही बातचीत से प्रकट होता है कि वर्तमान में स्थापित राज्य सरकार को गिराने का प्रयास किया जा रहा है। बातचीत में ऐसी वार्ता की जा रही है कि मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री में झगड़ा चल रहा है। ऐसी स्थिति में सत्ता पक्ष कांग्रेस पार्टी व निर्दलीय विधायकों को तोड़कर सरकार गिराई जाए। इसके अलावा इस फोन पर हुई अन्‍य बातचीत का जिक्र एफआईआर में किया गया है।

    fir

    इस एफआई के बाद एसओजी ने पिछले दिनों दो व्यक्तियों मोबाइल नंबरों को ट्रेस किया था, जिसमें राजस्थान में कांग्रेस विधायकों की खरीद-फरोख्त कर अशोक गहलोत सरकार अस्थि​र करने के प्रयास किए जाने की साजिश रचने की बातचीत सामने आई थी। एसओजी के एडीजीपी अशोक कुमार राठौड़ ने इसके बाद कहा था कि व्यक्तियों के बीच हुई बाचतीत के आधार पर कह सकते हैं कि यह राजस्थान सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की साजिश रची जा रही थी। लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार को अस्थिर करने का प्रयास करना राजद्रोह का मामला है।

    congress
    एसओजी ने एफआई आर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एसओजी ने उन फोन नंबरों के जरिए हुई बातचीत के आधार पर आईपीसी की धारा 124A और 120B के तहत एफआईआर दर्ज की है। माना जा रहा है कि विधायकों के खरीद-फरोख्त के मामले में एसओजी में एफआईआर दर्ज होने के बाद अब विधानसभा के मुख़्य सचेतक महेश जोशी के भी बयान दर्ज किए जाएंगे।

    राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार गिराने की ​साजिश!, SOG ने दर्ज की एफआईआर

    भारत में अमेरिका का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 40 अरब डॉलर के पार पहुंचा :यूएसआईएसपीएफ

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    eight-member team, headed by SP Vikas Sharma of CID-CB Jaipur, has been constituted to investigate the matter related to Rajasthan political crisis
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X