• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

वोटर को मिला 'राइट टू रिजेक्ट' का आधिकार, वोटिंग मशीन में होगा 'कोई नहीं' का विकल्प

|
Google Oneindia News

electronic voting machines
नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2014 और पांच राज्यों में होने वाले आगामी चुनाव से पहले सुप्रीम कोर्ट ने देश के मतदाताओं को बड़ी सौगात दी है। कोर्ट ने वोटरों को राइट टू रिजेक्ट का अधिकार दे दिया है। इस तौहफे के साथ ही लोगों को मनमानी और तानाशाही दिखाने वाले जनप्रतिनिधियों को नकारने का मौका मिल गया है।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के साथ ही लोग अब अपनी वोट की ताकत का बेबाक तरीके से इस्तेमाल कर सकेंगे। दागी छवि और भ्रष्टाचार में लिप्त नेताओं पर पूरी तरह अंकुश लगाया जा सकेगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से जनता को मान के साथ सम्मान भी मिलेगा।

कोर्ट के इस फैसले के बाद ईवीएम मशीन में तीन बटन होंगे। जिसमें से एक ईवीएम मशीन में 'कोई नहीं' का बटन भी होगा। यानी अगर वोटर को को कोई उम्मीदवार से संतुष्ट न हों तो 'कोई नहीं' का बटन दबाकर अपना विरोध जता सकेंगे। कोर्ट ने चुनाव आयोग को इस संबंध में प्रावधान तैयार करने का निर्देश दिया है।

कोर्ट ने अपने फैसले के ससामने दलील दी कि उम्मीदवारों को वोट खारिज करना उनकी अभिव्यक्ति का मूल अधिकार है। ऐसे में राइट टू रिजेक्ट आने से राजनीतिक दल ईमानदारी से काम करेंगे।

English summary
The SC directed the Election Commission to introduce a button providing for None of the Above in EVMs and also in the ballot papers in order for the voters to exercise their right to reject undeserving candidates in the election.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X