• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

संयुक्त किसान मोर्चा 26 मई को मनाएगा ' 'ब्लैक डे', कृषि कानूनों के विरोध के 6 महीने होंगे पूरे

|

नई दिल्‍ली, 15 मई। संयुक्त किसान मोर्चा ने 28 मई को ब्लैक डे मानने का ऐलान किया है। इस संगठन में 40 से अधिक किसान संघ शामिल है। संगठन ने शनिवार को घोषणा की कि वह 26 मई को 'काला दिवस' के रूप में मनाएगा। ये ब्लैक डे केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर उनके विरोध के छह महीने पूरे होने के प्रतीक के तौर पर मानाया जाएगा।

    Farmers Protest: संयुक्त किसान मोर्चा 26 May को मनाएगा 'Black Day' | वनइंडिया हिंदी

    farmer

    एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में, किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने विवादास्पद कृषि कानूनों के विरोध में लोगों से 26 मई को अपने घरों, वाहनों और दुकानों पर काले झंडे लगाने की अपील की।

    26 नवंबर को दिल्‍ली के बॉडर पर किसानों ने शुरू किया था ये आंदोलन

    राजेवाल ने कहा 26 मई को, हम इस विरोध के छह महीने पूरे करेंगे और यह पीएम मोदी के सरकार बनने के सात साल पूरे होने पर भी हम ये करेंगे। हम उस दिन भी काला दिवस के रूप में मनाएंगे।" केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ अपने "दिल्ली चलो" मार्च के हिस्से के रूप में वाटर कैनन और पुलिस द्वारा लगाई गई बैराकेटिंग का सामना करने के बाद 26 नवंबर को बड़ी संख्या में किसान दिल्ली की सीमाओं पर पहुंचे। राष्ट्रीय राजधानी के आसपास टिकरी, सिंघू और गाजीपुर सीमाओं पर अगले महीनों में देश भर के हजारों किसान विरोध में शामिल हुए।

    6 मई को 'काला दिवस' में पीएम मोदी का पुतला जलाएंगे किसान

    राजेवाल ने लोगों से 26 मई को 'काला दिवस' मनाने के आह्वान का समर्थन करने की अपील की। ​​उन्‍होंने कहा "हम देश और पंजाब के लोगों से अपने घर, दुकानों, ट्रकों और अन्य वाहनों पर काले झंडे लगाने की अपील करते हैं। (पीएम) नरेंद्र मोदी के विरोध के रूप में हम पुतले भी जलाएंगे।

    PM-KISAN Samman Nidhi : PM मोदी ने 9.5 करोड़ किसानों को 20,000 करोड़ की राशि की ट्रांसफर, 8वीं किश्त जारीPM-KISAN Samman Nidhi : PM मोदी ने 9.5 करोड़ किसानों को 20,000 करोड़ की राशि की ट्रांसफर, 8वीं किश्त जारी

    राजेवाल ने कहा कि सरकार ने तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की किसान की मांगों को नहीं सुना है और उर्वरक, डीजल और पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के साथ, खेती व्यवसाय संभव नहीं है। किसान उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020, मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020 पर किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) समझौते की मांग को लेकर नवंबर 2020 से सैकड़ों किसान दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020 को वापस लिया जाए और फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी के लिए एक नया कानून बनाया जाए।

    https://www.filmibeat.com/photos/riya-sen-10865.html?src=hi-oiRiya Sen की Bikini तस्वीरों ने ढहाया कहर, देखें Hot Pics

    English summary
    Samyukta Kisan Morcha to observe "Black Day" on 26 May, 6 months completed of protest against farm laws
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X