• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

स्मृति ईरानी बोलीं-ट्रैक्टर पर सोफा लगाकर बैठने वाले राहुल कभी नहीं चाहेंगे किसानों का भला

|

गांधीनगर। गुजरात भाजपा कार्यालय कमलम में केंद्र सरकार के कृषि व एपीएमसी बिल पर पत्रकारों से चर्चा के दौरान केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत अन्य विपक्षी दलों पर करारा हमला बोला। स्मृति ईरानी ने कहा कि, किसान को बिचौलियों से आजाद होता देख कांग्रेस का नेतृत्व तिलमिला उठा क्योंकि वर्षों किसान को बिचौलियों के सम्मुख बांधकर कांग्रेस की राजनीति चलती रही। कानून के अनुसार किसान को फसल की राशि का भुगतान तुरंत या ज्यादा से ज्यादा तीन दिन के भीतर मिलेगा ।

Smriti Irani says Rahul Gandhi does not want farmers to be free for middlemen
    Rahul Gandhi ने नोटबंदी, GST से लेकर Corona Crisis तक Modi सरकार पर यूं किया वार | वनइंडिया हिंदी

    स्मृति ईरानी ने कहा कि, ये दुर्भाग्य का विषय है की जब राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में क्रांति लानेवाले ऐतिहासिक कदम उठाए जा रहे थे, देश के किसान को सशक्त करने के लिए संसद में जो बिल लाए गए ऐसे समय कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व संसद के सदन से गायब था। कृषि सुधार बिल राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में क्रांति लाने के लिए एक सशक्त कदम है। आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना में यह बात सुनिश्ति है की देश के किसानों को समृद्ध बनाया जाए।

    ईरानी ने कहा कि, कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने कृषि क्षेत्र में क्रांति के लिए लाए गए बिलो को जिस प्रकार से कलंकित करने का दुस्साहस किया हे वो अपने आप में निंदनीय है। जो व्यक्ति एक सोफा लगाकर ट्रैक्टर में बिराजमान है ऐसा वीआईपी किसान कभी भी उस व्यवस्था को समर्थन नहीं देगा, जो व्यवस्था छोटे और साधारण किसान को बिचौलियो से मुक्त करता हो। देश का किसान सही मायने में स्वतंत्र रूप से न सिर्फ अपनी फसल को उगाए बल्कि जिसको बेचना चाहता है, जीतनी कीमत पर बेचना चाहता है वो आज़ादी देश के किसानो को देने के लिए गुजरात भाजपा की पूरी प्रदेश की टीम की और से में प्रधानमंत्री श्री का विशेष अभिनंदन करती हूँ।

    केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, किसान को समर्थन देने का कानून राहुल गांधी के लिए काला कानून है, किसान को आजाद करने वाला कानून राहुल गांधी के लिए काला कानून है, किसान अपनी फसल अपनी मर्जी से बेचे तो वह राहुल गांधी के लिए काला दिन है, किसान की जमीन अगर सुरक्षित हो, किसान की सुरक्षा राहुल गांधी के लिए काला दिन है। संसद के सत्र में जो कृषि बिल पारित हुए उसकी वजह से आज़ाद हिंदुस्तान में पहली बार देश का किसान सही मायने में आज़ाद हुआ। अब देश के किसानो के पास ये आज़ादी है की वो राष्ट्र के किसी भी प्रदेश में, किसी भी शहर, गांव, व्यक्ति या संगठन को अपनी फसल बेच सकता है।

    ईरानी ने कहा कि, जिस देश में इंसान की हेल्थ की चिंता नहीं की कांग्रेस पार्टी ने , उस देश में नरेन्द्र मोदीजी ने किसानों की ज़मीन की हेल्थ की चिंता करते हुए गत 5 सालो में 11 करोड 90 लाख सोईल हेल्थकार्ड सुनिश्चित किए। देश में ये पहली बार हुआ। आज देश में एक ऐसा प्रधानमंत्री है जिसका संकल्प मात्र यह है की जिस हाथ ने वर्षो वर्ष तक भारत की तिजोरी को लुटा वो हाथ भारत की तिजोरी को नहीं कब्ज़ा पाएगा। भारत की तिजोरी से निकला पैसा सीधे भारत के नागरिक और किसान के खाते में जाएगा।

    डीके शिवकुमार के घर पड़ा छापा, कांग्रेस बोली- CBI मोदी-येदियुरप्पा के हाथों की कठपुतली

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Smriti Irani says Rahul Gandhi does not want farmers to be free for middlemen
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X