• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पिता की अर्जित संपत्ति पर बेटियों को पूरा अधिकार, चचेरे भाइयों को नहीं मिलेगी वरीयता

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 21 जनवरी। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को अपने अहम फैसले में कहा कि हिंदू धर्म में अगर पिता की मृत्यु होती है और उसने मृत्यु से पहले वसीयत तैयार नहीं की है तो बेटी को उसके पिता द्वारा अर्जित की संपत्ति में अधिकार होता है और वह खुद से इस संपत्ति के लिए अधिकृत हो जाती है। कोर्ट ने कहा कि ऐसी बेटियों को परिवार के अन्य सदस्य जैसे बेटा, चाचा की बेटियों पर वरीयता मिलेगी। कोर्ट ने यह फैसला हिंदू उत्तराधिकार एक्ट के तहत हिंदू महिला और विधवा के जमीन से जुड़े अधिकार की सुनवाई के दौरान सुनाया।

sc

जस्टिस एस अब्दुल नजीर और कृष्णा मुरारी की बेंच ने 51 पन्नों के अपने फैसले में कहा कि अगर हिंदू पुरुष की मृत्यु बिना वसीयत तैयार किए होती है तो उसके द्वारा अर्जित की गई संपत्ति का उत्तराधिकारी सबसे पहले बेटी होगी। बेटी को चाचा के बेटे और बेटी से पहले वरीयता मिलेगी। यही नहीं अगर महिला की मृत्यु बिना विरासत के होती है तो उसने जो संपत्ति पिता से अर्जित की है वह संपत्ति पिता के वारिस को जाएगी और यदि महिला ने अपने ससुर या पति के द्वारा कोई संपत्ति अर्जित की है और उसकी मृत्यु बिना वसीयत के होती है तो संपत्ति का अधिकार पति के वारिस को होगा।

इसे भी पढ़ें- जानें 1972 से इंडिया गेट पर जल रही अमर जवान ज्योति का इतिहास, आज से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगी मशालइसे भी पढ़ें- जानें 1972 से इंडिया गेट पर जल रही अमर जवान ज्योति का इतिहास, आज से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगी मशाल

कोर्ट ने यह फैसला मद्रास हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुनवाई के दौरान सुनाया। मद्रास हाई कोर्ट ने अपने फैसले में बेटी के संपत्ति के अधिकार के दावे को खारिज कर दिया था। जिसके बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि चूंकि पिता की जिस संपत्ति पर बेटी ने दावा किया है वह पिता ने खुद से अर्जित की है और पिता की एक मात्र संतान बेटी है। लिहाजा बेटी के पिता की संपत्ति दूसरे को नहीं जा सकती है। कोर्ट ने कहा कि हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 1956 की धारा 15(2) का मूल भाव यही है कि संपत्ति उसी स्त्रोत को वापस मिल जाए। अगर महिला के पति या बच्चे हैं तो संपत्ति उन्हीं को जाएगी। कोर्ट ने महिला की याचिका को स्वीकार करते हुए मद्रास हाई कोर्ट के फैसल को खारिज कर दिया।

Comments
English summary
SC says daughters have right to get earned property of her father
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X