• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना वायरस से जुड़ा घातक सिंड्रोम, जो बच्चों के लिए है जानलेवा

|

नई दिल्ली। चीन से दुनियाभर में फैला कोरोना वायरस 10 महीने बाद भी रहस्य बना हुआ है। वैज्ञानिक समुदाय सार्स-कोव-2 नामक एक नए कोरोना वायरस के रहस्यों को जानने में व्यस्त है। क्योंकि, एक ही वायरस से संक्रमित दो व्यक्तियों में अलग-अलग लक्षण देखने को मिल रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग एसिम्टोमैटिक हैं। जिनमें आमतौर पर कोविड -19 के साथ कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। लेकिन कुछ समय बाद उनके लक्षण दिखाई देते हैं। इसके पीछे एक सिड्रोंम के होने का पता चला है। विशेषज्ञ इस पर अध्ययन कर रहे हैं।

इसका नाम है- मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम

इसका नाम है- मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम

इसे मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम कहा जाता है। यह पहली बार बच्चों और छोटे लोगों में देखा गया था, और इसलिए इसे एमआईएस-सी (मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम - बच्चों में) नाम दिया गया था। चिकित्सा विज्ञान की भाषा में कहा जाए तो ये मरीज 21 साल से कम उम्र के हैं। बाद के अध्ययनों में वयस्कों में समान सिंड्रोम पाया गया। इसलिए इसे एमआईएस-सी (मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम - वयस्कों में) नाम दिया गया। चूंकि बड़ी संख्या में बच्चों और युवा वयस्कों ने कहा कि उन्हे कोविड -19 संक्रमण के दौरान श्वसन से संबंधित को कोई दिक्कत नहीं आई। इसलिए महीनों तक एमआईएस-सी पर किसी का ध्यान नहीं गया।

ये हैं इसके लक्षण

ये हैं इसके लक्षण

अब, अमेरिका में शोधकर्ताओं ने कोविड-19 से संबंधित लक्षणों के स्पेक्ट्रम का अध्ययन किया है। इसमें कोरोनरी संक्रमण के कारण एमआईएस-सी के शुरुआती लक्षणों में बुखार, शरीर पर चकत्ते, पेट में दर्द, दस्त, मतली और उल्टी शामिल हैं। कोविड-19 के कारण एमआईएस-सी के साथ समस्या यह है कि यह कुछ ही घंटों में गंभीर सूजन में विकसित होने लगती है। जिसमें मरीज को आईसीयू में ले जाना पड़ता है। यूएस सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि 21 साल से कम उम्र के अधिकांश युवाओं की मृत्यु MIS-C के कारण हुई है।

सिड्रोम के लक्षण डॉक्टरों को कर देते हैं भ्रमित

सिड्रोम के लक्षण डॉक्टरों को कर देते हैं भ्रमित

सीडीसी की एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड-19 संक्रमित हुए, तो इसमें एमआईएस-ए के बारे में विस्तार से बात की गई। इस रिपोर्ट में कहा गया कि, कोविड -19 रोगियों में गंभीर श्वसन लक्षण दिखे बिना गंभीर बीमारियों का विकसित हो जाती हैं। ये बीमारियाँ "कार्डियोवस्कुलर, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल, डर्माटोलोगिक और न्यूरोलॉजिकल लक्षण" दिखाती हैं। अब, कुछ वैज्ञानिकों ने ऐसे लिंक का पता चला है जिसमें शरीर और SARS-CoV-2के बीच की अहम रिएक्शन देखने को मिला है। उन्होंने पाया कि जिन मरीजों में अचानक गंभीर बीमारियों का विकास हुआ, खासकर बच्चों और युवा वयस्कों में बायोमार्कर का स्तर अधिक होता है जो सूजन के स्तर को दर्शाता है। बायोमार्कर रक्त परीक्षण में पाए जाने वाले प्रोटीन हैं।

टी कोशिकाओं पर होता है हमला

टी कोशिकाओं पर होता है हमला

ऐसे रोगियों को अक्सर पेट में तेज दर्द की शिकायत होती है। दर्द रोगी और यहां तक कि डॉक्टरों को भी भ्रमित कर सकता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि ये प्रतिक्रियाएं SARS-CoV-2 के गोलाकार शरीर के स्पाइक्स पर पाए जाने वाले ACE2 प्रोटीन से संबंधित हैं। वैज्ञानिकों ने अब पाया है कि सार्स-कोव-2 कोरोना वायरस के स्पाइक्स में से एक सुपर एंटीजन नामक बैक्टीरिया के विष से मिलता जुलता है। ये वे प्रोटीन हैं जो टी कोशिकाओं से अत्यधिक प्रतिक्रिया उत्पन्न करते हैं। टी कोशिकाएं शरीर की रक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

फरवरी 2021 तक भारत की आधी आबादी कोरोनावायरस से संक्रमित हो सकती हैः रिपोर्ट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Scientists found Covid 19 causing coronavirus, SARS-CoV-2 carries a super antigen
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X