• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जल्द ट्रेन के AC कोच में मिलेगा मुलायम, हल्का और साफ कंबल

|

नई दिल्ली। भारतीय रेल लगाातार सुधार की दिशा में बढ़ रहा है। ट्रेन में मिलने वाले बेड रोल को लेकर रेलवे के पास लगातार शिकायतें आ रही थीं, जिसके बाद अब रेलवे ने इस दिशा में बड़ा बदलाव किया है। रेलवे ने ट्रेन के एसी कोोच में मिलने वाले बेडरोल की गुणवत्ता को सुधारने की बात कही है। रेलवे बोर्ड ने कहा है कि एसी कोच में अब मुलायम, साफ और हल्के कंबल मिलेंगे।

 Softer, lighter, cleaner blankets in AC coaches soon: Rail Board

रेलवे बोर्ड ने संशोधित ब्यौरे में कहा है कि ट्रेन के एसी डिब्बों में यात्रियों को दिया जाने वाला कंबल अब साफ और मुलायम होगा। वो पहले से हल्का होगा। कंबल ग्रीस, साबुन और अन्य मिश्रण से मुक्त रहेगा। अब रेलवे के एसी कोच में ऊनी कंबल के बजाए फाइबर मिक्स कंबल दिए जाएंगे। जिसमें 60 फीसदी ऊन और 15 फीसदी नाइलॉन होगा। इन कंबलों का वजह 450 ग्राम के आसपास होगा।

इन कंबलों के चारों ओर साटिन पाइपिंग होगी। रेलवे बोर्ड द्वारा दिए गए निर्देश के मुताबिक इन कंबलों को महीने में 2 बार धुला जाएगा। जिससे इसकी लाइफ दो साल की रह जाएगी। वर्तमान में रेलवे में मिलने वाले कंबल छोटे होते हैं, जिनका वजन 2.2 किलोग्राम का होता है।ये कंबल 2 महीने में एक बार धुलते हैं। गौरतलब है कि रेलवे में बोडरोल को लेकर CAG ने रेलवे को फटकार लगाई थी।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Passengers travelling in air-conditioned coaches of trains can now wrap themselves up in soft and clean blankets of superior quality, according to revised specifications issued by the Railway Board.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more