• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नौकरी की तलाश कर रहे प्रवासियों के लिए सोनू सूद ने लॉन्‍च किया ये ऐप, रोजगार दिलाने में करेगा मदद

|

मुंबई। कोरोना महामारी के बीच किए गए देशव्‍यापी लॉकडाउन के दौरान एक्‍टर सोनू सूद हजारों प्रवासियों को उनके घर पहुंचा चुके हैं। जिसकी वजह से सोनू सूद लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। महामारी के बीच प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने सोनू सूद ने अब प्रवासियों को रोजगार दिलाने के लिए प्रवासी रोज़गार' नामक एक मुफ्त ऑनलाइन प्‍लेटफार्म की शुरुआत की है जो प्रवासियों को नौकरी संबंधी आवश्‍यक जानकारी देगा और उन्‍हें रोजगार दिलवाने में मदद करेगा।

प्रवासी रोजगार ऐप ऐसे करेगा मदद

प्रवासी रोजगार ऐप ऐसे करेगा मदद

अभिनेता सोनू सूद ने बुधवार को देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी के अवसर खोजने के लिए श्रमिकों को सहायता देने के लिए एक ऐप लॉन्च किया। सोनू सूद का ये 'प्रवासी रोज़गार' नामक इस मुफ्त ऑनलाइन ऐप प्रवासियों को रोजगार संबंधी आवश्यक जानकारी और जॉब से संबंधित सही लिंक प्रदान करेगा। ये ऐप देशभर के विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर ढूंढने वाले श्रमिकों की मदद करेगा।

सोनू सूद दिलाना चाहते हैं महामारी के बीच श्रमिकों को रोजगार

सोनू सूद दिलाना चाहते हैं महामारी के बीच श्रमिकों को रोजगार

47 वर्षीय अभिनेता ने कहा कि प्रवासियों को जब वह घर भिजवा रहे थे तो उनके दिमाग में हमेशा ये सवाल उठता था कि ये प्रवासी इस महामारी के बीच कैसे रोजगार तलाश पाएंगे। सवाल अक्सर महामारी में रोजगार के अवसरों पर ही आकर रुकती थीं। उन्‍होंने बताया कि पिछले कुछ महीनों से हम इसके बारे में योजनाएं बना रहे थे ताकि हम यह सुनिश्चित कर पाएं कि इसमें वही रोजगार जुड़े जो काम हमारे देश में फिलहाल चल रहा है। उन्‍होंने बताया कि बहुत सोच समझ के साथ ये योजना शुरु की है। ताकि प्रवासियों के लिए रोजगार सुनिश्चित करने में मदद मिल सके।

प्रवासियों को रोजगार देने में ये संगठन करेंगे सहयोग

प्रवासियों को रोजगार देने में ये संगठन करेंगे सहयोग

एक्‍टर सोनू सूद ने कहा कि इसके लिए पहले उन्‍होंने "शीर्ष संगठनों के साथ व्यापक विचार-विमर्श किया गया है,जो निचले स्तर के युवाओं को गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाल लोगों को नौकरी दे सकते हैं। उन्‍होंने बताया कि इसके लिए गैर सरकारी संगठनों, परोपकारी संगठनों, सरकारी अधिकारियों, रणनीति सलाहकारों, प्रौद्योगिकी स्टार्ट अप्स से इन्‍हें रोजगार देने के लिए पैरवी की। उन्‍होंने कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों में प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार के सही अवसर खोजने के लिए गाँवों में सामुदायिक आउटरीच द्वारा इस पहल का समर्थन किया जाएगा।

 24x7 हेल्पलाइन भी शुरु की गई है

24x7 हेल्पलाइन भी शुरु की गई है

सोनू सूद द्वारा लांच गए इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से परिधान, स्वास्थ्य सेवा, इंजीनियरिंग, बीपीओ, सुरक्षा, ऑटोमोबाइल, ई-कॉमर्स और लॉजिस्टिक्स क्षेत्रों से जुड़ी 500 से अधिक प्रतिष्ठित कंपनियां हैं, जो नौकरी के अवसर प्रदान करती हैं। 'प्रवासी रोज़गार 'विशिष्ट अंग्रेजी बोलने के लिए विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रमों भी चलाएगा। इसके लिए नई दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोयम्बटूर, अहमदाबाद और तिरुवनंतपुरम में 24x7 हेल्पलाइन भी शुरु की गई है।

तेलंगाना सरकार ने गलवान घाटी में शहीद कर्नल संतोष बाबू की पत्‍नी संतोषी को दी सरकारी नौकारी, बनाया डिप्‍टी कलेक्‍टर

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sonu Sood launches App for migrants, this app offer support to workers in finding right job opportunities
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X