• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी पर शरद पवार का तंज, आत्म सम्मान वाला व्यक्ति इस्तीफा दे देता

|

उस्मानाबाद। महाराष्‍ट्र की अघाड़ी गठबंधन सरकार और महाराष्‍ट्र राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी के बीच मंदिर को खोलने को लेकर शुरु हुई जुबानी जंग थमने का नाम ही नहीं ले रही है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर एक बार फिर तंज कसा है। राकांपा सुप्रीमों शरद पवार ने राज्‍यपाल द्वारा राज्य के पूजा स्थलों को फिर से खोलने को लेकर पिछले दिनों मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र को लेकर ये पलटवार किया है।

ncp

बता दें सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक चैनल को दिए गए इंटरव्‍यू में कहा कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पुरानी बातों को रिफ्रेन्‍स के तौर पर प्रयोग किया और मुझे भी लगता है कि अगर उन्‍होंने शब्दों का चयन थोड़ा टाला होता तो अच्‍छा रहता। जिसके बाद मंगलवार को उस्‍मानाबाद में शिवसेना के सहयोगी पवार ने कहा कि "अगर स्वाभिमान वाला कोई भी व्यक्ति होता तो अब तक अपना इस्‍तीफा दे चुका होता।

ncp

उस्‍मानाबाद में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने के बाद पवार ने संवाददाताओं से कहा राज्‍यपाल के द्वारा पत्र में प्रयोग की गई भाषा पर केंद्रीय गृह मंत्री ने भी निराशा व्‍यक्‍त की हैं। पवार ने कहा कि इसके बाद यदि कोई भी व्यक्ति आत्मसम्मान के साथ इस पद पर बने रहने या न रहने का आह्वान करेगा।" शरद पवार ने आगे कहा कि "अगर केंद्रीय गृह मंत्री ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली भाषा पर चिंता जताई है, तो यह महत्वपूर्ण है। बता दें गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को News18 को बताया कि "(भगत सिंह) कोश्यारी अपने शब्दों को बेहतर तरीके से चुन सकते थे"।

amitsaah

पिछले सोमवार को, राज्यपाल ने उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा, जिसमें उन्हें "कोविड सावधानियों के साथ पूजा स्थलों को फिर से खोलने" की घोषणा करने का अनुरोध किया गया था। जिसमें राज्यपाल ने ठाकरे को लिखा था कि आप हिंदुत्व के एक मजबूत मतदाता रहे हैं। आपने मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद अयोध्या जाकर भगवान राम की सार्वजनिक रूप से भक्ति की वकालत की थी। आप पंढरपुर में विठ्ठल रुक्मिणी मंदिर गए थे और आषाढ़ी एकादशी पर पूजा की थी। "मुझे आश्चर्य है कि यदि आपको पूजा के समय और स्थान को फिर से खोलना जारी रखने के लिए कोई दैवीय प्रीमियर प्राप्त हो रहा है या आपने खुद से 'एक धर्मनिरपेक्ष' शब्द बदल दिया है, तो क्या आप नफरत करते हैं?"

governer

जिसके बाद ठाकरे ने उसी दिन राज्यपाल कोश्यारी पर निशाना साधते हुए कहा था कि उनके हिंदुत्व को राज्यपाल या किसी से भी प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है और वह सावधानी से विचार करने के बाद निर्णय लेंगे। उन्होंने मराठी में लिखा- "आपने कहा कि मुझे दिव्य प्रेम मिल रहा है; हो सकता है कि आप उन्हें प्राप्त करें लेकिन मैं इतना बड़ा नहीं हूँ। " ठाकरे के समर्थन में राकांपा सुप्रीमों 79 वर्षीय, शरद पवार ने भी मोर्चा लिया उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि वह राज्यपाल द्वारा इस्तेमाल की गई भाषा पर "हैरान हैं। महाराष्ट्र दूसरा विपक्षी शासित राज्य है जहाँ एक राजनीतिक रूप से सक्रिय राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को निशाने पर लिया है। पश्चिम बंगाल में, राज्यपाल जगदीप धनखड़ ममता बनर्जी की सरकार के अथक आलोचक रहे हैं और उन्होंने सोशल मीडिया पर इसे स्पष्ट किया है।

अमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाब

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sharad Pawar's taunt on Maharashtra's Governor Koshyari,Self respecting person resigns
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X