• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

SBI ने 3 साल बाद ब्याज दर बढ़ाई, आपकी होम, पर्सनल और ऑटो लोन की EMI पर क्या असर पड़ेगा ? जानिए

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 19 अप्रैल: भारतीय स्टेट बैंक ने सभी तरह के लोन पर ब्याज दरों से संबंधित एमसीएलआर में 10 बेसिस प्वाइंट का इजाफा कर दिया है। मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) में यह बढ़ोतरी सभी तरह की रिटेल और संस्थागत लोन पर की गई है। नई ब्याद दरें 15 अप्रैल से ही प्रभावी होंगी। देश के सबसे बड़े ऋणदाता के इस फैसले से सभी तरह के लोन लेने वालों की ईएमआई बढ़ेगी, चाहे वह होम लोन हो या फिर ऑटो या पर्सनल लोन। सबसे बड़ी बात है कि एसबीआई का ब्याज दर बढ़ाने का फैसला दूसरे बैंकों को भी यह कदम उठाने की ओर प्रेरित करेगा।

एसबीआई ने कर्ज पर ब्याज दरें बढ़ाईं

एसबीआई ने कर्ज पर ब्याज दरें बढ़ाईं

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई ) ने भले ही सबसे ताजा मौद्रिक नीति की बैठक में रेपो रेट नहीं बढ़ाया हो, लेकिन देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) के आधार पर ब्याज दरें 10 बेसिस प्वाइंट बढ़ा दी हैं। एसबीआई ने ऐलान किया है कि सभी तरह की रिटेल और संस्थागत ऋणों पर एमसीएलआर 10 बेसिस प्वाइंट महंगा हो जाएगा। यह इजाफा 15 अप्रैल से प्रभावी होगा। एक बेसिस प्वाइंट 0.10 के बराबर होता है और हम जानेंगे कि इससे आपकी ब्याज और ईएमआई पर क्या असर पड़ेगा।

    SBI ने ग्राहकों को दिया झटका, Home Loan, Car Loan हुआ महंगा | वनइंडिया हिंदी
    एसबीआई के किन ग्राहकों पर पड़ेगा असर?

    एसबीआई के किन ग्राहकों पर पड़ेगा असर?

    एसबीआई के फैसले से एमसीएलआर के तहत लिए गए सभी तरह के होम, पर्सनल और ऑटो लोन प्रभावित होंगे और सब महंगे हो जाएंगे। आरबीआई की गाइडलाइंस के मुताबिक एमसीएलआर बैंकों के लिए बेस रेट है। गौरतलब है कि आरबीआई ने रेपो रेट में बदलाव नहीं किया है, इसलिए एसबीआई के फैसले से ले ज्यादातर पुराने उपभोक्ता की ही ईएमआई बढ़ने की संभावना है। एसबीआई के लोन मामलों की समझ रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार अमित मिश्रा ने वन इंडिया से कहा है कि नए ऐलान से उन्हीं ग्राहकों पर असर पड़ेगा, जिनका लोन 1 अक्टूबर, 2019 से पुराना है। क्योंकि, इस तारीख के बाद से लोन रेपो रेट के आधार पर ही दिए जा रहे हैं। यही नहीं एसबीआई के पुराने ग्राहकों के पास अपना लोन एमसीएलआर से रेपो रेट में बदलने का भी विकल्प है। लेकिन, नए ग्राहक पुरानी लोन व्यवस्था को नहीं अपना सकते हैं।

    आप पर कितना बढ़ेगा बोझ ?

    आप पर कितना बढ़ेगा बोझ ?

    अब एसबीआई के फैसले से एमसीएलआर के तहत लिए जा रहे ब्याज दरों पर क्या असर पड़ेगा, इसे समझते हैं। ब्याज दर में 10 बेसिस प्वाइंट बढ़ोतरी का मतलब है कि एमसीएलआर के तहत आपकी ब्याज दर यदि अभी 6.65% है तो अब आपको 6.75% के हिसाब से भुगतान करना होगा और इसी दर पर आपकी ईएमआई तय होगी। इसी तरह जो 6.95% ब्याज दे रहे हैं, वो 7.05% और 7.30% वालों को 7.40% ब्याज देना होगा।

    इसे भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट ने दी आम्रपाली हाउसिंग प्रोजेक्ट में घर खरीदारों को बड़ी राहत, EMI चूकने पर नहीं लगेगी पेनल्टीइसे भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट ने दी आम्रपाली हाउसिंग प्रोजेक्ट में घर खरीदारों को बड़ी राहत, EMI चूकने पर नहीं लगेगी पेनल्टी

    दूसरे बैंकों पर भी पड़ेगा असर

    दूसरे बैंकों पर भी पड़ेगा असर

    एसबीआई का एमसीएलआर के तहत के तहत ब्याज दर बढ़ाने का फैसला यह संकेत है कि अब ऋणों पर ब्याज दर बढ़ने वाली हैं, जो कि उसने तीन साल बाद किया है। एसबीआई के बाद बाकी बैंक भी इसी तरह की घोषणाएं कर सकते हैं। पिछले हफ्ते ही बैंक ऑफ बड़ौदा ने सभी तरह की लोन पर 0.05% ब्याज दर बढ़ाई थी, जो कि 12 अप्रैल, 2022 से लागू है। बैंक ऑफ बड़ौदा देश का चौथा राष्ट्रीयकृत बैंक है।

    Comments
    English summary
    State Bank of India hikes interest rate on loans under MCLR, home loan, car loan, auto loan will be expensive
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X