• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा पटाखों पर प्रतिबंध, वाहनों पर उपकर के अदालती फैसलों से लगता है जूडिशरी का हस्‍तक्षेप बढ़ा है

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली। देश के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि पटाखों पर प्रतिबंध और दिल्ली में वाहनों पर लगए जा रहे उपकर संबंधी अदालत के फैसले को देखकर लगता है कि न्‍यायपालिका का हस्‍तक्षेप बहुत बढ़ गया है। नायडु ने पटाखों पर बैन के कोर्ट के फैसले और न्‍यायाधीशों की नियुक्ति में कार्यपालिका को भूमिका देने से इनकार करने का उदाहरण दिया उन्‍होंने कहा "कभी-कभार, इस पर चिंता जताई गई है कि क्या वे (न्यायपालिका) डोमेन में प्रवेश कर रहे थे।

naidu

उपराष्ट्रपति ने ये बात भारतीय विधायी निकायों के 80 वें पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में कही। 'विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के बीच सौहार्दपूर्ण समन्वय - जीवंत लोकतंत्र की कुंजी' विषय पर आयोजित इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए ये बातें कही। पहली बार है जब संसद के दोनों सदनों के पीठासीन अधिकारी ने इस मुद्दे पर टिप्पणी की है। नायडू राज्यसभा के पीठासीन अधिकारी हैं। उन्‍होंने कहा विधायिका , कार्यपालिका और न्‍यायपालिका संविधान के तहत परिभाषित अपने अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत काम करने के लिए बाध्‍य है।

दुर्भाग्य से ऐसे कई उदाहरण हैं जब सीमाएं लांघी गईं

नायडू ने कहा विधायिका, कार्य पालिका औरन्‍यपालिका ये तीनों अंग एक दूसरे के कार्यों में हस्‍तक्षेप के बिना कार्य करते हैं और सौहाई बना रहता है। इसमें आपसी सम्म्मान, जवाबदेही और धैर्य की जरूरत होती है। नायूड ने अफसोस जताते हुए कहा दुर्भाग्य से ऐसे कई उदाहरण हैं जब सीमाएं लांघी गईं। उन्‍होंने ऐसे कई न्यायिक फैसले किए गए जिसमें हस्तक्षेप का मामला लगता है। 'स्वतंत्रता के बाद से उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय ने ऐसे कई फैसले दिए जिनका सामाजिक-आर्थिक लक्ष्यों पर दूरगामी असर हुआ। इसके अलावा इसने हस्तक्षेप कर चीजें ठीक की।

ओम बिरला की अध्यक्षता में आयोजित किया गया ये सम्मेलन
भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सम्मेलन का उद्घाटन किया। आठ महीने से अधिक समय के बाद उनका पहला सार्वजनिक कार्यक्रम केवडिया गुजरात में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को पीठासीन अधिकारियों को संबोधित करने से पहले कार्य सत्रों की एक श्रृंखला देखेंगे।

भारतीय संविधान के तहत किसी भी विंग का वर्चस्व नहीं है

इस बात पर बहस हुई है कि क्या कुछ मुद्दों को सरकार के अन्य अंगों पर अधिक वैध रूप से छोड़ दिया जाना चाहिए था। नायडू ने कुछ उदाहरण देते हुए कहा दीपावली में आतिशबाजी पर प्रतिबंध, दिल्ली के माध्यम से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से वाहनों के पंजीकरण और संचालन पर उपकर, 10 या 15 साल पुराने वाहनों के उपयोग पर प्रतिबंध, पुलिस जांच की निगरानी करना,न्यायपालिका कलीजियम के माध्यम से जजों की नियुक्ति में कार्यपालिका को भूमिका देने से इनकार कर देती है। जिसे एक अतिरिक्त संवैधानिक निकाय कहा जाता है; पारदर्शिता और जवाबदेही (न्यायिक नियुक्तियों में) को सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग अधिनियम को अवैध ठहराते हुए न्यायिक अतिरेक के उदाहरणों के रूप में उद्धृत किया जा रहा है, "उन्होंने कहा, भारतीय संविधान के तहत किसी भी विंग का वर्चस्व नहीं है।

सीमाओं को पार करने के कई उदाहरण हैं

नायडू ने विधायी और कार्यकारी ज्यादतियों के उदाहरणों का हवाला दिया जैसे कि अधीनस्थ कानून के तहत नियम मूल कानून के प्रावधानों का उल्लंघन करना या कार्यकारी द्वारा अधिकारों और स्वतंत्रता का उल्लंघन करना ।" उन्होंने विधायी अति-सक्रियता के रूप में न्यायिक जांच के दायरे से परे राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधान मंत्री के चुनाव में संविधान के 39 वें संशोधन का भी उल्लेख किया। नायडू ने निष्कर्ष निकाला कि भारतीय राज्य के तीन विंग के बीच एक सौहार्दपूर्ण संबंध "परस्पर सम्मान, जिम्मेदारी और संयम की भावना का वारंट करता है। दुर्भाग्य से, सीमाओं को पार करने के कई उदाहरण हैं।

समस्या तब होती है जब विधायिका उन गलतियों को ठीक करने में विफल हो जाती है

वरिष्ठ अधिवक्ता राज पंजवानी ने कहा कि विधायिका के पास "उन सभी गलतियों या कार्यों को सही करने के लिए जगह है जो समाज के लिए हानिकारक हैं।""विधायिका और कार्यकारी कार्यों की वैधता और क्षमता का परीक्षण करने के लिए न्यायपालिका की भूमिका सीमित है। समस्या तब होती है जब विधायिका उन गलतियों को ठीक करने में विफल हो जाती है जो बड़े पैमाने पर समाज के लिए खतरा है और किसी के मौलिक अधिकारों के लिए भी। यह इस परिदृश्य में है, विधायिका के साथ-साथ कार्यपालिका की विफलता के कारण त्वरित और उचित कार्रवाई करने के लिए, विशेष रूप से पर्यावरण से संबंधित मुद्दों के साथ, संविधान न्यायपालिका को इस निष्क्रियता के कारण होने वाले शून्य को भरने का अधिकार देता है।

अमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाबअमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाब

English summary
Some court rulings suggest judicial intervention has increased: Vice President
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X