• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Surya Grahan 2020: 'खंडग्रास' सूर्य ग्रहण आज , जानिए वैज्ञानिक क्यों है बहुत खुश?

|
Google Oneindia News

Surya Grahan 2020: साल का आखिरी सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) आज है, जिसे कि 'खंडग्रास सूर्य ग्रहण' कहा जा रहा है। 5 घंटे का ये ग्रहण फिलहाल इंडिया में दिखाई नहीं देखा क्योंकि जिस वक्त ये ग्रहण लग रहा है उस वक्त भारत में रात होगी और इस वजह से भारतवासी इस अद्भुत खगोलीय घटना के साक्षी नहीं बन पाएंगे।

    Solar Eclipse 2020: 14 December को लगने वाला है Surya Grahan, जानें क्या होगा असर ? । वनइंडिया हिंदी
    ग्रहण जैसी घटनाओं का होता है इंतजार

    ग्रहण जैसी घटनाओं का होता है इंतजार

    आपको बता दें कि सू्र्य ग्रहण वैज्ञानिकों के लिए एक उत्सव की तरह होता है क्योंकि इस वक्त ही अंतरिक्ष में बहुत सारी विचित्र और अनोखी घटनाएं घटित होती हैं, जिन पर वैज्ञानिक शोध करते हैं, इस कारण ही ग्रहण जैसी घटनाओं का वैज्ञानिक इंतजार करते हैं।

    यह पढ़ें:Surya Grahan 2020: 14 दिसंबर को लगेगा साल का आखिरी 'सूर्य ग्रहण', क्यों कहा जा रहा है इसे 'खंडग्रास'?यह पढ़ें:Surya Grahan 2020: 14 दिसंबर को लगेगा साल का आखिरी 'सूर्य ग्रहण', क्यों कहा जा रहा है इसे 'खंडग्रास'?

    सूर्य ग्रहण का समय

    सूर्य ग्रहण का समय

    भारतीय समायानुसार 14 दिसंबर को शाम 07:03 से ग्रहण प्रारंभ होगा और रात्रि 12:23 बजे समाप्त होगा।

    कहां-कहां दिखेगा

    ये सू्र्य ग्रहण दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर के कुछ इलाकों, मैक्सिको सऊदी अरब, कतर, सुमात्रा, मलेशिया, ओमान, सिंगापुर, नॉर्थन मरिना आईलैंड और श्रीलंका में देखा जा सकेगा। फिलहाल ये ग्रहण भारत में तो नजर नहीं आएगा लेकिन भारतवासी नासा की वेबसाइट पर इसका लाइव प्रसारण देख सकते हैं।

    रखना होता है इन बातों का खास ख्याल

    रखना होता है इन बातों का खास ख्याल

    • सूर्य ग्रहण को कभी भी नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए क्योंकि ग्रहण के वक्त बहुत सारी हानिकारिक पराबैंगनी किरणें निकलती हैं, जो कि इंसान की आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं।
    • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को खास सावधानियां बरतनी चाहिए क्योंकि पराबैंगनी किरणें गर्भ में पल रहे शिशु के लिए सही नहीं होते हैं।
    • सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर्स का इस्तेमाल करना चाहिए।
    क्या होता है 'रिंग ऑफ फायर'

    क्या होता है 'रिंग ऑफ फायर'

    जब 'पूर्ण सूर्य ग्रहण 'लगता है तो चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से छिपा लेता है। वहीं जब 'आंशिक सूर्य ग्रहण' लगता है तो चंद्रमा से सूर्य का कोई एक हिस्सा छिप जाता है। इसके अलावा जब 'वलयाकार सूर्य ग्रहण' लगता है तो चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को ढंक नहीं पाता है। जिससे सूरज के किनारों से एक रोशनी पृथ्वी पर पड़ती है। उस वक्त सूर्य 'रिंग ऑफ फायर' के रूप में दिखाई देता है। इस स्थिति में चंद्रमा धरती से काफी दूर होता है।

    यह पढ़ें: Nastredamus Predictions 2021: साल 2021 को लेकर नास्त्रेदमस ने की ये भविष्यवाणियांयह पढ़ें: Nastredamus Predictions 2021: साल 2021 को लेकर नास्त्रेदमस ने की ये भविष्यवाणियां

    English summary
    The year 2020 is all set to witness to its last Solar Eclipse or Surya Grahan on December 14. The solar eclipse on December 14 will not be visible from India but Scientist are Very happy, here is the reasons.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X